पाकिस्‍तान: आतंकी हाफिज सईद का बेटा लड़ेगा आम चुनाव, लश्‍कर में पिता के बाद माना जाता है 'नंबर-2'

भारत तल्हा सईद को संयुक्त राष्ट्र के सूचीबद्ध आतंकवादी के रूप में भी नामित कराने की कोशिश कर रहा है. इसे लेकर अमेरिका ने भारत का समर्थन किया है, हालांकि भारत के प्रयासों को चीन बार-बार रोक रहा है. 

खास बातें

  • आतंकी हाफिज सईद का बेटा पाकिस्‍तान के आम चुनावों में मुकाबले में है
  • हाफिज तल्‍हा सईद ने लाहौर ने लाहौर की एक सीट से नामांकन दाखिल किया है
  • तल्‍हा सईद को भारत ने पिछले साल ही आतंकवादी घोषित किया था
नई दिल्ली :

पाकिस्‍तान (Pakistan) में चुनावों की तैयारी जोरों पर हैं, यहां पर 8 फरवरी को आम चुनाव (General Elections) होने हैं. इन चुनावों में 26/11 मुंबई हमलों (26/11 Mumbai Attacks) के मास्टरमाइंड और आतंकी हाफिज सईद (Hafiz Saeed) द्वारा समर्थित एक राजनीतिक दल भी मुकाबले में है. पार्टी के उम्मीदवारों में हाफिज सईद का बेटा और लश्कर-ए-तैयबा का नेता हाफिज तल्हा सईद (Hafiz Talha Saeed) भी शामिल हैं. तल्हा सईद को लश्कर-ए-तैयबा में अपने पिता के बाद नंबर 2 माना जाता है.

तल्‍हा सईद को पिछले साल ही गृह मंत्रालय ने गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम के तहत नामित आतंकवादी घोषित किया था. साथ ही अधिसूचना में कहा गया था कि भारत में लश्कर-ए-तैयबा द्वारा भर्ती, धन संग्रह, योजना बनाने और हमलों को अंजाम देने में तल्हा सईद सक्रिय रूप से शामिल रहा है. 

भारत तल्हा सईद को संयुक्त राष्ट्र के सूचीबद्ध आतंकवादी के रूप में भी नामित कराने की कोशिश कर रहा है. इसे लेकर अमेरिका ने भारत का समर्थन किया है, हालांकि भारत के प्रयासों को चीन बार-बार रोक रहा है. 

हाफिज तल्हा सईद 2019 में उस वक्‍त सुर्खियों में आया था, जब उसकी हत्या के असफल प्रयास में एक लश्कर समर्थक की मौत हो गई थी और सात अन्य घायल हो गए थे. हाफिज तल्‍हा को लाहौर के एक रेफ्रिजरेटर स्टोर में आयोजित धार्मिक सभा में बोलना था, जब एक विस्फोट हुआ. हालांकि उसे चोटें आई, लेकिन वह बच गया.  

इमरान खान भी इसी सीट से लड़ सकते हैं चुनाव 

तल्हा सईद ने लाहौर के NA-122 निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ने के लिए अपना नामांकन पत्र दाखिल किया है. इस सीट से जो बड़ा नाम चुनाव लड़ सकता है, वो पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री और दिग्‍गज क्रिकेटर इमरान खान का है. इमरान खान फिलहाल जेल में हैं.

हाफिज की राजनीतिक कोशिशें नहीं रही सफल 

हाफिज सईद फिलहाल जेल में है. उसकी राजनीतिक करियर शुरू करने की पहले की कोशिशों को ज्‍यादा सफलता नहीं मिली है. उन्होंने 2018 के चुनावों में हाफिज ने अपनी अल्लाह-ओ-अकबर तहरीक पार्टी के 265 सीटों पर उम्मीदवार उतारे थे, हालांकि इनमें से कोई भी जीत नहीं सका. इस बार भी वह पाकिस्तानी मरकजी मुस्लिम लीग नाम की नई पार्टी के साथ चुनाव में हैं और सभी सीटों पर चुनाव लड़ रहे हैं. 

ये भी पढ़ें :

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

* शेर के बच्चे को कार में बैठाकर घुमा रहे थे लोग, पाकिस्तानी फोटोग्राफर ने शेयर किया Video, देखकर भड़की पब्लिक
* पाकिस्‍तान : अदियाला जेल से रिहाई के बाद पूर्व विदेश मंत्री कुरैशी को फिर किया गिरफ्तार
* पाकिस्‍तान में पहली बार एक हिंदू महिला ने चुनाव लड़ने के लिए दाखिल किया नामांकन