PM नरेंद्र मोदी की दाढ़ी को GDP की वृद्धि दर से जोड़ा कांग्रेस नेता शशि थरूर ने...

भारत की जीडीपी में पहली तिमाही के दौरान 24 प्रतिशत और दूसरी तिमाही में 7.5 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई.

PM नरेंद्र मोदी की दाढ़ी को GDP की वृद्धि दर से जोड़ा कांग्रेस नेता शशि थरूर ने...

नई दिल्ली:

कांग्रेस नेता शशि थरूर ने भारत की जीडीपी के साल 2017 से 2019-20 तक के आंकड़ों की तुलना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दाढ़ी से की है. उन्होंने एक रोचक ट्वीट करते हुए पीएम मोदी सरकार पर निशाना साधा है. इस ट्वीट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पांच तस्वीरें हैं, जिसमें उनकी दाढ़ी अलग-अलग साइज में दिख रही हैं. एक ग्राफिक्स के साथ यह ट्वीट किया गया है. ग्राफिक्स में दिखाया गया है कि साल 2017-18 की चौथी तिमाही में भारत की जीडीपी 8.1 फीसदी थी, जो कि 2019-20 की दूसरी तिमाही में गिरकर 4.5 रह गई है. इस ट्वीट के साथ ही उन्होंने लिखा है, 'इसे कहते हैं ग्राफिक्स इलेस्ट्रेशन के मायने.'

बता दें, देश का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) चालू वित्त वर्ष की दिसंबर में समाप्त तिमाही के दौरान सकारात्मक होकर 1.3 प्रतिशत पर पहुंच सकती है. इससे पहले की दो तिमाहियों के दौरान कोरोना वायरस महामारी के फैलने के कारण इसमें बड़ी गिरावट दर्ज की गई थी. एक रिपोर्ट में यह कहा गया है. चालू वित्त वर्ष की दिसंबर में तिमाही के जीडीपी आंकड़े सरकार शुक्रवार को जारी करेगी.

भारतीय अर्थव्यवस्था ने मंदी को पीछे छोड़ा, 0.4% की विकास दर के साथ पॉजिटिव ग्रोथ में लौटी

डीबीएस बैंक की जारी एक रिपोर्ट में कहा गया है कि वित्त वर्ष 2020- 21 के दौरान जीडीपी में 6.8 प्रतिशत की गिरावट रह सकती है. बैंक की रिपोर्ट के अनुसार कैलेंडर वर्ष 2020 की आखिरी तिमाही (अक्टूबर- दिसंबर) में जीडीपी दर सकारात्मक दायरे में आ सकती है. डीबीएस समूह की शोध अर्थशास्त्री राधिका राव ने कहा कि देश में कोविड- 19 की स्थिति में तेजी से सुधार आने और लोगों के खर्च में तेजी से वृद्धि होने के दो ऐसे कारक रहे हैं जो दिसंबर 2020 तिमाही के लिये बेहतर होंगे.


बजट में किये गये सुधार उपाय भारत को 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने में करेंगे मदद: CEA

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


भारत की जीडीपी में पहली तिमाही के दौरान 24 प्रतिशत और दूसरी तिमाही में 7.5 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई. डीबीएस की ताजा रिपोर्ट के अनुसार अब तीसरी तिमाही में यह सकारात्मक हो जायेगी और इसमें 1.3 प्रतिशत की वृद्धि होगी. (इनपुट- भाषा से भी)