विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Dec 28, 2022

यूक्रेन के खिलाफ युद्ध में बढ़त की रूस की चाहत से परमाणु युद्ध का खतरा मंडराया

यूक्रेन पर हुए हमले के बाद से ही रूसी TV चैनलों पर बार-बार पेरिस या न्यूयॉर्क जैसे पश्चिमी शहरों पर परमाणु हमलों को लेकर चर्चा की गई है. एक पूर्व रूसी राजनयिक ने नाम प्रकाशित नहीं करने की शर्त पर चेताया कि अगर राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन को रूस के अस्तित्व पर खतरा महसूस हुआ, तो "वह बटन दबा देंगे..."

Read Time: 3 mins
यूक्रेन के खिलाफ युद्ध में बढ़त की रूस की चाहत से परमाणु युद्ध का खतरा मंडराया
पूर्व रूसी राजनयिक ने चेताया है कि अगर पुतिन को रूस के अस्तित्व पर खतरा महसूस हुआ, तो "वह बटन दबा देंगे..."
पेरिस:

कई दशकों से आम आदमी की सोच से परे रहे परमाणु युद्ध के डरावने सपने यूक्रेन पर रूस के हमले के साथ ही वापस आ गए हैं. रूस युद्ध के दौरान बैकफुट पर नज़र आने लगा है, और इसी से आशंका प्रबल हुई है कि अब कामयाबी की सूरत देखने के लिए रूस अपने परमाणु हथियारों का सहारा ले सकता है.

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी सदस्य देश - अमेरिका, रूस, चीन, ब्रिटेन और फ्रांस - ही दुनियाभर में परमाणु शक्तिसंपन्न देशों के रूप में जाने-पहचाने जाते हैं.

NATO के पूर्व उप-महासचिव कैमिले ग्रैंड का कहना है, "यह पहला मौका है, जब किसी परमाणु शक्तिसंपन्न मुल्क ने पारम्परिक युद्ध छेड़ा है..."

समाचार एजेंसी AFP से कैमिले ग्रैंड ने कहा, "कोई यह कल्पना तो कर सकता है कि कोई बुरा देश ऐसा रवैया अपना सकता है, लेकिन यह तो दुनिया की दो सबसे प्रमुख परमाणु शक्तियों में से एक, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का सदस्य देश है..." हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि हथियारों का असल में इस्तेमाल किया जाना अब भी 'असंभावित' है.

वर्ष 1945 में द्वितीय विश्वयुद्ध के अंत में हिरोशिमा और नागासाकी पर अमेरिकी परमाणु हमले के बाद उभरा नैतिक और रणनीतिक 'टैबू' फिलहाल कायम है, लेकिन बयानबाजी अब काफी तेज़ी पकड़ चुकी है.

यूक्रेन पर हुए हमले के बाद से ही रूसी TV चैनलों पर बार-बार पेरिस या न्यूयॉर्क जैसे पश्चिमी शहरों पर परमाणु हमलों को लेकर चर्चा की गई है. एक पूर्व रूसी राजनयिक ने नाम प्रकाशित नहीं करने की शर्त पर चेताया कि अगर राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन को रूस के अस्तित्व पर खतरा महसूस हुआ, तो "वह बटन दबा देंगे..."

इस साल हुई घटनाएं समूचे यूरोप के लिए 'आंखें खोल देने वाली' रही हैं, जो कई दशकों तक परमाणु सुरक्षा के मामले में शीत युद्ध से मिल रहे लाभ का आनंद लेता रहा, जबकि अटलांटिक के उस पार अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने इसी साल अक्टूबर में दुनिया के सिर पर संभावित 'विश्वयुद्ध' का खतरा मंडराने की चेतावनी दी थी.

--- ये भी पढ़ें ---
* "2023 में US में छिड़ेगा गृहयुद्ध, मस्क बनेंगे राष्ट्रपति...", पुतिन के करीबी की भविष्यवाणी
* 23-वर्षीय सोशल मीडिया इन्फ्लुएन्सर लीना का शव फंदे से लटका मिला
* COVID-19 वैक्सीन की बूस्टर डोज़ ले चुके लोग नहीं ले सकेंगे नेज़ल वैक्सीन

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
मक्का में भीषण गर्मी के कहर से 500 से ज्यादा हज यात्रियों की मौत, पारा 52°C के करीब पहुंचा
यूक्रेन के खिलाफ युद्ध में बढ़त की रूस की चाहत से परमाणु युद्ध का खतरा मंडराया
"आज़ादी": पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में भारी विरोध प्रदर्शन, झड़प में 90  घायल
Next Article
"आज़ादी": पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में भारी विरोध प्रदर्शन, झड़प में 90 घायल
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;