विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Oct 21, 2022

Menopause के लक्षणों से निपटने के लिए 5 बेहतरीन डाइट टिप्स, जानें मेनोपॉज में क्या खाना चाहिए

Diet For Menopause: एक वेल प्लान्ड डाइट, केयरफुल ईटिंग करने से स्थिति को बेहतर ढंग से मैनेज किया जा सकता है. यहां बताया गया है कि आपको मेनोपॉज के दौरान अपनी डाइट को कैसा रखना है.

Read Time: 6 mins
Menopause के लक्षणों से निपटने के लिए 5 बेहतरीन डाइट टिप्स, जानें मेनोपॉज में क्या खाना चाहिए
Foods For Menopause: मेनोपॉज के दौरान अपनी डाइट में सब्जियों और फलों को शामिल करें.

Menopause Diet: जब आपको हर महीने पीरियड्स आते हैं तो यह कष्टप्रद होता है. यह तब और भी अधिक कष्टप्रद होता है जब आप अपने मासिक धर्म में अनियमितता देखना शुरू कर देती हैं या यह अचानक बंद हो जाता है. हॉट फ्लैशेस, मिजाज, चिड़चिड़ापन, ठंड लगना, रात को पसीना आना, खराब नींद, वजन बढ़ना शुरू हो जाता है. रजोनिवृत्ति या मेनोपॉज से निपटना मुश्किल होता है. आपका डेली खाने का तरीका और लाइफस्टाइल में कुछ बदलाव अपनाने से ये लक्षण काफी हद तक प्रभावित हो सकते हैं. एक वेल प्लान्ड डाइट, केयरफुल ईटिंग करने से स्थिति को बेहतर ढंग से मैनेज किया जा सकता है. यहां बताया गया है कि आपको मेनोपॉज के दौरान अपनी डाइट को कैसा रखना है.

मेनोपॉज के लिए इंडियन डाइट | Indian Diet For Menopause

एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन दो प्रमुख महिला हार्मोन हैं जो आपके मासिक धर्म चक्र पर हावी होते हैं. इन हार्मोनों का उत्पादन उम्र के साथ कम होता जाता है. रजोनिवृत्ति आपके 40 या 50 के दशक में आ सकती है. इसके 3 चरण हैं. अगर आप 40 से ऊपर हैं, तो आप शायद इनमें से किसी भी चरण से गुजर रहे हैं.

पोषण से भरपूर लोबिया कई बीमारियों से दिलाता है छुटकारा, हल्की-फुल्की भूख के लिए ऐसे बनाएं लोबिया चाट

मेनोपॉज के लिए इंडियन डाइट का बेसिक रूल्स:

कई प्रकार के फूड्स खाएं जिनमें अनाज, फलियां, दालें, सब्जियां, फल, नट, बीज, पशु भोजन, दूध और मिल्क प्रोडक्ट, हेल्दी फैट और चीनी शामिल हैं.
संयम से खाएं, मन लगाकर खाएं.
कीटनाशक और प्रीजरवेटिव लोड को कम करने के लिए जितना हो सके लोकल खाएं.

1) सही ग्रेन चुनें

चावल, गेहूं, मक्का, बाजरा-रागी, ज्वार, बाजरा, ओट्स, क्विनोआ, एक प्रकार का अनाज, जौ - ये सभी और उनके प्रोडक्ट्स गेर्न की श्रेणी में आते हैं.

इसका मतलब है कि आटा, मैदा, चावल, फूला हुआ चावल, चिरवा, पॉपकॉर्न, बिस्कुट, नूडल्स, पास्ता, सूजी, दलिया, गेहूं का पफ, केक, कुकीज सभी इस श्रेणी में आते हैं.

सालों साल चलती हैं खाने-पीने की ये चीजें, इनकी नहीं होती कोई एक्सपायरी डेट

अनाज आपके आहार में ऊर्जा और कार्बोहाइड्रेट का प्राथमिक स्रोत है। इनके अलावा, यह प्रोटीन, फाइबर, विटामिन बी कॉम्प्लेक्स, मैग्नीशियम, जिंक आदि का भी एक बड़ा स्रोत है.

kb8ld2i

Photo Credit: iStock

2) फलियां/दाल का नियमित सेवन करें

हम अक्सर अपनी डेली डाइट में दाल को मिस करते हैं. ऐसे दिन होते हैं जब आपके पास दाल को छोड़कर केवल रोटी या चावल हो सकते हैं. अगर आप शाकाहारी हैं, तो प्रतिदिन 1-2 कटोरी दाल/फलियां खाने का सचेत प्रयास करें.

इस दिवाली क्रिस्पी जलेबी से मेहमानों का मुंह करें मीठा, यहां देखें रेसिपी

इसमें केवल दाल ही नहीं बल्कि सभी दाल/फलियां प्रोडक्ट्स भी शामिल हैं. सत्तू, बेसन, चना, छोले, स्प्राउट्स, राजमा, लोबिया, ढोकला, गेट की सब्जी या कोई भी सब्जी जहां किसी भी प्रकार की दाल का उपयोग किया जाता है.

3) अपनी थाली में कई रंगों वाली सब्जियों और फलों का सेवन करें

आपके शरीर को सूजन और ऑटोइम्यून बीमारियों को रोकने के लिए एंटीऑक्सिडेंट, फाइटोन्यूट्रिएंट्स, माइक्रोन्यूट्रिएंट्स और अच्छे फाइबर की जरूरत होती है. इसके लिए सबसे आसान तरीका कई प्रकार की रंगीन सब्जियों और फलों को डाइट में शामिल करना है. 

  • हरे पत्ते वाली सब्जियां
  • जड़ें और कंद (आलू, गाजर, मूली चुकंदर आदि)
  • अन्य सब्जियां (लौकी, फूलगोभी, कद्दू, भिंडी आदि)
  • फल (केला, सेब, तरबूज, पपीता, अमरूद, चीको आदि)
  • खट्टे फल (मौसम्बी, अंगूर, संतरा, आंवला आदि)

4) क्रूसिफेरस सब्जियां

मेनोपॉज महिलाओं के लिए फूलगोभी, पत्ता गोभी, ब्रोकली, मूली, शलगम आदि जैसी क्रूसिफेरस सब्जियों का सेवन जरूरी है. अध्ययन से पता चलता है कि नियमित रूप से क्रूस वाली सब्जियों का सेवन रजोनिवृत्ति के लक्षणों को नियंत्रित करने में मदद करता है.

इस वीकेंड बेसन की जगह इस चीज से बनाएं कढ़ी, तारीफ करते नहीं थकेंगे घर वाले

5) दूध और दूध से बने प्रोडक्ट्स

पोस्टमेनोपॉज़ल महिलाओं में प्राथमिक ऑस्टियोपोरोसिस विकसित होने की संभावना अधिक होती है क्योंकि एस्ट्रोजन की कमी हड्डियों के नुकसान और बोन डेंसिटी में कमी से जुड़ी होती है. इस चरण के दौरान आपको अपने हड्डियों के स्वास्थ्य का अतिरिक्त ध्यान रखना चाहिए. हड्डियों के स्वास्थ्य में सुधार के लिए आपको कैल्शियम, फॉस्फोरस, पोटेशियम, मैग्नीशियम, विटामिन डी और के की जरूरत होती है.

6) अंडा/मछली/चिकन/मांस खाने का आनंद लें

एस्ट्रोजन उत्पादन में कमी का मतलब कमजोर हड्डी के साथ-साथ मांसपेशियों का नुकसान होना है. इसलिए आपको अपने दैनिक आहार में अच्छी गुणवत्ता वाले प्रोटीन की जरूरत होती है. हर दिन एक पूरा अंडा खाने पर विचार करें. अध्ययन से पता चलता है कि नियमित रूप से मछली खाने से मासिक धर्म के लक्षणों को कम करने में मदद मिलती है. मॉडरेशन में चिकन लें.

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.

Causes and Types | मां-बाप की इस कमी से होता है बच्चे को थैलेसीमिया

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
दाल को पकाने से पहले भिगोना सही है या गलत? जानिए कहीं आप भी तो नहीं कर रहे हैं ये गलती
Menopause के लक्षणों से निपटने के लिए 5 बेहतरीन डाइट टिप्स, जानें मेनोपॉज में क्या खाना चाहिए
अमेरिकी शख्स ने एक मिनट में सबसे ज्यादा Hot Sauce खाकर बनाया रिकॉर्ड, देखें पोस्ट
Next Article
अमेरिकी शख्स ने एक मिनट में सबसे ज्यादा Hot Sauce खाकर बनाया रिकॉर्ड, देखें पोस्ट
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;