Malala Yousafzai हुईं ग्रेजुएट, कॉलेज में ऐसे मनाया जश्न, बताई अपनी फ्यूचर Planning

मलाला युसुफ़ज़ई (Malala Yousafzai) ने ब्रिटेन के प्रतिष्ठित ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय (Oxford University) में फिलोसॉफी, राजनीति और अर्थशास्त्र में अपनी डिग्री पूरी की. उन्होंने अपनी फ्यूचर प्लानिंग (Malala's Future Planning) का खुलासा किया.

Malala Yousafzai हुईं ग्रेजुएट, कॉलेज में ऐसे मनाया जश्न, बताई अपनी फ्यूचर Planning

Malala Yousafzai हुईं ग्रेजुएट, कॉलेज में ऐसे मनाया जश्न... देखें Photos

नोबेल शांति पुरस्कार विजेता मलाला युसुफ़ज़ई (Malala Yousafzai) ने ब्रिटेन के प्रतिष्ठित ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय (Oxford University) में फिलोसॉफी, राजनीति और अर्थशास्त्र (Philosophy, Politics and Economics) में अपनी डिग्री पूरी की. मलाला ऑक्सफोर्ड के लेडी मार्गरेट हॉल कॉलेज (Lady Margaret Hall college) में पढ़ती थीं. उन्होंने शुक्रवार को सोशल मीडिया पर दो तस्वीरें साझा कीं, जिसमें उन्होंने अपने परिवार के साथ बड़े अवसर का जश्न मनाया और भविष्य के लिए अपनी योजनाओं (Malala's Future Planning) का खुलासा किया. 

22 वर्षीया मलाला (Malala Yousafzai) ने दो तस्वीरों को साझा करते हुए लिखा, 'ऑक्सफोर्ड में अपनी फिलॉसफी, पॉलिटिक्स और इकोनॉमिक्स की डिग्री पूरी की है, जिसकी मुझे बहुत ज्यादा खुशी है.' एक तस्वीर में वो अपने परिवार के साथ जश्न मनाती दिख रही हैं. उन्होंने परिवार के साथ केक काटा. केक में लिखा हुआ है, 'हैप्पी ग्रेजुएशन मलाला.' दूसरी तस्वीर में उनके चेहरे पर बहुत सारा केक लगा है और वो मुस्कुरा रही हैं.

मलाला ने तत्काल भविष्य के लिए अपनी योजनाओं का भी खुलासा किया- बहुत सारा नेटफ्लिक्स, पढ़ना और सोना. उन्होंने लिखा, 'मुझे नहीं पता कि आगे क्या है. अभी के लिए, यह नेटफ्लिक्स, पढ़ना और सोना होगा.'

मलाला के इस पोस्ट पर अब तक 1.2 लाख लाइक्स और 15 हजार बार रि-ट्वीट किया जा चुका है. 2 हजार से ज्यादा लोगों ने उनको ग्रेएजुएट होने की बधाई दी है.


मलाला ने महिलाओं की शिक्षा के लिए खड़े होने के लिए दुनिया भर में ख्याति अर्जित की. 2012 में, पाकिस्तान में तालिबान द्वारा लड़कियों को स्कूल जाने की अनुमति देने के अभियान में उन्हें सिर में गोली मार दी गई थी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


2014 में, मलाला शिक्षा की वकालत करने के लिए नोबेल शांति पुरस्कार पाने वाली सबसे कम उम्र की प्राप्तकर्ता बनीं. वह उत्पीड़न के मामले में महिलाओं की लचीलापन का एक वैश्विक प्रतीक बन गईं.