दिल छू लेगी सागर की कहानी, पिता का सपना सच करने के लिए 19 साल की उम्र में उठाया जिंदगी का भार, लोग कर रहे तारीफ

सागर ने बीते साल अपने माता-पिता को खो दिया और उस पर एक छोटी बहन की जिम्मेदारी भी है. ऐसे में सागर ने पिता की बंद पड़ी दुकान को फिर से खोला और नया अध्याय लिखने निकल पड़ा.

दिल छू लेगी सागर की कहानी, पिता का सपना सच करने के लिए 19 साल की उम्र में उठाया जिंदगी का भार, लोग कर रहे तारीफ

पिता के बंद पड़े होटल को चला रहा सागर

सपने देखने के लिए आंखों की नहीं हौसलों की जरूरत होती है. अगर दिल में कुछ करने की चाहत हो और इंसान ठान ले तो फिर वो चीज मुश्किल नहीं लगती और पांव अपने आप मंजिल की तरफ बढ़ते जाते हैं. कोलकाता (Kolkata) के 19 साल के युवक सागर की भी कुछ ऐसी ही कहानी है. सागर ने बीते साल अपने माता-पिता को खो दिया और उस पर एक छोटी बहन की जिम्मेदारी भी है. ऐसे में सागर ने पिता की बंद पड़ी दुकान को फिर से खोला और नया अध्याय लिखने निकल पड़ा.

मंजिल तक बढ़ता सागर

हाल में एक कंटेंट क्रिएटर ने सागर की कहानी को इंस्टाग्राम पर शेयर किया. वीडियो में बांग्ला फिल्मों की मशहूर एक्ट्रेस स्वास्तिका मुखर्जी भी सागर की दुकान पर चावल और दाल खाती दिख रही हैं. वीडियो को कैप्शन देते हुए लिखा है, त्रासदी को विजय में बदलना..सागर, एक 19 साल के सागर ने दिखाया है कि समर्पण और दूरदर्शिता के साथ, महान चीजें अभी भी हासिल की जा सकती हैं. जैसे ही वह अपने दिवंगत पिता के सड़क किनारे स्थित राइस होटल को फिर से खोलता है और उनकी याद में एक रेस्तरां खोलने के उनके सपने को पूरा करने की दिशा में काम करता है, वह बाधाओं के बावजूद हमारे जुनून को आगे बढ़ाने के लिए एक उदाहरण पेश करता है.'

देखें Video:

अकेले चलाता है दुकान

सागर अपनी इस दुकान में खाना बनाने से लेकर सर्व करने और बर्तनों को साफ करने तक का काम खुद ही करता है. साथ ही वह कंप्यूटर क्लासेस भी करता है और छोटी बहन को भी संभालता है. सागर का सपना है कि वह शहर के बीच में एक दिन अपना खुद का रेस्टोरेंट खोलेगा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

वीडियो शेयर किए जान के बाद इसे 2 लाख से अधिक लोग लाइक कर चुके हैं और कमेंट कर लोग इसे बेहद इंस्पायरिंग बता रहे हैं. एक यूजर ने कमेंट करते हुए लिखा, सभी हीरोज कैप नहीं पहनते, सागर को भगवान ताकत दें. दूसरे ने लिखा, ये है सोशल मीडिया का पॉजिटिव साइड. एक अन्य ने लिखा, समाज को ऐसे ही बदलाव की जरूरत है.