नेशनल ज्‍योग्राफिक की हरी आंखों वाली और "अफगानिस्‍तान की सबसे प्रसिद्ध शरणार्थी" इटली पहुंची 

1980 के दशक में अमेरिकी फोटोग्राफर स्टीव मैककरी द्वारा पाकिस्तान के एक शिविर में उनके चित्र खींचने के बाद गुला यकीनन अफगानिस्तान की सबसे प्रसिद्ध शरणार्थी बन गई थी.

नेशनल ज्‍योग्राफिक की हरी आंखों वाली और

अमेरिकी फोटोग्राफर स्टीव मैककरी ने शरबत गुला की यह तस्‍वीर खींची थी.

रोम :

इटली (Italy) की सरकार ने गुरुवार को कहा कि नेशनल ज्योग्राफिक (National Geographic) के कवर पेज पर दशकों पहले सामने आई हरी आंखों वाली अफगान महिला शरबत गुला (Sharbat Gula) को यहां लाया गया है. तारीख बताए बिना एक बयान में कहा, "अफगान नागरिक शरबत गुला रोम पहुंच गई हैं." रोम ने कहा कि उसने तालिबान-नियंत्रित देश छोड़ने में मदद करने के लिए अफगानिस्तान (Afghanistan) में काम कर रहे गैर-लाभकारी संगठन को बताया था. उन्‍होंने कहा, " अफगान नागरिकों के लिए व्यापक निकासी कार्यक्रम और सरकार की योजना के एक हिस्से के रूप में इटली तक लाया गया."

1980 के दशक में अमेरिकी फोटोग्राफर स्टीव मैककरी द्वारा पाकिस्तान के एक शिविर में उनके चित्र खींचने के बाद गुला यकीनन अफगानिस्तान की सबसे प्रसिद्ध शरणार्थी बन गई और इसे नेशनल ज्योग्राफिक पत्रिका के फ्रंट कवर पर प्रकाशित किया गया था. 

इलाज के लिए भारत आएगी शरणार्थी संघर्ष का चेहरा बनी 'अफगान गर्ल' शरबत गुला

गुला ने कहा कि वह 1979 के सोवियत आक्रमण के करीब चार या पांच साल बाद पहली बार एक अनाथ के रूप में पाकिस्तान पहुंची थी. वह उन लाखों अफगानों में से एक थी, जिन्‍होंने तब सीमा पर शरण ली थी. फर्जी पहचान पत्रों पर पाकिस्तान में रहने के आरोप में गिरफ्तार होने के बाद 2016 में उसे वापस अफगानिस्तान भेज दिया गया था. 


नेशनल ज्योग्राफिक की ‘अफगान गर्ल' को पाकिस्तान ने देश से वापस भेजा

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


सितंबर की शुरुआत में रोम ने कहा था कि उसने अगस्त में तालिबान द्वारा सत्ता पर कब्जा करने के बाद से अफगानिस्तान से करीब 5,000 अफगानों को निकाला था. इटली ने इस महीने की शुरुआत में कहा था कि उसने अफगानिस्तान की पहली महिला मुख्य अभियोजक मारिया बशीर को नागरिकता दी थी, जब वह 9 सितंबर को यूरोपीय देश में आई थी.