Covid-19: पुणे में बेकाबू हुआ कोरोना, उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने दी सख्ती की चेतावनी

गर हालात ऐसे ही रहे तो हमें अप्रैल के पहले सप्ताह से जिले में और सख्ती बरतनी होगी.’’ उप मुख्यमंत्री ने लोगों को कोविड-19 प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करने को कहा. उन्होंने मास्क लगाने, दो गज की दूरी बनाए रखने और बार-बार हाथ धोने पर फिर से जोर दिया. 

Covid-19: पुणे में बेकाबू हुआ कोरोना, उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने दी सख्ती की चेतावनी

पुणे के प्रभारी मंत्री पवार ने जिले की स्थिति की समीक्षा करने के बाद संवाददाता सम्मेलन में चेतावनी भी जारी की

पुणे :

महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार (Ajit Pawar) ने शुक्रवार को चेताया कि अगर एक सप्ताह में पुणे में कोविड-19 की स्थिति में सुधार नहीं होता है तो ‘कड़े कदम' उठाए जाएंगे. पुणे के प्रभारी मंत्री पवार ने जिले की स्थिति की समीक्षा करने के बाद संवाददाता सम्मेलन में चेतावनी भी जारी की. उन्होंने कहा, ‘‘मैं लोगों को बताना चाहता हूं कि हालात गंभीर हो रहे हैं. अगर हालात ऐसे ही रहे तो हमें अप्रैल के पहले सप्ताह से जिले में और सख्ती बरतनी होगी.'' उप मुख्यमंत्री ने लोगों को कोविड-19 प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करने को कहा. उन्होंने मास्क लगाने, दो गज की दूरी बनाए रखने और बार-बार हाथ धोने पर फिर से जोर दिया. 

भारत में 15 अप्रैल के बाद चरम पर पहुंच सकती है कोरोनावायरस की मौजूदा लहर : SBI रिपोर्ट

उन्होंने कहा कि विवाह समारोह में अधिकतम 50 जबकि अंतिम संस्कार में 20 लोगों को शामिल होने की अनुमति होगी. सभी राजनीतिक और सामाजिक कार्यक्रम भी रद्द कर दिए गए हैं.  पवार ने कहा, होटलों और रेस्तरां को 50 प्रतिशत क्षमता से साथ रात 10 बजे तक काम करने की अनुमति होगी. उन्होंने कहा कि संक्रमण के बढ़ते मामलों के मद्देनजर राज्य ने निजी अस्पतालों के 50 प्रतिशत बिस्तरों को अपने नियंत्रण में लेने का फैसला लिया है. उप मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘हमने पुणे में विशाल अस्पताल और पिम्पड़ी चिंचवड़ में बड़ा सुविधा केन्द्र शुरू किया है जो अप्रैल से संचालित होगा. हम शहर में भी कोविड-19 केन्द्र शुरू कर रहे हैं.''  उन्होंने बताया, ‘‘आपात स्थिति को ध्यान में रखते हुए हम रायगढ़ के ऑक्सीजन प्लांट के साथ बातचीत कर रहे हैं.'' उन्होंने बताया कि जिले में टीकाकरण केन्द्रों की संख्या दोगुनी करने की भी योजना है.

महाराष्ट्र औऱ गुजरात में कोरोना वायरस के मामलों में सबसे बड़ा उछाल

महाराष्ट्र सरकार का अनुमान है कि राज्य में 4 अप्रैल तक कोरोना के ऐक्टिव मामले तीन लाख के पार जा सकते हैं. मुंबई शहर में इस समय रोजाना लगभग 5,000 मामले आ रहे हैं. धारावी बस्ती में जनवरी के मुक़ाबले ऐक्टिव मामले मार्च में 100% बढ़े हैं. कोरोना संक्रमण के कारण बने हालात के चलते लोगों की रोज़ीरोटी पर फिर आफ़त है इसलिए अब पूरी बस्ती को जल्द टीका लगाने की मुहिम बृहन्‍नमुंबई म्‍युनिसिपल कार्पोरेशन (BMC) ने शुरू कर दी है. ये पहली बस्ती है, जहां के लिए अलग से वैक्सीन सेंटर शुरू हुए हैं.

अस्‍पतालों की बात करें तो मुंबई शहर में 40% कोविड बेड, 30% आईसीयू बेड और 27% वेंटिलेटर बेड फ़िलहाल ख़ाली हैं बढ़ते मामले को देखते हुए 15,000 की कोविड बेड क्षमता को बढ़ाकर, बीएमसी 21,000 कर रही है. सरकार की ओर से जारी अधिसूचना में कहा गया है कि पूरे महाराष्ट्र में क़रीब 50% कोविड बेड फ़िलहाल ख़ाली बताए जा रहे हैं. सरकार अस्पताल, बेड, ऑक्सीजन सब जुटाने में लगी है. अंदेशा ये है कि 4 अप्रैल तक राज्य में ऐक्टिव मामले 3 लाख का आंकड़ा पार कर लेंगे

Video : महाराष्ट्र : 24 घंटे में कोरोना के करीब 36 हजार मामले सामने आए


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)