US में भारतीय मूल के दो लोगों ने Online धोखाधड़ी से बुज़ुर्गों को बनाया निशाना, 12 लाख डॉलर ऐंठे

गिरोह के सदस्य खुद को अमेरिका के सामाजिक सुरक्षा प्रशासन, संघीय जांच एजेंसी (FBI) आदि जैसी एजेंसियों का सरकारी अधिकारी बताकर लोगों को उनकी बात नहीं मानने पर गंभीर कानूनी एवं आर्थिक परिणाम भुगतने की धमकी भी देते थे.

US में भारतीय मूल के दो लोगों ने Online धोखाधड़ी से बुज़ुर्गों को बनाया निशाना, 12 लाख डॉलर ऐंठे

भारत स्थित कॉल सेंटर के माध्यम से अमेरिकी नागरिकों को बनाया निशाना (प्रतीकात्मक तस्वीर)

वॉशिंगटन :

अमेरिका (US) में भारतीय मूल (Indian Origin)  के दो लोगों ने ऑनलाइन माध्यमों (Online Platforms) से लोगों से 12 लाख डॉलर की धोखाधड़ी करने की साजिश रचने का दोष स्वीकार कर लिया है. अमेरिका के एक अटॉर्नी ने यह जानकारी दी. प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, अरुशोबाइक मित्रा (27) और गरबिता मित्रा (24) अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ऑनलाइन धोखाधड़ी (Online Fraud) करने वाले एक गिरोह का हिस्सा थे. इस गिरोह के सदस्य भारत स्थित कॉल सेंटर के माध्यम से अमेरिकी नागरिकों, खासकर बुजुर्गों को ‘रोबोकॉल' (इंटरनेट के जरिए फोन करके) के जरिए निशाना बनाते थे.

अमेरिकी अटॉर्नी फिलिप आर. सेलिंगर ने इस गिरोह के काम करने के तरीके पर विस्तार से बताते हुए कहा कि इंटरनेट से फोन करके लोगों से संपर्क किया जाता था और गिरोह के सदस्य उन्हें प्रत्यक्ष रूप से अथवा ‘वायर ट्रांसफर' (ऑनलाइन) के माध्यम से बड़ी रकम भेजने के लिए मजबूर करते थे.

गिरोह के सदस्य खुद को अमेरिका के सामाजिक सुरक्षा प्रशासन, संघीय जांच एजेंसी (FBI) आदि जैसी एजेंसियों का सरकारी अधिकारी बताकर लोगों को उनकी बात नहीं मानने पर गंभीर कानूनी एवं आर्थिक परिणाम भुगतने की धमकी भी देते थे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अरुशोबाइक मित्रा और गरबिता मित्रा ने कुल 48 लोगों को अपना निशाना बनाकर उन्हें 12 लाख अमेरिकी डॉलर से अधिक का चूना लगाया था. इस मामले में दोनों को 20 साल की जेल और ढाई लाख डॉलर का जुर्माना लगाया जा सकता है.