ईशान किशन को हार्दिक पंड्या के साथ ट्रेनिंग करना पड़ा भारी? रिपोर्ट में बड़ा दावा

बीसीसीआई की केंद्रीय अनुबंध सूची से बाहर होने का मतलब है कि इन दोनों खिलाड़ियों को बीसीसीआई से सालाना फीस नहीं मिलेगी. हालांकि, यह एकमात्र नुकसान नहीं है, जिससे इन दोनों खिलाड़ियों को गुजरना पड़ेगा.

ईशान किशन को हार्दिक पंड्या के साथ ट्रेनिंग करना पड़ा भारी? रिपोर्ट में बड़ा दावा

Ishan Kishan: ईशान किशन को हार्दिक पंड्या के साथ ट्रेनिंग करना पड़ा भारी?

ईशान किशन और श्रेयस अय्यर को बीसीसीआई ने बीते बुधवार को अपने सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट से बाहर कर दिया. बीसीसीआई ने इस दौरान साफ किया कि केंद्रीय अनुबंध के लिए इन दोनों खिलाड़ियों के नामों पर विचार नहीं किया गया. ईशान किशन और श्रेयस अय्यर बीते कुछ समय से रणजी से दूर रहने के चलते बीसीसीआई के रडार पर थे. बीसीसीआई की केंद्रीय अनुबंध सूची से बाहर होने का मतलब है कि इन दोनों खिलाड़ियों को बीसीसीआई से सालाना फीस नहीं मिलेगी. हालांकि, यह एकमात्र नुकसान नहीं है, जिससे इन दोनों खिलाड़ियों को गुजरना पड़ेगा.

बीसीसीआई के 2022-23 के केंद्रीय अनुबंध में, अय्यर ग्रेड बी में थे जबकि किशन को ग्रेड सी में रखा गया था. जहां अय्यर को मैच फीस के अलावा 3 करोड़ रुपये की वार्षिक फीस मिली, वहीं किशन को 1 करोड़ रुपये मिले थे. इन दोनों खिलाड़ियों को सिर्फ पैसों का ही नुकसान नहीं हुआ है बल्कि दोनों खिलाड़ी जरूरत पड़ने पर राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) की सुविधाओं का उपयोग नहीं कर पाएंगे क्योंकि वे केंद्रीय अनुबंध का हिस्सा नहीं हैं. वे अपने संबंधित राज्य बोर्डों से मंजूरी मिलने के बाद ही एनसीए सेवाओं का लाभ उठा सकेंगे.


इसके अलावा बीसीसीआई के केंद्रीय अनुबंधित खिलाड़ियों को भी बीमा कवर मिलता है. किसी भी मामले में, यदि कोई खिलाड़ी राष्ट्रीय ड्यूटी के दौरान लगी चोट के कारण अपनी इंडियन प्रीमियर लीग टीम के लिए उपलब्ध नहीं हो पाता है, तो बोर्ड ही वित्तीय नुकसान की भरपाई करता है. अय्यर और किशन भी इससे चूक गए हैं.

ऐसे में सवाल होता है कि आखिर ऐसा क्या हुआ कि ईशान किशन और श्रेयस अय्यर ने केंद्रीय अनुबंध गंवा दिया. जनवरी में भारत के दक्षिण अफ्रीका दौरे के बीच में में टीम इंडिया से नाम वापस लेने के बाद ईशान किशन ब्रेक के बाद बड़ौदा में हार्दिक पांड्या के साथ अभ्यास करते नजर आए. भारतीय क्रिकेट टीम के कोच राहुल द्रविड़ ने इस दौरान साफ किया था कि ईशान किशन को टीम में वापसी के लिए घरेलू क्रिकेट या क्रिकेट के किसी अन्य रूप में खेलने की जरूरत है. हालांकि रणजी ट्रॉफी चल रही थी, लेकिन ईशान किशन अपनी राज्य टीम झारखंड के मैच नहीं खेले. यहां तक ​​कि उन्होंने अपने आईपीएल कप्तान हार्दिक पंड्या के साथ ट्रेनिंग भी शुरू कर दी. जिसका एक वीडियो वायरल हुआ था. राहुल द्रविड़ के अलावा बीसीसीआई सचिव जय शाह की वार्निंग के बाद भी ईशान किशन ने रणजी ट्रॉफी से दूरी बनाई थी.

दूसरी तरफ, श्रेयस अय्यर ने चोट का हवाला देते हुए मुंबई के लिए रणजी ट्रॉफी मैच के लिए खुद को अनुपलब्ध बताया. हालांकि, एनसीए की जो रिपोर्ट भेजी, वो इसके एकदम उलट था. एनसीए ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया था कि अय्यर चोटिल नहीं हैं. श्रेयस अय्यर बीते कुछ समय से टेस्ट में खराब फॉर्म से जूझ रहे थे और इंग्लैंड के खिलाफ पहले दो मैचों के बाद उन्हें ड्रॉप किया गया.

वहीं अब ईएसपीएन क्रिकइन्फो की एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि बीसीसीआई चयनकर्ता, जिन्होंने खिलाड़ियों के केंद्रीय अनुबंध को लेकर बोर्ड को सलाह दी थी, वो इस बात के नाखुश थे कि ब्रेक के दौरान ईशान किशन ने पंड्या के साथ अभ्यास किया था, जबकि अय्यर ने कोलकाता नाइट राइडर्स के साथ प्री-आईपीएल शिविर में भाग लिया था.

यह भी पढ़ें: ICC T20 World Cup के लिए कब होगा टीम इंडिया का ऐलान, सामने आई अहम जानकारी- रिपोर्ट

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

यह भी पढ़ें: AUS vs NZ: एक बार फिर ICC ने निशाने पर आया ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज, बैट से जबरन हटवाया गया ये स्टीकर