सिंगल ग्रेन की बजाय मल्टीग्रेन आटा क्यों चुनना चाहिए? जानें दोनों में अंतर और Multigrain Flour के फायदे

Benefits Of Multigrain Flour: मल्टीग्रेन आटा और सिंगल ग्रेन आटा चाहे गेहूं का आटा हो, ज्वार का आटा हो, बाजरा का आटा हो या कोई अन्य आटा हो, इन सभी बहुत अंतर है. क्या आप जानते हैं? नहीं तो यहां पता करें.

सिंगल ग्रेन की बजाय मल्टीग्रेन आटा क्यों चुनना चाहिए? जानें दोनों में अंतर और Multigrain Flour के फायदे

Benefits Of Multigrain Flour: मल्टीग्रेन आटा ज्यादातर ग्लूटेन फ्री होता है.

Multigrain Flour Benefits In Hindi: मोटापा कई तरह की बीमारियों की जड़ है. यह न केवल आपको हृदय रोगों (Heart Disease), कैंसर और मेडिकल कंडिशन के खतरों के प्रति संवेदनशील बनाता है, बल्कि यह लाइफ क्वालिटी को भी कम करता है. सिर्फ इसलिए कि आप वजन बढ़ाते हैं. रसोई से कुछ सामान लेने के लिए उठना या दरवाजा खोलना एक कठिन काम लग सकता है, क्योंकि आप आसानी से थक जाते हैं. मोटापे (Obesity) से लड़ने का सबसे अच्छा तरीका है कि एक फिजिकली एक्टिव लाइफस्टाइल अपनाएं और ऐसा भोजन करें जो पोषक तत्वों से भरपूर हो. मल्टीग्रेन आटे के लाभों (Benefits Of Multigrain Flour) में से एक यह है कि यह भूख को कम करता है और मोटापे से लड़ने में मदद करता है. यह प्रोटीन, डाइटरी फाइबर, कार्ब्स, कई विटामिन और खनिजों से भरपूर होता है. मल्टीग्रेन आटा ज्यादातर ग्लूटेन फ्री होता है.

इंडियन डाइट और ग्रेन्स:

हम भारतीय रोटी और चावल के बिना नहीं रह सकते हैं. हमें अपने भोजन में अक्सर रोटी, चावल और दाल चाहिए ही होती है, लेकिन एक तरीका है जिससे आप अपनी रोटी को ज्यादा सेहतमंद और पोषक तत्वों से भरपूर बना सकते हैं. बस अपने पारंपरिक गेहूं के आटे को मल्टीग्रेन आटे से बदलें.

शुगर लेवल कम करने में मददगार है मूंग दाल, ऐसे इस्तेमाल कर डायबिटीज को भी रख सकते हैं कंट्रोल

मल्टीग्रेन आटे की रोटी खाने के फायदे | Benefits Of Eating Multigrain Flour Roti

मल्टीग्रेन आटा रागी, ज्वार, बाजरा, सोयाबीन, जई, मक्का, गेहूं, आदि जैसे कई अनाजों से बनाया जाता है. इसमें इन सभी अनाजों से कई प्रकार के पोषक तत्व होते हैं, जिससे अगर आप बैलेंस डाइट लेना चाहते हैं तो यह एक बढ़िया विकल्प है. यहां जानें मल्टीग्रेन आटे के कुछ फायदे:

1. मल्टीग्रेन आटा दो या दो से अधिक अनाजों को मिलाकर बनाया जाता है. इसलिए इसका पोषण मूल्य गेहूं जैसे एकल अनाज के आटे से अधिक होता है. यह प्रोटीन, फाइबर और कई सूक्ष्म पोषक तत्वों से भरपूर होने के साथ-साथ शरीर को संपूर्ण पोषण प्रदान करता है.
2. अध्ययनों ने साबित किया है कि मल्टीग्रेन आटा मानव पाचन तंत्र के लिए बहुत अच्छा है. यह पोषक तत्वों से भरा होता है, फाइबर से भरा होता है जो अच्छे आंत बैक्टीरिया का पोषण करता है, यह पाचन तंत्र को सहायता करता है और मेटाबॉलिज्म में सुधार करता है.

Popular Street Food: आखिर क्या है एक्ट्रेस रकुल प्रीत सिंह का Morning Meal जिसे देख Foodie की टपकी लार...

3. वजन घटाने के साथ-साथ मल्टीग्रेन आटा भी बहुत अच्छा पाया गया है. मल्टीग्रेन आटे में ज्यादातर अनाज और बाजरा में रागी और ज्वार शामिल होते हैं, जो ग्लूटेन फ्री होते हैं और इसलिए ये हेल्दी होते हैं. ये अनाज भूख को दबाते हैं और वजन घटाने में सहायता करते हैं.
4. बाजरा में सूजन-रोधी गुण होते हैं और इसलिए बाजरा से बना मल्टीग्रेन आटा उन लोगों की भी मदद करता है जिन्हें जोड़ों के दर्द और अधिक गर्मी में सूजन होती है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.