सीरम इंस्‍टीट्यूट में बनने जा रही Novavax कोविड वैक्‍सीन है 90% प्रभावी

कंपनी की ओर से जारी बयान में कहा गया है, 'टीके/इंजेक्‍शन ने मॉडरेट और सीवियर (मध्‍यम और गंभीर) बीमारी के खिलाफ 100% सुरक्षा दिखाई है जबकि कुल मिलाकर इसकी प्रभावशीलता (Efficacy) 90.4% है. अमेरिका और मैक्‍सिको के 119 स्‍थानों पर 29,960 प्रतिभागियों पर यह अध्‍ययन किया गया. '

सीरम इंस्‍टीट्यूट में बनने जा रही Novavax कोविड वैक्‍सीन है 90% प्रभावी

प्रतीकात्‍मक फोटो

खास बातें

  • अमेरिका में बड़े स्‍तर पर स्‍टडी के बाद निष्‍कर्ष
  • जल्‍द ही मंजूरी के लिए आवेदन करेगी कंपनी
  • मध्‍यम और गंभीर बीमारी के खिलाफ दी 100% सुरक्षा
वॉशिंगटन:

Novavax के कोविड-19 टीके को कोरोना वेरिएंट के खिलाफ 90 फीसदी से अधिक प्रभावी पाया गया है. अमेरिका में वृहद स्‍तर पर हुई स्‍टडी के आधार पर वैक्‍सीन निर्माता कंपनी ने मंगलवार को यह खुलासा किया. कंपनी की ओर से जारी बयान में कहा गया है, 'टीके/इंजेक्‍शन ने मॉडरेट और सीवियर (मध्‍यम और गंभीर) बीमारी के खिलाफ 100% सुरक्षा दिखाई है जबकि कुल मिलाकर इसकी प्रभावशीलता (Efficacy) 90.4% है. अमेरिका और मैक्‍सिको के 119 स्‍थानों पर 29,960 प्रतिभागियों पर यह अध्‍ययन किया गया. ' मेरीलैंड के मुख्‍यालय वाली इस कंपनी ने कहा कि यह वर्ष 2021 के तीसरे क्‍वार्टर में नियामक मंजूरी के लिए आवेदन करने पर विचार कर रही है.

बंगाल में कोरोना से जुड़ी पाबंदियां 1 जुलाई तक बढ़ाई गईं, रेस्टोरेंट व विनिर्माण इकाइयां खुलेंगी

कंपनी ने कहा कि इसके बाद, यह तीसरे क्‍वार्टर के अंत तक 100 मिलियन (10 करोड़) और वर्ष के अंत तक हर माह 150 मिलियन यानी 15 करोड़ डोज तैयार करने की स्थिति में होगी. कंपनी के अध्‍यक्ष और सीईओ स्‍टेनले सी एर्क ने यह जानकारी दी. उन्‍होंने कहा, 'कंपनी कोविड 19 की एक अतिरिक्‍त वैक्‍सीन की वैश्विक स्‍वास्‍थ्‍य जरूरत के मामले में एक कदम और आगे बढ़ गई है. Novavax नियामक मंजूरी और वैक्‍सीन की उपलब्‍धता की जरूरत को पूरा करने के लिए काम जारी रखेगी.'


MP: भाजयुमो नेता को समर्थकों की भीड़ के बीच बर्थडे मनाना पड़ा महंगा, 10 हजार रु. का जुर्माना

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गौरतलब है कि जहां कुछ अमीर देशों ने अपनी आबादी के टीकाकरण मामले में अच्‍छी प्रगति की है लेकिन मुख्‍य चिंता इस बात को लेकर है कि कई गरीब देश, वैश्विक टीकाकरण की इस रेस में पीछे छूट गए हैं. वैक्‍सीन का सबके लिए उपलब्‍ध न होना और इसकी कीमत को इसका कारण माना जा रहा है.गौरतलब है कि सीरम इंस्‍टीट्यूट, पहले ही सरकार को बता चुका है कि वह जून में 10 करोड़ कोविशील्ड खुराकों का उत्पादन और आपूर्ति करेगा. वह नोवावैक्स टीका भी बना रहा है. नोवावैक्स के लिए अमेरिका से नियामक संबंधी मंजूरी अभी नहीं मिली है.डीसीजीआई ने अप्रैल में इसके आपात इस्तेमाल को मंजूरी दे दी थी.