विज्ञापन
Story ProgressBack

रांची में एक महीने में दूसरी बार बर्ड फ्लू फैलने से मचा हड़कंप, मारे जा रहे हैं सभी संक्रमित पक्षी

Bird Flu In Ranchi: बुधवार को रामकृष्ण मिशन के फार्म हाउस को सील कर सभी बत्तखों और मुर्गियों को मारे जाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई. फार्म में इस्तेमाल हो रहे फीड को भी नष्ट किया जाएगा. फार्म हाउस में काम करने वाले कर्मचारियों को भी आइसोलेट किया जा रहा है.

Read Time: 3 mins
रांची में एक महीने में दूसरी बार बर्ड फ्लू फैलने से मचा हड़कंप, मारे जा रहे हैं सभी संक्रमित पक्षी

Bird Flu Virus: रांची में एक महीने के भीतर दूसरी बार बर्ड फ्लू की पुष्टि के बाद प्रभावित इलाकों में जिला प्रशासन की ओर से गठित रैपिड रिस्पांस टीम ने बुधवार से मुर्गे-मुर्गियों, बत्तख और अन्य पक्षियों को मारने का अभियान शुरू किया. इस बार रांची के मोरहाबादी से 10 किलोमीटर की परिधि का इलाका इन्फेक्टेड जोन के तौर पर चिन्हित किया गया है. इस इलाके में मुर्गे-मुर्गियों, पक्षियों और अंडों की बिक्री पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया गया है.

मोरहाबादी इलाके में रामकृष्ण मिशन की ओर से “दिव्यायन” नामक परिसर में बड़े पैमाने पर पोल्ट्री उत्पादन होता है. यहां 15 मई को पक्षियों की मौत के बाद उनके सैंपल जांच के लिए भोपाल स्थित “नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हाई सिक्योरिटीज एनिमल डिजिज” को भेजे गए थे. 20 मई को आई रिपोर्ट में यहां बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई. इसकी सूचना मिलते ही रांची जिला प्रशासन ने रैपिड रिस्पांस टीम गठित की है.

यह भी पढ़ें: अमेरिका में फैल रहा है कोविड का नया वेरिएंट FLiRT, जानिए इस नए वेरिएंट के बारे में सबकुछ

फार्म हाउस के सभी बत्तखों और मुर्गियों को मारे जाने की प्रक्रिया शुरू:

बुधवार को रामकृष्ण मिशन के फार्म हाउस को सील कर सभी बत्तखों और मुर्गियों को मारे जाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई. फार्म में इस्तेमाल हो रहे फीड को भी नष्ट किया जाएगा. फार्म हाउस में काम करने वाले कर्मचारियों को भी आइसोलेट किया जा रहा है.

रांची के उपायुक्त राहुल कुमार सिन्हा ने कहा कि भारत सरकार की गाइडलाइन के अनुसार, इन्फेक्टेड मुर्गे-मुर्गियों, बत्तख और पक्षियों को मारकर डिस्पोज किया जाता है. लोगों से अभियान में सहयोग की अपील की गई है. इधर राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के झारखंड राज्य निदेशक आलोक त्रिवेदी ने रांची के सिविल सर्जन को सर्विलांस जोन में सर्दी, खांसी, बुखार और सांस के मरीजों की पहचान कर उनका प्रबंधन करने का निर्देश दिया है.

यह भी पढ़ें: मांओं को आचार्य प्रशांत की सीख : बच्चों के बड़े होने पर किन बातों का ध्यान रखें मां

ये लक्षण दिखें तो हो जाएं सावधान:

डॉक्टरों ने बताया कि जिनके घरों में कुक्कुट है या जो पोल्ट्री फार्म में मुर्गियों की देखरेख करते हैं, उनमें अगर एवियन इन्फ्लूएंजा के लक्षण जैसे तेज बुखार, गले में खराश, सर्दी-जुकाम, शरीर में तेज दर्द, छाती में कफ, सांस लेने में दिक्कत, भूख में कमी जैसे लक्षण दिखें तो खुद को आइसोलेट कर तुरंत डॉक्टर से मिले.

जिस इलाके में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है उसके आसपास के एक किलोमीटर के रेडियस में रहने वाले लोगों को कम से कम 21 दिन तक चिकन, अंडा खाने से परहेज करना चाहिए.

(अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.)

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
लगातार कई घंटो तक बैठे-बैठे गर्दन में होता है दर्द तो करें ये 3 योगासन, दर्द से मिलेगी राहत, अकड़न भी होगी खत्म
रांची में एक महीने में दूसरी बार बर्ड फ्लू फैलने से मचा हड़कंप, मारे जा रहे हैं सभी संक्रमित पक्षी
यूपी बोर्ड टॉपर प्राची निगम के लुक्स पर ट्रोलर्स के शर्मनाक रिएक्शन्स के बीच PCOS पर छिड़ी चर्चा, जानें इस मेडिकल कंडिशन के बारे में समझना क्यों जरूरी
Next Article
यूपी बोर्ड टॉपर प्राची निगम के लुक्स पर ट्रोलर्स के शर्मनाक रिएक्शन्स के बीच PCOS पर छिड़ी चर्चा, जानें इस मेडिकल कंडिशन के बारे में समझना क्यों जरूरी
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;