"BJP ने कहा था, यह गिरने वाली छठवीं सरकार होगी '": अशोक गहलोत का दावा

Rajasthan CM Ashok Gehlot ने आगाह किया कि उनके राज्य और महाराष्ट्र में सरकार को गिराने का फिर से प्रयास हो रहा है. गहलोत ने अमित शाह पर हमला बोला. उन्होंने आरोप लगाया कि शाह ने कांग्रेस के विधायकों से इस साल की शुरुआत में गोपनीय बैठकें की थीं.

Rajasthan के सीएम का दावा, राजस्थान सरकार को अस्थिर करने का फिर से हो रहा प्रयास

जयपुर:

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Rajasthan Chief Minister Ashok Gehlot) ने दावा किया है कि BJP ने कहा था, यह गिरने वाली कांग्रेस (Congress) की छठवीं सरकार होगी. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को चेतावनी दी है कि उनके राज्य के साथ महाराष्ट्र में सरकार को गिराने का फिर से प्रयास हो रहा है. गहलोत ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) पर सीधा हमला बोला है. उन्होंने आरोप लगाया कि शाह ने कांग्रेस के विधायकों से इस साल की शुरुआत में गोपनीय बैठकें की थीं. राजस्थान में नेता विपक्ष और BJP नेता गुलाब चंद्र कटारिया ने इस आरोप पर पलटवार किया है. कटारिया ने कहा कि कांग्रेस बेहतर तरीके से राज्य की सेवा कर पाएगी अगर वह अपनी पार्टी के भीतर शांति बनाए रखेगी.

सिरोही जिले में कांग्रेस (Congress) पार्टी के कार्यालय का उद्घाटन करते हुए गहलोत (Ashok Gehlot) ने यह प्रतिक्रिया दी. गहलोत की सरकार पर जुलाई में उस वक्त खतरा उत्पन्न हो गया था, जब सचिन पायलट (Sachin Pilot) की अगुवाई में कांग्रेस के एक बागी गुट ने सरकार से अलग होने की धमकी दी थी. गहलोत ने कहा कि बैठकों में शामिल विधायकों ने उन्हें सारी जानकारी दी थी. राजस्थान के सीएम ने कहा, "उन्होंने राजस्थान की सरकार को गिराने की कोशिश की. केंद्रीय मंत्री अमित शाह (Amit Shah) और धर्मेंद्र प्रधान से मिलने के बाद विधायकों ने उन्हें बताया कि वे शाह को केंद्र के गृह मंत्री के तौर पर देखकर लज्जित हैं."


गहलोत के अनुसार, "विधायकों से कहा गया था कि पहले भी पांच सरकारें वे गिरा चुके हैं और यह छठवीं सरकार होगी. BJP इसी तरह साजिशें करती रही है." वहीं गहलोत के आरोपों का जवाब देते हुए भाजपा नेता ने कहा कि कांग्रेस अपना घर संभाल ले तो बेहतर होगा. यह बात कोई मायने नहीं रखती जब आप अपना घर में शांति कायम नहीं रख पाते हैं और दूसरों पर आरोप लगाते हैं. जो लोग विद्रोह की कगार पर थे और जिन्हें कभी संतुष्ट नहीं किया गया. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गौरतलब है कि इस जुलाई में कांग्रेस (Congress) में अंदरूनी घमासान शुरू हो गया था. डिप्टी सीएम सचिन पायलट (Sachin Pilot) की अगुवाई में 19 विधायकों ने दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर (Delhi-Haryana Border) के एक होटल में डेरा डाल दिया था. कांग्रेस ने लगातार आरोप लगाया कि राजस्थान सरकार गिराने के इस प्रयास में भाजपा शामिल है. सचिन पायलट की कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और प्रियंका गांधी वाड्रा के साथ मुलाकात के बाद ही यह मुद्दा सुलझ सका था. दोनों ने बागी नेताओं की शिकायतों को दूर करने के लिए एक पैनल बनाने का वादा किया था. गहलोत ने बगावत के उस दौर में सचिन पायलट को निकम्मा जैसे कठोर शब्दों का इस्तेमाल किया था. उन्होंने आरोप लगाया था कि पायलट भाजपा के साथ मिलकर साजिश रचते हुए कांग्रेस सरकार को गिराने का प्रयास कर रहे थे.