पीली किशमिश और काली किशमिश दोनों में से कौन सी है ज्यादा फायदेमंद? यहां जान लीजिए आसान भाषा में

Yellow Raisins And Black Raisins: अक्सर पीली और काली किशमिश को लेकर ये कन्फ्यूजन होती है कि कौन सी किशमिश सेहत के लिए ज्यादा फायदेमंद है. अगर आप भी नहीं जानते हैं तो यहां जानिए स्टेप बाई स्टेप.

पीली किशमिश और काली किशमिश दोनों में से कौन सी है ज्यादा फायदेमंद? यहां जान लीजिए आसान भाषा में

Yellow Raisins And Black Raisins: इन दोनों के बीच कुछ पोषण संबंधी अंतर भी हैं.

Kali Kishmish vs Peeli Kishmish: किशमिश स्वादिष्ट और हेल्दी स्नैक्स हैं. ये मीठा खाने की क्रेविंग को भी शांत करते हैं. किशमिश का उपयोग मिठाइयों से लेकर नमकीन व्यंजनों तक में भी किया जा सकता है. किशमिश कई किस्मों में उपलब्ध हैं, जिनमें से दो सबसे आम प्रकार हैं जो ज्यादातर लोगों के घरों में होते हैं. सुनहरे और काले किशमिश हैं. हालांकि इनकी बनावट एक जैसी होती है लेकिन कलर में फर्क होता है. इसके साथ ही दोनों के बीच कुछ पोषण संबंधी अंतर भी हैं. किशमिश के फायदों की बात करें तो बहुत से लोग पीले किशमिश जिन्हें गोल्डन किशमिश भी कहते हैं को सेहत के लिए फायदेमंद मानते हैं वहीं कुछ लोग काली किशमिश को ज्यादा लाभकारी मानते हैं. अगर आप भी किशमिश के दोनों प्रकारों में कन्फ्यूज हैं कि कौन सबसे ज्यादा हेल्दी है तो यहां हम बता रहे हैं पूरा सच.

पहले गोल्डन किशमिश (पीली किशमिश) के बारे में जान लें:

गोल्डन किशमिश हरे अंगूरों से बनाई जाती है जिन्हें धूप में या डिहाइड्रेटर में सुखाया जाता है. सुखाने की प्रक्रिया के दौरान उन्हें सल्फर डाइऑक्साइड से ट्रीट किया जाता है, जो उनके रंग और स्वाद को बनाए रखने में मदद करता है. गोल्डन किशमिश में काली किशमिश की तुलना में ज्यादा मीठा स्वाद और नरम बनावट होती है. इसमें कैलोरी, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, प्रोटीन, फैट, शुगर, विटामिन सी, आयरन की मात्रा काली किशमिश से अलग होती है.

ये भी पढ़ें: सुबह खाली पेट इस तरीके से खा लीजिए ये चीज, हफ्तेभर में कंट्रोल हो सकता है बढ़ा हुआ Uric Acid

काली किशमिश में कितना पोषण होता है?

काली किशमिश लाल या काले अंगूरों से बनाई जाती है जिन्हें धूप में या डिहाइड्रेटर में सुखाया जाता है. उन्हें सल्फर डाइऑक्साइड से ट्रीट नहीं किया जाता है, जो उन्हें सुनहरी किशमिश की तुलना में गहरा रंग और ज्यादा मजबूत स्वाद देता है. इसमें कैलोरी, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, प्रोटीन, वसा, शुगर, विटामिन सी, आयरन में से कुछ न्यूट्रिएंट्स की मात्रा गोल्डन किशमिश से ज्यादा होती है.

पीली या काली कौन सी किशमिश ज्यादा फायदेमंद?

सुनहरी और काली किशमिश दोनों ही सेहत के लिए बेहद फायदेमंद हैं. हालांकि, काली किशमिश में पीली किशमिश की तुलना में थोड़ा ज्यादा फाइबर और आयरन होता है. फाइबर हेल्दी डायजेशन के लिए जरूरी है और आयरन हेल्दी रेड ब्लड सेल्स के लिए जरूरी है. दूसरी ओर, पीली किशमिश में काली किशमिश की तुलना में थोड़ी ज्यादा शुगर और विटामिन सी होती है. विटामिन सी इम्यून सिस्टम को बढ़ावा देने के लिए जरूरी है और शुगर क्विक एनर्जी देती है.

ये भी पढ़ें: सुबह जल्दी नहीं खुलती नींद, जितना सोए उतना लगता है कम तो करें ये 4 काम, बिना अलार्म खुलने लगेगी आपकी नींद

पीली और काली किशमिश दोनों ही आपकी डाइट में शामिल करने के लिए हेल्दी विकल्प हैं. दोनों के बीच चुनाव आपकी व्यक्तिगत प्राथमिकताओं और पोषण संबंधी जरूरतों पर निर्भर करता है. अगर आप ज्यादा विटामिन सी से भरपूर मीठे विकल्प की तलाश में हैं, तो पीली किशमिश चुनें. अगर आप तेज स्वाद और ज्यादा फाइबर और आयरन चाहते हैं, तो काली किशमिश चुनें.



Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

(अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.)