राहुल गांधी ने कविता के जरिये सरकार पर साधा निशाना, ट्वीट किया, 'वह हृदय नहीं है पत्‍थर है जिस सिस्‍टम को...'

इससे पहले, कोविड संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच राहुल गांधी ने सरकार के खिलाफ ट्विटर के जरिए बुधवार को भी मोर्चा खोला था.

राहुल गांधी ने कविता के जरिये सरकार पर साधा निशाना, ट्वीट किया, 'वह हृदय नहीं है पत्‍थर है जिस सिस्‍टम को...'

राहुल गांधी ने ट्वीट के जरिये 'सिस्‍टम' को पत्‍थर की तरह कठोर बताया

नई दिल्ली:

कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) इस समय नरेंद्र मोदी के नेतृत्‍व वाली केंद्र सरकार (Narendra Modi Government) के खिलाफ काफी आक्रामक रवैया अपनाए हुए हैं. चीन और कोरोना मुद्दे को अच्‍छी तरह से नियंत्रित नहीं कर पाने के मामले में मोदी सरकार पर लगातार निशाना साधा है. कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष राहुल ने गुरुवार को ट्वीट में कविता लिखकर फिर परोक्ष रूप से केंद्र सरकार पर निशाना साधा. अपने ट्वीट में उन्‍होंने लिखा, 'जो भरा नहीं है भावों से, जो दर्द सुनने को तैयार नहीं,वह हृदय नहीं है पत्थर है, जिस ‘सिस्टम' को जन से प्यार नहीं!' देश के स्‍वाधीनता संग्राम के दौरान लिखी गई पुरानी कविता को राहुल ने कुछ संशोधन के साथ अपने ट्वीट में स्‍थान दिया है.

मुंबई में 18+ के लोगों के लिए कोरोना टीकाकरण 1 मई को नहीं हो पाएगा शुरू : शीर्ष अधिकारी

आगरा में Oxygen के लिए पुलिसकर्मियों के आगे गिड़गिड़ाता रहा शख्स, मार्मिक Video सामने आया 


इससे पहले, बुधवार को भी राहुल गांधी ने एक ट्वीट के जरिये मोदी सरकार पर 'हमला' बोला था. कोविड संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच राहुल गांधी ने सरकार के खिलाफ ट्विटर के जरिए मोर्चा खोलते हुए इसे 'अंधा सिस्टम' करार दिया, उन्होंने लिखा था कि एक दूसरे की सहायता करते आम जन दिखाते हैं कि किसी का दिल छूने के लिए हाथ छूने की ज़रूरत नहीं है, मदद का हाथ बढ़ाते चलो, इस अंधे ‘सिस्टम' का सच दिखाते चलो. राहुल ने देशवासियों के लिए मुफ्त कोरोना वैक्सीन की वकालत की है. राहुल गांधी ने गुरुवार को यानी आज अपने ट्वीट में लिखा, "भारत को फ्री कोविड वैक्सीन मिलनी चाहिए. सभी नागरिकों को नि: शुल्क टीकाकरण प्राप्त कराना होगा. आशा है कि इस बार ऐसा हो सकेगा."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


ऑक्सीजन की कमी से जूझते अस्पताल, मरीजों के परिजन कर रहे हैं इंतजाम