SQUID Game Crypto का Scam! निवेशकों के पैसे डूबे, स्कैमर्स ने उड़ाए 22 करोड़ रुपये

SQUID Token : नेटफ्लिक्स के साउथ कोरियाई ड्रामा सीरीज 'Squid Game' पर आधारित इस क्रिप्टो कॉइन को डेवलप करने वालों ने निवेशकों को चकमा दे दिया है. पिछले दिनों इस नई कॉइन की कीमत बस कुछ ही देरी में 99.99 फीसदी तक गिर गई.

SQUID Game Crypto का Scam! निवेशकों के पैसे डूबे, स्कैमर्स ने उड़ाए 22 करोड़ रुपये

SQUID Cryptocurrency : SQUID Token निकला स्कैम.

पिछले हफ्ते अपनी 300 फीसदी उछाल की वजह से चर्चा में आया SQUID Game 'Cryptocurrency' अब बिल्कुल ही गलत वजहों से चर्चा में है. बिल्कुल नए-नए क्रिप्टो कॉइन के तौर पर चर्चा में आया कॉइन अब स्कैम निकला है. नेटफ्लिक्स के साउथ कोरियाई ड्रामा सीरीज 'Squid Game' पर आधारित इस क्रिप्टो कॉइन को डेवलप करने वालों ने निवेशकों को चकमा दे दिया है. पिछले दिनों इस नई कॉइन की कीमत बस कुछ ही देरी में 99.99 फीसदी तक गिर गई. क्रिप्टो बाजार में इस स्कैम को क्लासिक 'rug pull' के नाम से जाना जाता है. ऐसे स्कैम में स्कैमर्स अपने प्रोजेक्ट को ही छोड़कर भाग जाते हैं और निवेशकों के पैसे उड़ा लेते हैं. इस कॉइन की कीमत गिरने से पहले 2,800 डॉलर यानी लगभग 2 लाख रुपये तक थी, लेकिन गिरकर इसका मूल्य 0 पर आ गया था. 

अभी बुधवार को दोपहर 2.22 पर coinmarketcap.com इसकी कीमत $0.01345 डॉलर यानी 1 रुपये के आसपास चल रही थी. Gizmodo की एक रिपोर्ट के मुताबिक, इस फ्रॉड में स्कैमर्स ने इस प्रोजेक्ट के जरिए लगभग 3.3 मिलियन डॉलर यानी लगभग 22 करोड़ रुपये उड़ाए हैं. जानकारी थी कि कुछ गेमर्स ने Squid Game की तर्ज पर एक ऑनलाइन Play to earn गेम क्रिएट किया है और इस गेम को खेलने के लिए आपके पास Squid Game Cryptocurrency होनी चाहिए. सीरीज़ की ही इस तर्ज पर इस ऑनलाइन वर्जन में भी गेम थे. गेम में गेमर्स खेलने के लिए और ज्यादा टोकन्स अर्न करने के लिए और टोकन्स खरीदना होता था.

यह भी पढ़ें: Cryptocurrency : क्रिप्टोकरेंसी में हैकिंग, चोरी या फ्रॉड का कितना होता है डर? जानें कैसे रह सकते हैं सेफ

यह क्रिप्टोकरेंसी किसी भी बड़े क्रिप्टो एक्सचेंज पर लिस्टेड नहीं था. अभी यह लॉन्च भी 12 अक्टूबर यानी एक महीने से भी कम वक्त में हुआ था. इसे खरीदा भी बस एक ही जगह से जा सकता था- Pancakeswap प्लेटफॉर्म से. हालांकि, ऐसी रिपोर्ट्स आई थीं कि निवेशक इस प्लेटफॉर्म पर अपना पैसा डाल तो पा रहे थे, लेकिन अपने टोकन का पैसा निकाल नहीं पा रहे थे, जबकि इस करेंसी की साइट पर लिखा हुआ था कि इन टोकन्स को दूसरी क्रिप्टोकरेंसीज़ या Fiat Money यानी ट्रेडिशनल मनी यानी रुपये, डॉलर जैसी करेंसी में एक्सचेंज कराया जा सकता है.

 CoinMarketCap ने भी इसे लेकर एक चेतावनी जारी की है कि निवेशक ट्रेडिंग के वक्त अपनी सावधानी बरतें. एजेंसी ने कहा था कि ऐसी कई खबरें आ रही हैं कि यूजर्स पॉपुलर डिसेंट्रलाइज्ड एक्सचेंज Pancakeswap पर अपने टोकन्स बेच नहीं पा रहे थे.

यह भी पढ़ें : Binance : क्यों फ्रॉड के गंभीर आरोपों में फंसा है यह बड़ा Crypto Exchange? जानिए पूरा मामला

CoinMarketCap पर एक बैनर फ्लैश करके बताया गया कि 'हमें बहुत सी रिपोर्ट्स मिली हैं कि SQUID की वेबसाइट और सोशल मीडिया के चैनल्स काम नहीं कर रहे हैं और यूजर्स ये टोकन Pancakeswap पर बेच नहीं पा रहे हैं. कृप्या अपने विवेक से निवेश करें. साफ है कि यह प्रोजेक्ट नेटफ्लिक्स के शो से प्रेरित है, लेकिन यह इससे किसी भी तरह से आधिकारिक तौर पर जुड़ा हुआ नहीं है.'

इस प्रोजेक्ट के पीछे कौन था, किसने निवेशकों का पैसा उड़ाया है, इसका अभी पता नहीं चल सका है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


Video : कैसे करें क्रिप्टो की दुनिया में डायवर्स इन्वेस्टमेंट? देखिए क्या कहते हैं एक्सपर्ट?