अफगानिस्तान सीमा के पास आतंकवादी हमले में दो पाकिस्तानी सैनिकों की मौत

हमला खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के उत्तरी वजीरिस्तान जिले की दत्ता खेल तहसील में हुआ. सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ के बाद हमलावर वहां से भाग गए.

अफगानिस्तान सीमा के पास आतंकवादी हमले में दो पाकिस्तानी सैनिकों की मौत

तहरीक-ए-तालिबान पिछले एक दशक से पाकिस्तान में हुए विभिन्न हमलों में शामिल रहा है. 

काबुल:

अफगानिस्तान (Afghanistan) की सीमा से लगे पाकिस्तान (Pakistan) के अशांत उत्तरी वजीरिस्तान जिले में अज्ञात आतंकवादियों (Terrorist) ने एक सुरक्षा जांच चौकी पर हमला किया, जिसमें दो सैनिकों की मौत हो गई. पाकिस्तानी सेना ने यह जानकारी दी. सेना की मीडिया इकाई ने शनिवार को बताया कि हमला खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के उत्तरी वजीरिस्तान जिले की दत्ता खेल तहसील में हुआ. सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ के बाद हमलावर वहां से भाग गए. सेना ने एक बयान में कहा है कि गोलीबारी के दौरान सैनिकों की मौत हुई. किसी भी समूह ने हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है. नौ नवंबर से प्रभावी संघर्ष विराम के दौरान सुरक्षा बलों पर यह तीसरा हमला है. पहले दो हमलों में आतंकवादियों ने खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के बाजौर कबायली जिले में दो पुलिसकर्मियों और टैंक जिले में एक सैनिक की हत्या कर दी थी.

पाकिस्तान के साथ बात करते समय तालिबान रख रहा है भारत के रुख़ की भी चिंता - सूत्र

पाकिस्तान सरकार और प्रतिबंधित आतंकवादी समूह तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) (TTP) ने देश में स्थायी शांति हासिल करने की दिशा में आगे की बातचीत के लिए इस महीने एक महीने के संघर्ष विराम पर सहमति जताई. टीटीपी पिछले एक दशक से अधिक समय से पाकिस्तान में विभिन्न हमलों में संलिप्त रहा है. 

सूत्र का दावा है कि तालिबान पाकिस्तान और भारत के साथ संबंधों को लेकर एक संतुलन बनाने की कोशिश कर रहा है. इसलिए तालिबान ने भारत में सात देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों की बैठक को लेकर भी कोई नकारात्कम प्रतिक्रिया नहीं दी. तालिबानी प्रवक्ता ज़बीबुल्लाह मुजाहिद ने इसे अफ़ग़ानिस्तान के हित में बताया था. कहा था कि बेशक हम इस बैठक में मौजूद नहीं थे लेकिन हमें लगता है कि ये अफ़ग़ानिस्तान की बेहतरी की मंशा के साथ किया गया.

पाकिस्तान भारत को जमीन के रास्ते 50 हजार मीट्रिक टन गेहूं अफगानिस्तान भेजने देने के लिए तैयार


अफगानिस्तान को लेकर भारत में हुई बैठक में क्या-क्या प्रस्ताव आए?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)