10 जुलाई तक दिल्ली पहुंचेगा मानसून, पंद्रह साल में सबसे अधिक देरी हुई

विभाग ने कहा कि मौसमी आसार बनने पर 10 जुलाई से उत्तर पश्चिम और मध्य भारत में बारिश की गतिविधि बढ़ने की संभावना है.

10 जुलाई तक दिल्ली पहुंचेगा मानसून, पंद्रह साल में सबसे अधिक देरी हुई

इससे पहले 2006 में नौ जुलाई को मॉनसून दिल्ली पहुंचा था.

नई दिल्ली:

Delhi Weather Today : भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने सोमवार को बताया कि दक्षिण पश्चिम मॉनसून इस साल 10 जुलाई के आसपास दिल्ली पहुंचेगा. इस बार मॉनसून 15 साल में पहली बार इतनी देर से दिल्ली में दस्तक देगा. आईएमडी ने एक बयान में कहा, 'पश्चिमी उत्तर प्रदेश के शेष हिस्सों, पंजाब, हरियाणा और राजस्थान के कुछ और हिस्सों तथा दिल्ली में 10 जुलाई के आसपास मानसून के आगे बढ़ने की संभावना है.' दिल्लीवासी लंबे समय से मानसूनी बारिश (Delhi Monsoon News) का इंतजार कर रहे हैं.

विभाग ने कहा कि मौसमी आसार बनने पर 10 जुलाई से उत्तर पश्चिम और मध्य भारत में बारिश की गतिविधि बढ़ने की संभावना है. आईएमडी के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव के मुताबिक, इससे पहले 2006 में नौ जुलाई को मॉनसून दिल्ली पहुंचा था.

उत्तर भारत में लू का असर कम, दिल्ली वासियों को बरिश ने कुछ राहत दी

साल 2002 में दिल्ली में पहली मानसूनी बारिश 19 जुलाई को हुई थी. शहर में सबसे देर से मॉनसून 1987 में 26 जुलाई को पहुंचा था. केरल में दो दिन देर से दस्तक देने का बाद मॉनसून रफ्तार पकड़ते हुए सामान्य से सात से 10 दिन पहले देश के पूर्वी मध्य और उत्तरपश्चिमी हिस्से में पहुंच गया था. लेकिन उसके बाद इसके आगे बढ़ने के लिये हालात प्रतिकूल बने रहे. मॉनसून कमजोर होकर रुक रुककर आगे बढने लगा.

दिल्ली के साथ-साथ गर्मी से जम्मू के पहाड़ भी तपे, राजस्थान में चल रही लू, जानें कब मिलेगी राहत


आमतौर पर मॉनसून 27 जून तक दिल्ली में दस्तक दे देता है और आठ जुलाई तक पूरे देश में पहुंच जाता है. एक जून को मॉनसूनी सीजन शुरू होने के बाद से अब तक दिल्ली में 43.6 मिमी बारिश हुई है जो सामान्य यानि 75.7 मिमी से 42 प्रतिशत कम है. मध्य दिल्ली में सामान्य से 89 प्रतिशत कम बारिश हुई है. जम्मू-कश्मीर के किश्वताड़ के बाद सबसे कम बारिश वाला यह भारत का दूसरा जिला है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


दिल्ली-एनसीआर में औसत से 7 डिग्री ज्यादा अधिकतम तापमान