Gut Health Tips: कब्ज, अपच और सूजन समेत पेट की कई समस्याओं से निजात पाने के लिए किशमिश वाला दही है कमाल!

Curd And Raisins For Gut Health: दही स्वस्थ प्रोबायोटिक्स का एक अच्छा स्रोत है, जो हमारे आंत को अच्छे बैक्टीरिया प्रदान करता है और आंतों की वनस्पतियों में सुधार करता हैं. दूसरी ओर किशमिश (Raisins) में घुलनशील फाइबर की उच्च सामग्री होती है, जो प्रीबायोटिक का काम करती है. हेल्दी गट के लिए उपाय (Remedies For Healthy Gut) के तौर पर आप इस पंच को जरूर अपनाएं.

Gut Health Tips: कब्ज, अपच और सूजन समेत पेट की कई समस्याओं से निजात पाने के लिए किशमिश वाला दही है कमाल!

Gut Health Tips: किशमिश वाला दही आंत में खराब बैक्टीरिया को बेअसर कर सकता है

खास बातें

  • दही प्रोबायोटिक्स का एक अच्छा स्रोत माना जाता है.
  • यह आंत के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है.
  • किशमिश में घुलनशील फाइबर होते हैं जो प्रीबायोटिक का काम करते हैं.

How Can I Make My Gut Healthy: गट हेल्थ को स्वस्थ रखना हमारी पहली प्राथमिकताओं में से एक होना चाहिए. हेल्दी गट के लिए प्रोबायोटिक्स (Probiotics For Healthy Gut) काफी फायदेमंद हो सकते हैं. खासकर दही में अगर किशमिश मिलाकर (Add Raisins To Curd) सेवन किया जाए तो यह कॉम्बिनेशन गट के लिए शानदार हो सकता है. हेल्दी गट के लिए उपाय (Remedies For Healthy Gut) के तौर पर आप इस पंच को जरूर अपनाएं. इसके लिए आपको क्या-क्या तैयारी करनी है. क्या आपने कभी कुछ किशमिश के साथ अपने दही को जमाया है. खैर, सेलिब्रिटी पोषण विशेषज्ञ ऋजुता दिवेकर की सिफारिश की है कि पेट के स्वास्थ्य में सुधार (Improve Gut Health) के लिए यह पंच अद्भुत काम कर सकता है. पेट की कई समस्याओं जैसे कब्ज की समस्या (Constipation Problems) या अपच कई बार लंबे समय तक रहने से संपूर्ण स्वास्थ्य को प्रभावित करती हैं. ऐसे में हेल्दी गट के साथ पेट की समस्याओं से छुटकारा पाने के उपाय (Ways To Get Rid Of Stomach Problems) करना काफी ज्यादा जरूरी है.

वह कहती हैं, हमारे पेट का स्वास्थ्य शारीरिक गतिविधि की कमी, सामाजिक संपर्क और जीवन की सरासर अप्रत्याशितता से प्रभावित हुई है. इससे वजन बढ़ने, हमारी नींद में खलल पड़ने, बालों के झड़ने और गैस (Gas) और पेट फूलने जैसी पाचन संबंधी समस्याएं पैदा हो गई हैं. इसलिए आपको अपनी गट के साथ हेल्दी डायजेशन (Healthy Digestion) के लिए किशमिश वाला दही जरूर खाना चाहिए.

आपको दही को किशमिश के साथ क्यों जमाना चाहिए? | Why Should You Freeze Curd With Raisins?

दही स्वस्थ प्रोबायोटिक्स का एक ज्ञात स्रोत है, जो हमारे आंत को अच्छे बैक्टीरिया प्रदान करते हैं और आंत के वनस्पतियों में सुधार करते हैं. दूसरी ओर किशमिश में घुलनशील फाइबर की उच्च सामग्री होती है, जो प्रीबायोटिक का काम करती है. प्रोबायोटिक और प्रीबायोटिक का संयोजन आंत में खराब बैक्टीरिया को बेअसर कर सकता है, और अच्छे बैक्टीरिया के विकास को बढ़ावा दे सकता है.

दही और किशमिश का संयोजन आंतों में सूजन को कम करने में मदद कर सकता है और आपके दांतों और मसूड़ों को भी स्वस्थ रख सकता है. दही में कैल्शियम और विटामिन डी आपकी हड्डियों और जोड़ों के लिए फायदेमंद है.

04s6v8agGut Health Tips: नियमित रूप से दही का सेवन आपकी हड्डियों और जोड़ों के लिए फायदेमंद हो सकता है

दही कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करने, बीपी को कम करने और वजन घटाने को बढ़ावा देने के लिए एक अच्छी तरह से प्रलेखित हस्तक्षेप है. यह बुजुर्ग और युवा में बेहतर काम करता है क्योंकि यह कब्ज को रोकता है और किशमिश को चबाना आसान बनाता है, "दिवाकर कहती हैं.

आप अपने दही में खजूर भी डाल सकते हैं. अगर आप गर्भवती होने की कोशिश कर रहे हैं तो यह विशेष रूप से सहायक हो सकता है.

किशमिश के साथ दही कैसे सेट करें? | How To Set Curd With Raisins?

आपको एक कटोरी गर्म दूध लेना होगा. सुनिश्चित करें कि यह गर्म हो उबलता हुआ नहीं. दूध अधिमानतः ताजा और पूर्ण वसा वाला होना चाहिए. इसमें 4-5 काली किशमिश मिलाएं. अब दही या छाछ की एक छोटी बूंद लें और इसे दूध में मिलाएं. इसे कई बार हिलाएं. इसे ढक्कन के साथ कवर करें और इसे लगभग 8 से 12 घंटे के लिए सेट होने दें.

यह जांचने के लिए कि दही ठीक से सेट हो गया है या नहीं, देखें कि क्या ऊपरी परत मोटी दिखाई देती है. आप दही के इस कटोरे को मध्य-भोजन के रूप में या दोपहर के भोजन के बाद 3 या 4 बजे खा सकते हैं. इसकी सुंदरता यह है कि यह रसोई में पाई जाने वाली साधारण चीजों से ही बनता है.


(ऋजुता दिवेकर मुंबई में स्थित एक पोषण विशेषज्ञ हैं)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.