Giloy Benefits: इस आयुर्वेदिक जड़ी बूटी के 6 शानदार फायदे और ये 4 लोग न करें गिलोय का सेवन

Benefits Of Giloy: गिलोय एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जो कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान कर सकती है. आइए जानते हैं इनमें से कुछ के बारे में.

Giloy Benefits: इस आयुर्वेदिक जड़ी बूटी के 6 शानदार फायदे और ये 4 लोग न करें गिलोय का सेवन

गिलोय को टिनोस्पोरा कॉर्डिफोलिया के नाम से भी जाना जाता है

खास बातें

  • गिलोय आपको कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान कर सकता है.
  • यह बुखार को कम करने में भी मदद कर सकता है.
  • गिलोय सूजन को कम करने में भी मदद कर सकता है.

Benefits Of This Ayurvedic Herb: आयुर्वेदिक चिकित्सा में व्यापक रूप से उपयोग की जाने वाली जड़ी बूटी, गिलोय एक आवश्यक जड़ी बूटी है जो मानव शरीर को कई लाभ प्रदान कर सकती है. संस्कृत में अर्थ 'अमृता' (अमरता की जड़), गिलोय का वानस्पतिक नाम टिनोस्पोरा टॉर्डिफोलिया है. अपने औषधीय लाभों के कारण कई आयुर्वेदिक रचनाओं में उपयोग किया जाता है, गिलोय सभी एंटीऑक्सिडेंट का एक पावरहाउस है और इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए अत्यधिक फायदेमंद है. यह तांबा, मैंगनीज, कैल्शियम, जस्ता और फास्फोरस में समृद्ध है. गिलोय कई बीमारियों में मददगार होता है. गिलोय के पत्ते गहरे रंग के, पान के आकार के होते हैं और इन्हें आसानी से पहचाना जा सकता है.

स्वास्थ्य लाभ और सेवन करने के टिप्स | Health Benefits And Consumption Tips

1. ज्वरनाशक: गिलोय में ज्वरनाशक गुण भी होते हैं, जिसका अर्थ है कि यह बुखार को कम करने में मदद करता है. अगर आपकी कोई स्वास्थ्य स्थिति है या अगर बुखार अधिक समय तक बना रहता है, तो इसका सेवन करने से पहले अपने चिकित्सक से संपर्क करें.

2. इम्यूनिटी बूस्टर: गिलोय इम्यून सिस्टम को सक्रिय करता है और जीवन शक्ति में तुरंत वृद्धि देता है. यह एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर है और शरीर को सभी विषाक्त पदार्थों से छुटकारा पाने में मदद करता है.

3. पीलिया में मदद: गिलोय पीलिया में दर्द से राहत और बुखार को कम करने में मदद करता है.

4. एनीमिया: अधिकांश महिलाएं एनीमिया से पीड़ित हैं, जो शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी का परिणाम है. शरीर में हीमोग्लोबिन लेवल को बढ़ाने के लिए गिलोय का सेवन किया जा सकता है.

5. एंटी-इंफ्लेमेटरी: गिलोय में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो इसे सूजन संबंधी समस्याओं से पीड़ित लोगों के लिए उपयुक्त बनाता है.

6. लीवर: जो लोग नियमित रूप से शराब का सेवन करते हैं उन्हें अक्सर लीवर से संबंधित बीमारियां जैसे फैटी लीवर हो जाता है. गिलोय लीवर के बेहतर स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने में मदद कर सकता है.

इस स्थिति में न करें गिलोय का सेवन | Do Not Consume Giloy In This Situation

गिलोय कई समस्याओं के लिए फायदेमंद होता है, लेकिन इसके कुछ साइड इफेक्ट भी होते हैं.

1. लो ब्लड शुगर: लो ब्लड शुगर से पीड़ित मरीजों को गिलोय का सेवन किसी भी रूप में नहीं करना चाहिए. चूंकि यह एक हाइपोग्लाइसेमिक एजेंट है, इसलिए यह ब्लड शुगर लेवल को और कम कर देगा.

2. लो ब्लड प्रेशर: लो ब्लड प्रेशर के मरीजों को भी गिलोय का सेवन करने से बचना चाहिए क्योंकि यह ब्लड प्रेशर को कम करता है.

3. ऑटो-इम्यून डिसऑर्डर: ऑटो-इम्यून डिसऑर्डर से पीड़ित मरीजों को गिलोय के सेवन से बचना चाहिए; यह समस्या को तेज करने के जोखिम को बढ़ा सकता है.

4. गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाएं: गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को भी गिलोय के सेवन से बचना चाहिए.

गिलोय का अधिक मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए. अगर आपके पास मौजूदा स्वास्थ्य स्थितियां हैं, तो गिलोय का सेवन करने से पहले अपने स्वास्थ्य विशेषज्ञ से बात करें.

(विकास चावला एक आयुर्वेदिक फार्मासिस्ट, वेद क्योर के संस्थापक और निदेशक हैं)

अस्वीकरण: इस लेख में व्यक्त विचार लेखक के निजी विचार हैं. एनडीटीवी इस लेख की किसी भी जानकारी की सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता या वैधता के लिए जिम्मेदार नहीं है. सभी जानकारी यथास्थिति के आधार पर प्रदान की जाती है. लेख में दी गई जानकारी, तथ्य या राय एनडीटीवी के विचारों को नहीं दर्शाती है और एनडीटीवी इसके लिए कोई जिम्मेदारी या दायित्व नहीं लेता है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

       

हेल्थ की और खबरों के लिए जुड़े रहिए