Cupping Therapy: क्या शरीर के किसी भी दर्द से राहत पाने में प्रभावी है कपिंग थेरेपी? जानें कैसे करती काम

Cupping Therapy Benefits: कमर दर्द, गर्दन के दर्द, सिरदर्द और अन्य समस्याओं को कम करने के लिए लोग हजारों सालों से कपिंग का इस्तेमाल करते आ रहे हैं. आइए आज आपको बताते हैं, इस थेरेपी के बारे में.

Cupping Therapy: क्या शरीर के किसी भी दर्द से राहत पाने में प्रभावी है कपिंग थेरेपी? जानें कैसे करती काम

Cupping Therapy Benefits: कपिंग थेरेपी आज काफी पॉपुलर हो चुकी है.

Cupping Therapy: कई बार आपने देखा होगा कि लोग अपनी पीठ, जांघ, पेट या कमर पर छोटे-छोटे कप लगाकर खून चुसवाते हैं, जो दिखने में तो बहुत भयानक लगता है, लेकिन आपको बता दें कि यह एक प्राचीन चिकित्सा पद्धति है, जिसमें सेक्शन के माध्यम से शरीर के हिस्सों में होने वाले दर्द को कम किया जाता है, इसे कपिंग थेरेपी कहा जाता है, तो चलिए आज आपको बताते हैं कि कपिंग थेरेपी है क्या, कैसे की जाती है और इसके फायदे क्या है.

फाइटोन्यूट्रिएंट्स क्या होते हैं, क्यों है शरीर को इनकी जरूरत? जानें इसके बारे में सबकुछ

क्या है कपिंग थेरेपी (What Is Cupping Therapy)

कपिंग एक प्राचीन उपचार चिकित्सा है जिसका उपयोग शरीर के किसी भी प्रकार के दर्द को कम करने के लिए किया जाता है. इतना ही इस थेरेपी के जरिए स्किन से जुड़ी समस्याओं को भी दूर किया जा सकता है. लोग हजारों सालों से कपिंग थेरेपी ले रहे हैं. इसमें एक विशेष प्रकार के कप को पीठ, पेट, हाथ, पैर या आपके शरीर के अन्य भागों पर रखा जाता है और कप के अंदर वैक्यूम या सक्शन फोर्स त्वचा को ऊपर की ओर खींचती है.

कोलेस्ट्रॉल बढ़ने पर आंखों में दिखते हैं ये 3 बदलाव, तुरंत कराएं जांच, वर्ना बाद में हो जाएगी मुश्किल

कैसे की जाती है कपिंग थेरेपी? | How Is Cupping Therapy Done?

कपिंग थेरेपी करने के लिए विशेष तरह के शीशों के कप का इस्तेमाल किया जाता है, जिसे मरीज के शरीर से चिपका दिया जाता है. फिर 3 से 5 मिनट के बाद उसमें गंदा खून जमा होने लगता है और शरीर को धीरे-धीरे आराम मिलने लगता है. कुछ समय बाद शरीर का गंदा खून इसमें जमा हो जाता है और उसके बाद इन कप को हटा दिया जाता है. हालांकि, कुछ समय तक इस कप के निशान रहते हैं. लेकिन समय के साथ यह चले जाते हैं. कपिंग थेरेपी कई प्रकार की होती है. जिसमें फायर कपिंग, ड्राई कपिंग और वेट कपिंग थेरेपी शामिल हैं. फायर कपिंग थेरेपी में अल्कोहल डालकर उसमें आग लगाई जाती है और इसके धुएं से ही वैक्यूम पैदा की जाती है. वेट कपिंग थेरेपी में कई प्रकार के तेल का इस्तेमाल किया जाता है, जो स्किन के लिए फायदेमंद होता है. वहीं ड्राई कपिंग थेरेपी में साधारण से कप का इस्तेमाल होता है.

इन कारणों से शुरू हो जाता है पैरों में दर्द, जमीन पर नहीं रखा जाता पांव; सोने में होती है परेशानी

कपिंग थेरेपी के फायदे (Benefits Of Cupping Therapy)

  • पीठ दर्द, गर्दन का दर्द, घुटने का दर्द और कंधे के दर्द को दूर करें.
  • सांस लेने में तकलीफ, जैसे अस्थमा को कम करें.
  • कार्पल टनल सिंड्रोम के खतरे को कम करें.
  • सिरदर्द और माइग्रेन जैसी परेशानी के कम करें.
  • चेहरे की समस्याओं को दूर कर इसे ग्लोइंग और ब्राइट बनाएं.
  • ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करें.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.