Air India के हैंडओवर से पहले PM मोदी से मिले Tata Sons के चेयरमैन

सरकार ने प्रतिस्पर्धी बोली प्रक्रिया के बाद आठ अक्टूबर को 18,000 करोड़ रुपये में एयर इंडिया को Talace प्राइवेट लिमिटेड को बेच दिया था. यह टाटा समूह की होल्डिंग कंपनी की अनुषंगी इकाई है.

Air India के हैंडओवर से पहले PM मोदी से मिले Tata Sons के चेयरमैन

एयर इंडिया के निदेशक मंडल में सरकारी लोगों की जगह लेंगे टाटा से जुड़े लोग

नई दिल्ली:

एयर इंडिया (Air India) की कमान पूरी तरह से टाटा समूह के हाथों में देने की तैयारी तेजी से चल रही है. कहा जा रहा है कि सरकार एयर इंडिया को आज टाटा समूह (Tata Group) को सौंप सकती है. इन अटकलों के बीच टाटा संस के चेयरमैन एन. चंद्रशेखरन (N Chandrasekaran) आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) से मुलाकात की. पीएमओ इंडिया इस मुलाकात की तस्वीर शेयर की है.

सरकारी सूत्रों ने कहा, "एयर इंडिया के मौजूदा बोर्ड की अंतिम मीटिंग आज दोपहर करीब 2.30 बजे होगी. एयर इंडिया के बोर्ड के सरकारी सदस्य इस्तीफा देंगे. साथ ही टाटा संस द्वारा नामित नया बोर्ड नियंत्रण संभालेगा. इसके बाद टाटा संस एयर इंडिया के नए सीएमडी और शीर्ष पदों पर नियुक्ति करेगा."

सरकार ने प्रतिस्पर्धी बोली प्रक्रिया के बाद आठ अक्टूबर को 18,000 करोड़ रुपये में एयर इंडिया को Talace प्राइवेट लिमिटेड को बेच दिया था. यह टाटा समूह की होल्डिंग कंपनी की अनुषंगी इकाई है.

इसके बाद, टाटा समूह को एक आशय पत्र (LoI) जारी किया गया था, जिसमें सरकार की एयरलाइन में अपनी 100 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचने की इच्छा की पुष्टि की गई थी. फिर, केंद्र ने इस सौदे के लिए शेयर खरीद समझौते (SPA) पर हस्ताक्षर किए.

डील के तहत, एयर इंडिया के साथ उसकी किफायती विमान सेवा एयर इंडिया एक्सप्रेस की भी 100 हिस्सेदारी की बिक्री की जाएगी. साथ ही उसकी ग्राउंड हैंडलिंग कंपनी एआईएसएटीएस की 50 प्रतिशत हिस्सेदारी टाटा समूह को दी जाएगी.

READ ALSO: Air India के टेकओवर के बाद Tata ने किया 'पहला बदलाव', आज से पैसेंजरों को मिलेगी ये सर्विस

सरकार ने 25 अक्टूबर को 18,000 करोड़ रुपये में एयर इंडिया की बिक्री के लिए टाटा संस के साथ खरीद समझौता किया था. टाटा सौदे के एवज में सरकार को 2,700 करोड़ रुपये नकद देगी और एयरलाइन पर बकाया 15,300 करोड़ रुपये के कर्ज की देनदारी लेगी.

एयर इंडिया साल 2007-08 में इंडियन एयरलाइंस के साथ विलय के बाद से ही लगातार घाटे में चल रही थी. 31 अगस्त 2021 को उस पर कुल 61,562 करोड़ रुपये का बकाया था.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वीडियो: एयर इंडिया का विनिवेश होने से हवाई जहाज का मुफ्त सरकारी सफर करने के दिन खत्म