Thyroid Cure Diet: अपने थायराइड को कंट्रोल करने के लिए इन आयुर्वेदिक नुस्खों को आजमाना न भूलें

Home Remedies For Thyroid: आयुर्वेद शरीर की ऊर्जाओं को संतुलित करके थायराइड को कंट्रोल करने में विश्वास रखता है. थायराइड एक गतिहीन लाइफस्टाइल का संकेत है. थायराइड कोई बीमारी नहीं बल्कि एक लाइफस्टाइल डिसऑर्डर है.

Thyroid Cure Diet: अपने थायराइड को कंट्रोल करने के लिए इन आयुर्वेदिक नुस्खों को आजमाना न भूलें

Thyroid Cure Diet: थायराइड एक गतिहीन लाइफस्टाइल का संकेत है.

खास बातें

  • थायराइड एक गतिहीन लाइफस्टाइल का संकेत है.
  • थायराइड कोई बीमारी नहीं बल्कि एक लाइफस्टाइल डिसऑर्डर है.
  • आयुर्वेदिक उपाय थायराइड को कंट्रोल करने में मदद कर सकते हैं.

Ayurvedic Remedies For Thyroid: आयुर्वेद शरीर की ऊर्जाओं को संतुलित करके थायराइड को कंट्रोल करने में विश्वास रखता है. थायराइड एक गतिहीन लाइफस्टाइल का संकेत है. थायराइड कोई बीमारी नहीं बल्कि एक लाइफस्टाइल डिसऑर्डर है. यह विकार दो प्रकार का होता है. हाइपोथायरायडिज्म तब होता है जब थायराइड ग्रंथि का हार्मोन उत्पादन धीमा हो जाता है. नतीजतन, शरीर का मेटाबॉलिज्म भी धीमा हो जाता है. हाइपोथायरायडिज्म वाले व्यक्ति का वजन बढ़ने लगता है. दूसरी ओर, हाइपरथायरायडिज्म एक ऐसी स्थिति है जहां थायराइड ग्रंथि बहुत अधिक थायराइड हार्मोन बनाती है. अगर किसी व्यक्ति को हाइपरथायरायडिज्म है तो इसका मतलब है कि व्यक्ति का वजन कम हो जाएगा. आयुर्वेद के अनुसार शरीर में वात और कफ दोष के बढ़ने से थायराइड सबसे ज्यादा जुड़ा हुआ है. ये दोष जैविक ऊर्जा हैं जो मानव शरीर में शारीरिक और मानसिक प्रक्रियाओं को नियंत्रित करते हैं. आयुर्वेद थायराइड रोगियों के लिए कुछ आसान उपाय प्रदान करता है जिनका अभ्यास वे घर पर थायराइड को कंट्रोल करने के लिए कर सकते हैं.

वात शांत करने वाली डाइट का सेवन करें | Eat A Vata Calming Diet

आयुर्वेद के अनुसार, थायराइड असंतुलन शरीर में वात दोष के बढ़ने का परिणाम हो सकता है. अगर आप थायराइड के मरीज हैं तो आपको ऐसी डाइट नहीं लेनी चाहिए जो आपके शरीर में इसे बढ़ा सके. सुनिश्चित करें कि आप केले, पालक, बीन्स और फलियां जैसे फाइबर से भरपूर फूड्स का सेवन कर रहे हैं. आपको दोपहर का भोजन या रात का खाना नहीं छोड़ना चाहिए और एक दिन में आप जो खाते हैं उसे तीन-चार भोजन में बांटना चाहिए.

कफ बढ़ाने वाले फूड्स से बचें | Avoid Cough Enhancing Foods

थायराइड के सबसे आम लक्षणों में से एक वजन बढ़ना है. इस वजन और थायराइड को कंट्रोल करने के लिए, यह सिफारिश की जाती है कि व्यक्ति को कफ शांत करने वाली डाइट लेनी चाहिए. हमेशा ताजी सब्जियों और फलों का सेवन करें. साबुत अनाज जैसे अनाज, बीन्स और नट्स का सेवन करें. दिन में कम से कम एक फल खाने की कोशिश करें.

प्राणायाम का अभ्यास करें | Practice Pranayama

प्राणायाम आपकी श्वास को नियंत्रित करने के लिए एक योगाभ्यास है. थायराइड के रोगियों को प्राणायाम का अभ्यास करने की सलाह दी जाती है क्योंकि यह शरीर में वात को संतुलित कर सकता है और इस प्रकार थायराइड की समस्या को नियंत्रित करने में मदद करता है.

मॉर्निंग वॉक के लिए जाएं | Go For Morning Walk

एक गतिहीन जीवन शैली का नेतृत्व करना भी थायराइड उत्तेजक हार्मोन का असंतुलन पैदा कर सकता है. तो, थायराइड को नियंत्रित करने का एक आयुर्वेदिक उपाय नियमित रूप से सुबह की सैर करना है.

कुछ रसोई के उपाय आजमाएं | Try Some Kitchen Remedies

आयुर्वेदिक प्रथाओं में आमतौर पर प्राकृतिक उपचार का उपयोग करके उपचार शामिल होता है. ये प्राकृतिक उपचार आमतौर पर आपकी रसोई में उपलब्ध होते हैं. अगर आप अपने थायराइड लेवल को नियंत्रित करने की कोशिश कर रहे हैं, तो बस कुछ त्रिफला, मेथी, अदरक या एलोवेरा लें. कम ही लोग जानते हैं कि ये तत्व वास्तव में थायराइड रोगियों की मदद कर सकते हैं.

सावधान! अश्वगंधा खाने के खतरनाक नुकसान


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.