Ganesha Mantra: बुधवार को करें भगवान गणेश के इन मंत्रों का जाप, बन सकते हैं बिगड़े काम

Lord Ganesha Puja: धार्मिक ग्रंथों में बताया गया है कि किसी भी शुभ कार्य से पहले भगवान गणेश जी का आह्वान किया जाता है. बिना गौरी गणेश की पूजा के कोई भी कार्य निर्विघ्न पूरा नहीं हो सकता है. हिंदू धर्म में बुधवार का दिन गणेश जी को समर्पित है. आज के दिन गणपति महाराज के पूजन के दौरान इन मंत्रों का करें जाप.

Ganesha Mantra: बुधवार को करें भगवान गणेश के इन मंत्रों का जाप, बन सकते हैं बिगड़े काम

नई दिल्ली:

हिंदू धर्म में बुधवार का दिन भगवान श्री गणेश जी को समर्पित है. गणपति महाराज को विघ्नहर्ता के नाम से भी जाना जाता है. मान्यता है कि बुधवार के दिन गणेश जी की पूजा करने से जीवन में सुख-समृद्धि बढ़ती है. आज यानि बुधवार का दिन गणपति महाराज की आराधना के लिए उत्तम माना जाता है. धार्मिक ग्रंथों में बताया गया है कि किसी भी शुभ कार्य से पहले भगवान गणेश जी का आह्वान किया जाता है. बिना गौरी गणेश की पूजा के कोई भी कार्य निर्विघ्न पूरा नहीं हो सकता है. धार्मिक मान्यता है कि गणेश जी की पूजा के बाद करे गए किसी भी कार्य में विघ्न-बाधा नहीं आती है और कार्य में सफलता प्राप्त होती है. हिंदू धर्म में पूजा, नियम, जप, तप और उपवास का बहुत महत्व माना जाता है. यदि पूरी श्रद्धा और विश्वास के साथ भगवान गणेश जी की पूजा की जाए तो जीवन की परेशानियों और समस्याओं का समाधान हो जाता है. गणपति बप्पा को प्रसन्न करने के कई उपाय और मंत्र बताए गए हैं. आज के दिन गणपति महाराज के पूजन के दौरान इन मंत्रों का करें जाप.

p3u8h0k

मान्यता है कि भगवान गौरी गणेश को उनकी प्रिय चीज पूजा के दौरान अर्पित की जाएं, तो वे बहुत जल्द ही प्रसन्न हो जाते हैं और मुंह मांगा फल देते हैं. कहा जाता है कि प्रत्येक बुधवार भगवान श्री गणेश की पूजा-अराधना के दौरान उन्हें मोदक व दुर्वा अवश्य भेंट करें. अगर आप भी गणपति महाराज की कृपा पाना चाहते हैं तो इन आसान उपायों को अपनाकर व इन बातों को ध्यान में रखकर कृपा पा सकते हैं.

इन मंत्रों का भी करें जाप (Do These Ganesh Mantra Jaap )

ॐ गं गणपतये नमः

ॐ गं नमः।।

ॐ ग्लौं गं गणपतये नमः।।

ॐ गणेश महालक्ष्म्यै नमः ।।

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ।

निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥

गजाननं भूतगणाधिसेवितं,

कपित्थजम्बूफलचारुभक्षणम्।

उमासुतं शोकविनाशकारकम्न,

मामि विघ्नेश्वरपादपङ्कजम्॥

ॐ ग्लौम गौरी पुत्र, वक्रतुंड, गणपति गुरू गणेश।

ग्लौम गणपति, ऋदि्ध पति, सिदि्ध पति। मेरे कर दूर क्लेश।।

4cikjuj8

ॐ एकदन्ताय विद्महे वक्रतुंडाय धीमहि तन्नो बुदि्ध प्रचोदयात।।

ओम ॐ श्रीं गं सौम्याय गणपतये वर वरद सर्वजनं मे वशमानय स्वाहा:

ॐ वक्रतुण्डैक दंष्ट्राय क्लीं ह्रीं श्रीं गं गणपते वर वरद सर्वजनं मे वशमानय स्वाहा।

ॐ हुं गं ग्लौं हरिद्रा गणपत्ये वरद वरद सर्वजन हृदये स्तम्भय स्वाहा ।।

ॐ वर वरदाय विजय गणपतये नमः

ॐ गं गणपतये सर्वविघ्न हराय सर्वाय सर्वगुरवे लम्बोदराय ह्रीं गं नमः

ॐ नमः सिद्धिविनायकाय सर्वकार्यकर्त्रे सर्वविघ्न प्रशमनाय सर्व राज्य वश्य कारनाय सर्वजन सर्व स्त्री पुरुषाकर्षणाय श्री ॐ स्वाहा।।

 'ऊं गणानां त्वा गणपति(गुँ) हवामहे प्रियाणां त्वा प्रियपति(गुँ) हवामहे, निधीनां त्वा निधिपति(गुँ) हवामहे व्वसो मम।'

कृपा करो गणनाथ

प्रभु-शुभता कर दें साथ।

रिद्धि-सिद्धि शुभ लाभ

प्रभु, सब हैं तेरे पास।।

माना जाता है कि बुधवार के दिन इन मंत्रों का जाप करने से व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं. भगवान गौरी गणेश के इन मंत्रों का जाप 108 बार किया जाता है. मान्यता है कि इस मंत्र के जाप से गणपति जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं और उनकी कृपा बनी रहती है. अगर 11 दिन तक गणेश गायत्री मंत्र का जाप किया जाए, तो व्यक्ति का भाग्योदय होता है, ऐसा माना जाता है.

दिल्ली: ट्रेड फेयर में सजावट के ये आइटम बने आकर्षण का केंद्र, देखिए रिपोर्ट


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. एनडीटीवी इसकी पुष्टि नहीं करता है.)