विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Nov 28, 2022

चीन में जीरो कोविड पॉलिसी से गुस्साए लोगों का प्रदर्शन, राष्‍ट्रपति शी चिनफिंग के खिलाफ लगे नारे

शिंजियांग क्षेत्र की राजधानी उरुमकी में गुरुवार को एक ऊंची इमारत में आग लगने से 10 लोगों की मौत हो गई. इससे पूरे चीन में गुस्सा फैल गया है.

Read Time: 4 mins
चीन में जीरो कोविड पॉलिसी से गुस्साए लोगों का प्रदर्शन, राष्‍ट्रपति शी चिनफिंग के खिलाफ लगे नारे
चीन में कोविड पॉलिसी के खिलाफ प्रदर्शन तेज
शंघाई:

देश की शून्य-कोविड नीति के विरोध में रविवार को चीन के प्रमुख शहरों में सैकड़ों लोग सड़कों पर उतर आए. सड़कों पर गुस्सा प्रदर्शन कर रहे लोगों में गुस्सा देखा गया. शिंजियांग क्षेत्र की राजधानी उरुमकी में गुरुवार को एक ऊंची इमारत में आग लगने से 10 लोगों की मौत हो गई. इससे पूरे चीन में गुस्सा फैल गया है. रविवार की रात, कम से कम 400 लोग राजधानी बीजिंग में एक नदी के किनारे कई घंटों तक जमा रहे, कुछ लोग चिल्ला रहे थे: "हम सभी झिंजियांग के लोग हैं! जाओ चीनी लोग!" घटनास्थल पर एएफपी के पत्रकारों ने बताया कि भीड़ राष्ट्रगान गा रही थी और भाषण सुन रही थी, जबकि नहर के दूसरी तरफ पुलिस की कारों की कतार लगी हुई थी.

अधिकारियों ने कारों को गुजरने से रोकने के लिए सड़क को अवरुद्ध कर दिया और और पुलिस अधिकारी घटनास्थल पर पहुंचे. लगभग 2:00 बजे (1800 GMT) वे अर्धसैनिक पुलिस के कोचों से जुड़े. आखिरकार प्रदर्शनकारियों ने अधिकारियों को उनकी मांगों को सुनने का वादा करने के बाद छोड़ने पर सहमति व्यक्त की. डाउनटाउन शंघाई में एएफपी ने प्रदर्शनकारियों के समूहों के साथ पुलिस की झड़प देखी, रात भर जमा हुई भीड़ -- जिनमें से कुछ शी जिनपिंग के खिलाफ नारे लगा रहे थे वो रविवार सुबह तक तितर-बितर हो गए. लेकिन दोपहर में सैकड़ों लोग उसी इलाके में कागज और फूलों की खाली चादरों के साथ इकट्ठा हुए.

एक विदेशी शख्स ने अपनी पहचान ने बताने की शर्त पर एएफपी को बताया, "ऐसा लगता है कि पुलिस विरोध प्रदर्शनों का नेतृत्व करने वाले संदिग्ध व्यक्तियों की तलाश कर रही है."आधी रात तक ये क्षेत्र शांत था, हालांकि सैकड़ों पुलिस अधिकारियों और कुछ स्थानों पर सड़क के दोनों किनारों पर दर्जनों कारों की कतार लगी हुई थी. इससे पहले दिन में, लगभग 200 से 300 छात्रों ने बीजिंग के इलीट सिंघुआ विश्वविद्यालय में लॉकडाउन के विरोध में रैली की. एक वीडियो जो उसी स्थान पर लिया गया प्रतीत होता है, उसमें छात्रों को "लोकतंत्र और कानून का शासन, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता" चिल्लाते हुए दिखाया गया था.

विश्वविद्यालय में एक दीवार पर कुछ कोविड विरोधी नारे लिखे हुए थे. सोशल मीडिया पर वीडियो ने नानजिंग इंस्टीट्यूट ऑफ कम्युनिकेशंस में बड़े पैमाने पर सतर्कता दिखाई, जिसमें लोग रोशनी और कागज की सफेद बोर्ड पकड़े हुए थे. संस्थान से संबंधित हैशटैग को वीबो पर सेंसर कर दिया गया था, और वीडियो प्लेटफॉर्म डुओयिन और कुइशौ को फुटेज से हटा दिया गया था. शीआन, ग्वांगझू और वुहान के परिसरों से इसी तरह के विरोध प्रदर्शन के वीडियो भी तेजी से वायरल हुए. चीन ने रविवार को 39,506 घरेलू कोविड-19 मामलों की सूचना दी, जिससे साफ जाहिर हो रहा है चीन में कोरोना फिर से तेजी से पैर पसार रहा है. सैकड़ों लोग उरुमकी के सरकारी कार्यालयों के बाहर जमा हो गए और नारे लगा रहे थे: "लॉकडाउन हटाओ!", 

ये भी पढ़ें : अमेरिका में बिजली लाइनों से टकराया प्लेन, 90 हजार से ज्यादा घरों में छाया अंधेरा

ये भी पढ़ें : आज का इजराइल : ऐसा मुल्क जो अस्तित्व में आने के साथ ही चुनौतियों से घिरा रहा

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
2023 में दुनिया में 14.5 मिलियन बच्चों को नहीं मिली DTP की खुराक : संयुक्त राष्ट्र
चीन में जीरो कोविड पॉलिसी से गुस्साए लोगों का प्रदर्शन, राष्‍ट्रपति शी चिनफिंग के खिलाफ लगे नारे
उत्तर कोरिया पहुंचे रूसी राष्‍ट्रपति पुतिन, 24 साल में पहली यात्रा, अमेरिका ने जताई चिंता
Next Article
उत्तर कोरिया पहुंचे रूसी राष्‍ट्रपति पुतिन, 24 साल में पहली यात्रा, अमेरिका ने जताई चिंता
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;