10 साल की मेहनत बेकार... आखिरी अटेंप्ट में भी असफल होने के बाद UPSC उम्मीदवार ने दिखाई हिम्मत, बोला- फिर भी मैं...

संब्याल जो जम्मू और कश्मीर के सांबा जिले में पैदा हुए और जम्मू में पले-बढ़े. 11 अंकों से चूक गए. उन्होंने ट्वीट किया, “दस साल की मेहनत मिट्टी में मिल गई.

10 साल की मेहनत बेकार... आखिरी अटेंप्ट में भी असफल होने के बाद UPSC उम्मीदवार ने दिखाई हिम्मत, बोला- फिर भी मैं...

10 साल की मेहनत बेकार... आखिरी अटेंप्ट में भी असफल होने के बाद UPSC उम्मीदवार ने दिखाई हिम्मत

यूपीएससी परीक्षा (UPSC exam) के लिए क्वालीफाई करने वालों के लिए सोशल मीडिया पर बधाई संदेश शेयर किए जा रहे थे, एक उम्मीदवार जो अपने अंतिम प्रयास में मौका चूक गया, उसने अपनी भावनाओं को व्यक्त करते हुए कहा, "दस साल की कड़ी मेहनत मिट्टी में मिल गई". लेकिन उसने परिणाम को अपनी प्रगति मानते हुए कहा, "और फिर भी मैं आगे बढ़ रहा हूं."

पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज, चंडीगढ़ (Punjab engineering college,Chandigarh) से सिविल इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने वाले रजत संब्याल (Rajat Sambyal) ने कहा कि देश में सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक को पास करने का यह उनका छठा और आखिरी प्रयास था. वह अपने पहले के प्रयासों में कभी भी अंतिम दौर में जगह नहीं बना सके. इस बार, हालांकि, वह इसमें शामिल हुए और परीक्षा में पास होने की पूरी उम्मीद की थी.

संब्याल जो जम्मू और कश्मीर के सांबा जिले में पैदा हुए और जम्मू में पले-बढ़े. 11 अंकों से चूक गए. उन्होंने ट्वीट किया, “दस साल की मेहनत मिट्टी में मिल गई. यूपीएससी के छह प्रयास पूरे हो गए हैं. तीन बार प्रीलिम्स फेल दो बार मेन फेल हो गया. अपने आखिरी प्रयास में, कल, मैंने एक इंटरव्यू में कम अंक मिलने के बाद हार मान ली.”

ट्वीट के साथ, संब्याल ने दो तस्वीरें शेयर कीं, उनका रिपोर्ट कार्ड और दिल्ली में संघ लोक सेवा आयोग कार्यालय के बाहर खींची गई उनकी तस्वीर. रिपोर्ट कार्ड से पता चला कि उन्होंने कुल 942 अंक प्राप्त किए थे. उनके ट्वीट का कई लोगों ने उत्साहजनक संदेशों के साथ जवाब दिया.

एक यूजर ने कहा, कि संब्याल एक स्ट्रक्चरल इंजीनियर के रूप में बेहतर काम कर सकते हैं. दूसरे यूजर ने लिखा, "मैं आपकी भावनाओं को समझता हूं. नियति को बदला नहीं जा सकता है. आप एक स्ट्रक्चरल इंजीनियर के रूप में उभर सकते हैं.”

तीसरे यूजर ने लिखा,सफलता की कहानियों के अलावा, कई बार "ऐसी यात्राओं को सुनना भी जरूरी है".

एक यूजर ने कहा कि यह बिल्कुल भी समय की बर्बादी नहीं है और "यह ज्ञान और पूरा अनुभव आपके भविष्य के जीवन के निर्माण में सबसे मूल्यवान साबित होगा".

पांचवे यूजर ने भी संब्याल की तरह “खुद को व्यक्त करने के साहस और क्षमता” की सराहना की.

यूपीएससी ने सोमवार को फाइनल रिजल्ट की घोषणा की. इसमें कहा गया है कि 685 उम्मीदवारों ने क्वालीफाई किया था. परिणाम यूपीएससी की वेबसाइट पर उपलब्ध हैं.

श्रुति शर्मा (Shruti Sharma) ने टॉप रैंक हासिल किया है. उन्होंने सेंट स्टीफंस कॉलेज, दिल्ली से स्नातक की उपाधि प्राप्त की, और फिर स्नातकोत्तर के लिए जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय चली गईं. दिल्ली यूनिवर्सिटी से इकोनॉमिक्स (ऑनर्स) में डिग्री हासिल करने वाली अंकिता अग्रवाल (Ankita Agarwal) दूसरे नंबर पर रहीं. तीसरी रैंक हासिल करने वाली गामिनी सिंगला (Gamini Singla) ने चंडीगढ़ के पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज से कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग में डिग्री हासिल की थी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

कोलकाता में मशहूर गायक केके का एक कार्यक्रम के बाद निधन