क्या आनंद महिंद्रा ने कहा था, कि स्कूलों में Stock Market Trading की शिक्षा दी जानी चाहिए ?

"मैंने हमेशा सूचनाओं को लोकतांत्रिक बनाने और ज्ञान साझा करने के लिए सोशल मीडिया में विश्वास किया है." उन्होंने कहा, "लेकिन नकारात्मक पक्ष गलत तरीके से उद्धृत उद्धरण है! जब भी संभव हो मैं उन्हें सामने लाने की पूरी कोशिश करूंगा..."

क्या आनंद महिंद्रा ने कहा था, कि स्कूलों में Stock Market Trading की शिक्षा दी जानी चाहिए ?

क्या आनंद महिंद्रा ने कहा था, कि स्कूलों में Stock Market Trading की शिक्षा दी जानी चाहिए ?

आनंद महिंद्रा सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते हैं और अपने फैंस और फॉलोअर्स के साथ हमेशा कनेक्ट रहते हैं. लेकिन, कई बार ऐसा होता है कि सोशल मीडिया पर कही हुई बातों का लोग गलत मतलब भी निकाल लेते हैं और उसे गलत तरीके से दुनिया के सामने पेश किया जाता है. ऐसा ही कुछ हुआ है आनंद महिंद्रा के साथ. एक पोस्ट के अनुसार, आनंद महिंद्रा ने कहा, कि स्कूलों में स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग सिखाई जानी चाहिए.

श्री महिंद्रा ने कहा, कि वह किसी ऐसे व्यक्ति के रूप में देखे जाने के लिए "खुश" थे, जिनके शब्द उद्धृत करने के योग्य थे, लेकिन लोकप्रिय उद्धरण, जिसे व्यापक रूप से ऑनलाइन शेयर किया गया है, वास्तव में उनका नहीं है.

कथित तौर पर उद्धरण में आनंद महिंद्रा की कुछ "जीवन बदलने वाली सलाह" शामिल है. जिसमें लिखा है, "आनंद महिंद्रा ने हाल ही में एक भाषण में कहा था 'मध्य विद्यालय शिक्षा में शेयर बाजार व्यापार अनिवार्य किया जाना चाहिए.'

आनंद महिंद्रा (Anand Mahindra) ने कल रात उस Quote को शेयर करते हुए लिखा, "मैं खुश हूं कि कुछ लोगों का मानना ​​है कि मेरे बयानों को उद्धृत किया जा सकता है और मैंने हमेशा सूचनाओं को लोकतांत्रिक बनाने और ज्ञान साझा करने के लिए सोशल मीडिया में विश्वास किया है." उन्होंने कहा, "लेकिन नकारात्मक पक्ष गलत तरीके से उद्धृत उद्धरण है! जब भी संभव हो मैं उन्हें सामने लाने की पूरी कोशिश करूंगा..."

शेयर किए जाने के बाद से उनके ट्वीट को लगभग 5 हजार से ज्यादा लाइक और सैकड़ों कमेंट्स मिल चुके हैं, एक ट्विटर यूजर ने व्यवसायी के लिए फेक न्यूज को खत्म करने के लिए एक आसान शॉर्टकट भी शेयर किया.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


पिछले साल, उद्योगपति रतन टाटा ने भी उनके एक पोस्ट को गलत तरीके से दिखाए जाने के बारे में जानकारी दी थी. उस समय श्री टाटा ने उस पोस्ट पर प्रतिक्रिया व्यक्त की, "यह पोस्ट न तो कहा गया है, न ही मेरे द्वारा लिखा गया है. मैं आपसे व्हाट्सएप और सोशल प्लेटफॉर्म पर प्रसारित मीडिया को सत्यापित करने का आग्रह करता हूं," जिसने "अर्थव्यवस्था के भारी पतन" को कोरोनवायरस या कोविड-19 महामारी ​​​​से जोड़ा था.