विज्ञापन
Story ProgressBack

Ravichandran Ashwin: "इंग्लैंड ये देखकर हैरान हो जायेगा...", बैजबॉल को लेकर अश्विन ने ऐसे लिए मज़े

Ravichandran Ashwin on Bazball: इंग्लैंड के खिलाफ धर्मशाला मैच के दौरान अश्विन ने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया, पहली पारी में चार विकेट लिए और फिर दूसरी पारी में 36वीं बार पांच विकेट लिए.

Ravichandran Ashwin: "इंग्लैंड ये देखकर हैरान हो जायेगा...", बैजबॉल को लेकर अश्विन ने ऐसे लिए मज़े
Ravichandran Ashwin on Bazball

Ravichandran Ashwin on Bazball: भारत और इंग्लैंड के बीच हाल ही में समाप्त हुई टेस्ट सीरीज़ क्रिकेट की बैज़बॉल शैली के लिए एक कठिन परीक्षा थी, जिसे कोच ब्रेंडन मैकुलम के नेतृत्व में बेन स्टोक्स की टीम ने प्रसिद्ध किया था. मेहमान टीम ने हैदराबाद में पहला टेस्ट जीता लेकिन अगले चार मैचों में पूरी तरह से हार गई और 'बैज़बॉल' युग में अपनी पहली सीरीज हार गई. अनुभवी स्पिनर रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin on Bazball) ने बैज़बॉल में एक बड़ी खामी की ओर इशारा किया क्योंकि उन्होंने अपने नवीनतम यूट्यूब वीडियो में बताया कि क्रिकेट का कोई भी प्रारूप एक समान पैटर्न में नहीं खेला जा सकता है और अनुकूलन क्षमता की कमी इंग्लैंड की टीम के लिए सबसे बड़ी समस्या बन गई है.

“टेस्ट क्रिकेट, या उस मामले में क्रिकेट का कोई अन्य फेर्मेंट, रनवे पर हवाई जहाज की तरह नहीं खेला जा सकता है. जब तक हम उड़ान नहीं भर लेते तब तक हम पैडल पर कदम रखकर गति नहीं बढ़ा सकते! कभी-कभी यह हाइवे पर गाड़ी चलाने जैसा ही है. जब मैं इसके बारे में सोचता हूं, तो क्या इसका कारण यह है कि वे इंग्लैंड में कैसे गाड़ी चलाते हैं? इंग्लैंड में ड्राइविंग आनंददायक है. बीच में कोई नहीं आता. आप एक ही लेन में गाड़ी चलाना जारी रख सकते हैं. हम बाईं ओर से आगे नहीं निकल सकते. वे कभी भी अप्रत्याशित चीजों की उम्मीद नहीं करते. यदि वे कुछ अप्रत्याशित देखते हैं, तो वे दुर्घटनाग्रस्त हो जाते हैं. मुझे लगता है कि अगर वे देखेंगे कि हम भारत में कैसे गाड़ी चलाते हैं तो वे बहुत भ्रमित हो जाएंगे,'' अश्विन ने समझाया.

“भारत में आप हमेशा चौथे गियर में गाड़ी नहीं चला सकते. हम गियर बदलते रहते हैं. हम हमेशा एक पैर ब्रेक पर रखते हैं. यह अवधारणा उनके लिए पराई है! क्रॉली को हमेशा गति मिलती है, लेकिन वह इसे जारी नहीं रख पाता. बज़बॉल विरोधियों पर दबाव स्थानांतरित करने के बारे में है. लेकिन दबाव के स्थानांतरण के बाद क्या होता है? उन्हें ऐसा होना चाहिए, 'हमें उन्हें भुगतान करना होगा!'

यदि वे ऐसा करने में सफल हो जाते हैं, तो खेल जारी है. हमारे (हमारे रैंकों में) अनुभवहीनता के कारण यह शृंखला उनके अनुसार चल सकती थी. उनके पास बहुत बड़ा मौका था. यहां आने से पहले ही वे एशेज में 0-2 से पीछे थे और 2-2 से बराबरी पर थे. फिर उन्होंने पाकिस्तान को उसके घर में लूटा. लेकिन यह श्रृंखला हार कुछ ऐसी है जिससे बेन स्टोक्स एंड कंपनी सीख सकती है.'' इस बीच, अपने 100वें टेस्ट मैच में नौ विकेट लेने से भारतीय ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन को बुधवार को नवीनतम आईसीसी रैंकिंग में गेंदबाजों की सूची में फिर से शीर्ष स्थान हासिल करने में मदद मिली.

इंग्लैंड के खिलाफ धर्मशाला प्रतियोगिता के दौरान अश्विन ने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया, अनुभवी दाएं हाथ के बल्लेबाज ने पहली पारी में चार विकेट लिए और फिर दूसरी पारी में 36वीं बार पांच विकेट लिए, जिससे भारत पांचवें और अंतिम टेस्ट में शानदार जीत हासिल की. उनकी श्रृंखला के. आईसीसी ने एक बयान में कहा कि इस बड़ी उपलब्धि से अश्विन को टीम के साथी खिलाड़ी जसप्रीत बुमराह को पछाड़कर उस प्रमुख पद पर पहुंचने में मदद मिली, जो इस साल की शुरुआत में उनके पास था.

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Mohammed Shami: इंज़माम ने लगाया था अर्शदीप पर 'बॉल टैंपरिंग' का आरोप, अब शमी ने दिया मुहतोड़ जवाब
Ravichandran Ashwin: "इंग्लैंड ये देखकर हैरान हो जायेगा...", बैजबॉल को लेकर अश्विन ने ऐसे लिए मज़े
Wanindu Hasaranga steps down as Sri Lanka T20 captain ahead of India series
Next Article
SL vs IND: भारत के खिलाफ सीरीज से पहले श्रीलंका क्रिकेट को बड़ा झटका, टीम में मच गई खलबली
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;