लखीमपुर मामले में विपक्ष के निशाने पर आए मंत्री ने कार्यक्रम में लिया हिस्‍सा, मीडिया को नहीं मिली 'एंट्री'

मीडिया को शुरू में इस आयोजन  को कवर करने के लिए आमंत्रित किया गया था लेकिन बाद में उसे प्रवेश की इजाजत नहीं दी गई.

लखीमपुर मामले में विपक्ष के निशाने पर आए मंत्री ने कार्यक्रम में लिया हिस्‍सा, मीडिया को नहीं मिली 'एंट्री'

केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा गुरुवार को जेल अधिकारियों के साथ एक राष्‍ट्रीय सम्‍मेलन में शामिल हुए

नई दिल्‍ली :

Lakhimpur Kheri Violence:  केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा (Ajay Mishra), जिनके बेटे आशीष को रविवार के यूपी के लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में आरोपी बनाए जाने के बावजूद अब तक गिरफ्तार नहीं किया गया है, ने गुरुवार सुबह जेल अधिकारियों के साथ एक राष्‍ट्रीय सम्‍मेलन में शामिल हुए. मीडिया को शुरू में इस आयोजन  को कवर करने के लिए आमंत्रित किया गया था लेकिन बाद में उसे प्रवेश की इजाजत नहीं दी गई. आमंत्रण इस आशंका के चलते वापस लिया गया कि कुछ रिपोर्टर्स 'मंत्रीजी' के बेटे की गिरफ्तारी को लेकर कर सकते हैं. यूपी पुलिस की ओर से दर्ज की गई एफआईआर में आशीष मिश्रा को हत्‍या और लापरवाही का आरोपी बनाया गया है. हालांकि अधिकारियों ने अब तक न उसे गिरफ्तार नहीं किया है और न ही उससे पूछताछ की है.

बुधवार को यूपी पुलिस के एडीशनल डायरेक्‍टर जनरल प्रशांत कुमार ने NDTV से कहा था, 'कोई भी बख्‍शा नहीं जाएगा. तकनीकी साक्ष्‍य स्‍थायी होते हैं, इन्‍हें प्रभावित नहीं किया जा सकता.' मंगलवार को राज्‍य के एक शीर्ष पुलिस अधिकारी ने आशीष की गिरफ्तारी नहीं होने से संबंधित सवाल पर कहा था कि  'हम पहले किसानों के साथ बातचीत, फिर पोस्‍टमार्टम और इसके बाद अंतिम संस्‍कार में व्‍यस्‍त थे. हम हर मामले में तय प्रक्रिया का पालन करते हैं और  इस मामले की पूरी जांच करेंगे. 'यह पूछे जाने पर कि क्‍या मामले में हाईप्रोफाइल आरोपी के शामिल न होने की स्थिति में भी उनका ऐसा ही रवैया होता, इस अधिकारी ने कहा था कि 'पुलिस का रुख पीड़‍ित के प्रति है न कि आरोपी के लिए. उन्‍होंने इस संबंध में और किसी प्रश्‍न का जवाब देने से इनकार कर दिया. '

लखीमपुर हिंसा के मामले में बेटे पर एफआईआर के बाद  विपक्ष के निशाने पर आए केंद्रीय गृह राज्‍य मंत्री अजय मिश्रा ने बुधवार को वरिष्‍ठ मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी.  बेटे आशीष मिश्रा पर आरोपों को लेकर विपक्ष की ओर से अजय मिश्रा को हटाए जाने की मांग की जा रही है, हालांकि सरकार के शीर्ष सूत्रों ने उनके इस्‍तीफे की किसी भी संभावना से इनकार किया है. सूत्रों ने कहा, मिश्रा (अजय मिश्रा) ने एक बार नहीं बल्कि दो बार यह स्‍पष्‍ट किया है कि न तो वे और न ही उनका बेटा हिंसा वाले स्‍थान पर मौजूद था. 

हालांकि विपक्ष अजय मिश्रा के इस्‍तीफे की मांग कर रहा है. विपक्ष का कहना है कि इस कदम से ही पूरे मामले की निष्‍पक्ष जांच हो सकेंगी. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने बुधवार को मारे गए किसानों के परिजनों से मुलाकात करने के बाद कहा था, 'निष्‍पक्ष जांच सुनिश्चित करने के लिए केंद्रीय मंत्री की इस्‍तीफ दे देना चाहिए.' वैसे केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा और उनके बेटे आशीष ने तमाम आरोपों से इनकार किया है. केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा ने मंगलवार को स्‍वीकार किया था कि लखीमपुर खीरी में जिस कार ने किसानों को कुचला था वह उनकी थी लेकिन वे या उनका बेटा (आशीष मिश्रा) घटना के समय मौजूद नहीं थे. लखीमपुर खीरी में रविवार को हुई घटना में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत हो गई थी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


- - ये भी पढ़ें - -
* 'कितनी गिरफ्तारियां हुईं?'- लखीमपुर खीरी हिंसा पर सुनवाई में SC ने यूपी सरकार से पूछा
* मर्डर करके चुप नहीं कराया जा सकता'- BJP MP ने शेयर किया लखीमपुर का वीडियो
* 'कोविड मामलों में करीब 20 फीसदी का उछाल, नए आंकड़ों ने फेस्टिव सीजन में बढ़ाई चिंता