Ways To Manage PCOS: महिलाओं को इसके लक्षणों पर जीत हासिल करने के लिए बिना सोचे करने चाहिए ये 5 काम

How To Avoid PCOS Symptoms: पीसीओएस महिलाओं को उनके प्रजनन वर्षों के दौरान प्रभावित करता है. यह स्थिति वजन बढ़ने, मुंहासे, बांझपन, बालों के झड़ने, डायबिटीज के हाई जोखिम और बहुत कुछ जैसे लक्षण पैदा कर सकती है.

Ways To Manage PCOS: महिलाओं को इसके लक्षणों पर जीत हासिल करने के लिए बिना सोचे करने चाहिए ये 5 काम

एक हेल्दी और लाइफस्टाइल पीसीओएस के लक्षणों को प्रभावी ढंग से मैनेज करने में मदद कर सकती है

खास बातें

  • यह आमतौर पर बच्चे पैदा करने वाली उम्र की महिलाओं को टारगेट करता है.
  • हेल्दी लाइफस्टाइल पीसीओएस के लक्षणों को नियंत्रित कर सकते हैं.
  • डाइट और लाइफस्टाइल टिप्स जो पीसीओएस के लक्षणों को मैनेज कर सकते हैं.

Best Way To Manage PCOS?: पीसीओएस देश भर में सबसे सर्वव्यापी महिला अंतःस्रावी स्थितियों में से एक है. यह आमतौर पर बच्चे पैदा करने वाली उम्र की महिलाओं को टारगेट करता है. यह समझा जाना चाहिए कि पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम जैसा कि नाम से पता चलता है कि यह पूरी तरह से विकसित बीमारी नहीं है. यह केवल लक्षणों का एक संग्रह है. इसलिए चिकित्सक इसे एक स्थिति या विकार मानते हैं. हालांकि, कोई प्रमाणित उपचार नहीं है जो इस स्थिति को पूरी तरह से ठीक कर सके, लेकिन आप एक समग्र और हेल्दी लाइफस्टाइल पर स्विच करके पीसीओएस के लक्षणों को नियंत्रित कर सकते हैं जिसमें पोषक तत्वों से भरपूर डाइट लेना, नियमित रूप से वर्कआउट करना, प्रोसेस्ड और इंफ्लेमेटरी भोजन से बचना, धूम्रपान और शराब पीने जैसी हानिकारक आदतों से दूर रहना और पर्याप्त नींद लेना शामिल है.

इस स्थिति में महिला शरीर अत्यधिक मात्रा में पुरुष हार्मोन का उत्पादन करना शुरू कर देता है जिसे एण्ड्रोजन भी कहा जाता है. हेल्दी महिलाओं में इन एण्ड्रोजन का उत्पादन कम मात्रा में होता है. पीसीओएस के विभिन्न लक्षण अंडाशय में सिस्ट का बनना, बालों का अधिक बढ़ना, मुंहासे, वजन कम करने में कठिनाई, बांझपन और अनियमित मासिक धर्म हैं.

अतिरिक्त वजन बढ़ने और बाधित मेटाबॉलिज्म के परिणामस्वरूप इंसुलिन रेजिस्टेंट भी हो सकता है. यह तब होता है जब शरीर इंसुलिन का उत्पादन कर सकता है लेकिन इसका कुशलतापूर्वक उपयोग करने में असमर्थ होता है. यह अंततः भविष्य में टाइप -2 डायबिटीज के कॉन्ट्रैक्ट के जोखिम को कई गुना बढ़ा देता है. इसलिए, पीसीओएस के लक्षणों को मैनेज करना बेहद जरूरी है. इससे पहले कि वे धीरे-धीरे किसी और भयावह चीज में बदल जाएं. फिर से, पीसीओएस के लक्षणों के मैनेजमेंट की दिशा में सबसे महत्वपूर्ण कदम एक स्वच्छ और हॉलिस्टिक लाइफस्टाइल की खेती करना है.

डाइट और लाइफस्टाइल टिप्स जो पीसीओएस के लक्षणों को मैनेज कर सकते हैं

1. अपनी डाइट में साबुत फूड्स और साग शामिल करें

साबुत अनाज जैसे ओट्स, ब्राउन राइस, क्विनोआ आदि खाएं क्योंकि वे आवश्यक फाइबर से भरपूर होते हैं. आपको पोषक तत्वों से भरपूर फूड्स जैसे फलियां, दालें, नट्स, बीज, ताजे फल और हरी पत्तेदार सब्जियों का भी सेवन करना चाहिए क्योंकि ये पौधे आधारित प्रोटीन, विटामिन और खनिजों से भरे होते हैं. केल, पालक और जामुन जैसे फूड्स भी खाएं क्योंकि वे विटामिन बी का एक बड़ा स्रोत हैं. पीसीओएस वाली महिलाओं में विटामिन बी की कमी अत्यधिक प्रचलित है.

bbms631o

Ways To Manage PCOS?: बेहतर पोषक तत्वों का सेवन सुनिश्चित करने के लिए डाइट में फल और सब्जियां शामिल करें

2. हेल्दी प्रोटीन की पर्याप्त खपत

स्टार्च शुगर, और फैट में कटौती करते हुए आप अपनी डाइट में अच्छी गुणवत्ता वाले प्लांट बेस्ड प्रोटीन को बढ़ाकर अपने वजन को कंट्रोल कर सकते हैं. यह अनुशंसा की जाती है कि एक औसत वयस्क को शरीर के वजन के आधार पर प्रत्येक 1 किलोग्राम के लिए लगभग 0.8 ग्राम का सेवन करना चाहिए.

3. हेल्दी फैट का सेवन बढ़ाएं

घी, नारियल तेल और जैतून के तेल जैसे हेल्दी फैट खाएं क्योंकि वे पीसीओएस के कारण होने वाली सूजन को शांत करने में मदद करते हैं. अत्यधिक प्रोसेस्ड फूड्स, शुगरी ड्रिंक्स और फिजी कोला से दूर रहें क्योंकि वे शरीर में सूजन के स्तर को बढ़ा सकते हैं.

b1ce52r8

Ways To Manage PCOS?: हेल्दी फैट से भरपूर फूड्स को अपनी डाइट में कम मात्रा में शामिल करें

4. आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों की अच्छाई

आपको शतावरी और अशोक जैसे उपचार मूल्यों वाली प्राचीन जड़ी-बूटियों का भी उपयोग करना चाहिए. वे दोनों क्रमशः हार्मोन लेवल को बनाए रखने और एस्ट्रोजन उत्पादन को बढ़ाने में उपयोगी हैं, लेकिन आपको इन्हें अपनी डाइट में शामिल करने से पहले किसी विशेषज्ञ से सलाह लेनी चाहिए.

5. क्लीन और हॉलिस्टिक लाइफ को अपनाना

आपको अपने जीवन में समग्र परिवर्तन लाने का प्रयास करना चाहिए. स्वच्छ और पौधे आधारित पोषण के अलावा, सुनिश्चित करें कि आप रोजाना कम से कम तीस मिनट शारीरिक व्यायाम के लिए समर्पित करते हैं. यह दौड़ने, जॉगिंग, आउटडोर खेल या यहां तक कि योग से कुछ भी हो सकता है. इसके अलावा, आप तनाव-तूफान को नियंत्रित करने के लिए प्राणायाम जैसी ध्यान-साधना और सांस लेने की तकनीक का भी अभ्यास कर सकते हैं.

मां-बाप की इस कमी से होता है बच्चे को थैलेसीमिया....

(शिखा द्विवेदी ओज़िवा में एमएससी क्लिनिकल न्यूट्रिशन एंड डायटेटिक्स हैं)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्वीकरण: इस लेख में व्यक्त विचार लेखक के निजी विचार हैं. एनडीटीवी इस लेख की किसी भी जानकारी की सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता या वैधता के लिए जिम्मेदार नहीं है. सभी जानकारी यथास्थिति के आधार पर प्रदान की जाती है. लेख में दी गई जानकारी, तथ्य या राय एनडीटीवी के विचारों को नहीं दर्शाती है और एनडीटीवी इसके लिए कोई जिम्मेदारी या दायित्व नहीं लेता है.