विज्ञापन
Story ProgressBack

पंडित ने बताया पीएम मोदी के गंगा सप्तमी पर पुष्य नक्षत्र में नामांकन करने का महत्व और क्या है इस दिन की खासियत

गंगा सप्तमी के दिन प्रधानमंत्री मोदी नामांकन पत्र दाखिल करने से पूर्व वाराणसी के अस्सी घाट पर मां गंगा की पूजा करते हुए नजर आए.

Read Time: 3 mins
पंडित ने बताया पीएम मोदी के गंगा सप्तमी पर पुष्य नक्षत्र में नामांकन करने का महत्व और क्या है इस दिन की खासियत
पीएम मोदी गंगा सप्तमी के दिन नामांकन पत्र दाखिल करने जा रहे हैं. 

Ganga Saptami 2024: पंचांग के अनुसार, हर साल वैशाख महीने के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि पर गंगा सप्तमी पड़ती है. इस दिन मां गंगा की पूरे विधि-विधान से पूजा की जाती है, साथ ही इस दिन गंगा स्नान करने का विशेष महत्व होता है. इस साल 14 मई के दिन गंगा सप्तमी मनाई जाएगी. गंगा सप्तमी के दिन ही प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) वाराणसी में नामांकन करने वाले हैं. गंगा संप्तमी पर नामांकन दाखिल करने से पहले पीएम मोदी ने गंगा के तट पर जाकर मां गंगा की पूजा की है. इसके पश्चात, वे बाबा काल भैरव की पूजा करने के लिए जाएंगे और काल भैरव का आशीर्वाद लेकर अपना नामांकन करेंगे. सूत्रों के अनुसार, 14 मई की सुबह 11 बजकर 40 मिनट पर प्रधानमंत्री मोदी नामांकन करने वाले हैं. 

Advertisement
Latest and Breaking News on NDTV

Ganga Saptami 2024: कल है गंगा सप्तमी, जानिए इस दिन का महत्व और पौराणिक कथा

पंडित शिव कुमार शास्त्री के अनुसार, "गंगा संप्तमी के दिन पुष्य नक्षत्र (Pushya Nakshatra) बन रहा है. ज्योतिष के अनुसार, पुष्य नक्षत्र को नक्षत्रों में सर्वोत्तम माना जाता है. पुष्य नक्षत्र के स्वामी ब्रहस्पति होते हैं और पुष्य नक्षत्र कर्क राशि में आता है व कर्क राशि के स्वामी चंद्रमा हैं. चंद्रमा और बृहस्पति के योग में गजकेसरी योग का निर्माण होता है. इस चलते ज्योतिषीय आइने में सप्तमी तिथि, मंगलवार का दिन, पुष्य नक्षत्र और गजकेसरी योग के निर्माण से राजाओं का विजय प्राप्त करने का शुभ मुहूर्त बनता है. इसीलिए इस शुभ मुहूर्त में नामांकन करना ज्योतिषीय आइने से बेहद शुभ है."

Latest and Breaking News on NDTV

Ganga Saptami 2023: कल है गंगा सप्तमी, इस आरती से करेंगे पूजा तो खुश होंगी मैया, मिलेगा आशीर्वाद!

वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि की शुरूआत 13 मई, शाम 5 बजकर 20 मिनट पर हो जाएगी और इस तिथि का समापन अगले दिन 14 मई, मंगलवार शाम 6 बजकर 49 मिनट पर होगा. उदयातिथि को देखते हुए गंगा सप्तमी 14 मई के दिन ही मनाई जाएगी और इसी दिन स्नान करना अत्यधिक शुभ होगा. गंगा सप्तमी की पूजा का शुभ मुहूर्त (Puja Shubh Muhurt) सुबह 10 बजकर 56 मिनट से दोपहर 1 बजकर 39 मिनट पर माना जा रहा है. 

Advertisement
Latest and Breaking News on NDTV

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. एनडीटीवी इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

Nutritionist के बताए 10 आसान Tips से कभी नहीं बढ़ेगा घटाया हुआ वजन

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
गंगा के तट पर स्थित है काशी विश्वनाथ मंदिर, दिलचस्प है इस मंदिर का सालों पुराना इतिहास
पंडित ने बताया पीएम मोदी के गंगा सप्तमी पर पुष्य नक्षत्र में नामांकन करने का महत्व और क्या है इस दिन की खासियत
आज है मासिक दुर्गा अष्टमी, जानिए माता दुर्गा की पूजा का महत्व और पूजन विधि
Next Article
आज है मासिक दुर्गा अष्टमी, जानिए माता दुर्गा की पूजा का महत्व और पूजन विधि
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;