इजराइल के हवाई हमलों में 42 लोगों की मौत, गाजा सिटी में तीन इमारतें नष्ट

इजराइल ने हमास को ज्यादा से ज्यादा नुकसान पहुंचाने के लिए हालिया दिनों में हमले तेज कर दिए हैं. वहीं, अंतरराष्ट्रीय वार्ताकार भी दोनों पक्षों के बीच मध्यस्थता का प्रयास कर रहे हैं.

इजराइल के हवाई हमलों में 42 लोगों की मौत, गाजा सिटी में तीन इमारतें नष्ट

प्रतीकात्मक तस्वीर.

गाजा सिटी :

इजराइल द्वारा रविवार को गाजा सिटी पर किए गए हवाई हमलों में तीन इमारतें नष्ट हो गईं और कम से कम 42 लोग मारे गए. इजराइल और हमास के बीच एक सप्ताह पहले शुरू हुए संघर्ष के बाद यह सबसे भीषण हमला था. इजराइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने संकेत दिया कि संघर्षविराम के अंतरराष्ट्रीय प्रयासों के बावजूद इजराइल और फलस्तीनियों के बीच चौथी लड़ाई जारी रहेगी. नेतन्याहू ने रविवार शाम टेलीविजन पर प्रसारित अपने संदेश में कहा कि हमले ‘‘पूरी ताकत के साथ'' जारी हैं और इसमें ‘‘समय लगेगा.''उनके साथ एकजुटता व्यक्त करने के लिए उनके रक्षा मंत्री एवं उनके राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी बेनी गैंट्ज भी थे. उन्होंने कहा कि इजराइल गाजा के उग्रवादी हमास शासकों से ‘‘भारी कीमत वसूलना चाहता है.'' गाजा के स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि हमले में मारे गए लोगों में 16 महिलाएं और 10 बच्चे भी शामिल हैं, जबकि 50 से अधिक लोग घायल हुए हैं. इसने कहा कि राहत एवं बचाव कार्य अब भी जारी है.

सैन्य अभियान पूरी ताकत से जारी, अभी और समय लगेगा : इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू 

इससे पहले इजराइली सेना ने कहा कि उसने दक्षिणी शहर खान यूनिस में अलग हवाई हमले में गाजा के शीर्ष हमास नेता याहिया सिनवार के आवास को जमींदोज कर दिया. हमास के वरिष्ठ नेताओं के घरों पर पिछले दो दिनों में यह तीसरा हमला है. वहीं, हमले के मद्देनजर हमास के कई नेता भूमिगत हो गए हैं. इजराइल ने हमास को ज्यादा से ज्यादा नुकसान पहुंचाने के लिए हालिया दिनों में हमले तेज कर दिए हैं. वहीं, अंतरराष्ट्रीय वार्ताकार भी दोनों पक्षों के बीच मध्यस्थता का प्रयास कर रहे हैं, लेकिन हमास के नेताओं को निशाना बनाए जाने से इन प्रयासों में मुश्किलें आ सकती हैं.

पूर्वी यरुशलम में इस महीने की शुरुआत में तनाव तब शुरू हुआ जब फलस्तीनियों ने शेख जर्रा में उन्हें बेदखल किए जाने के खिलाफ प्रदर्शन किया और इजराइली पुलिस ने अल-अक्सा मस्जिद में कार्रवाई की. यह लड़ाई पिछले सोमवार को शुरू हुई जब यरुशलम को बचाने का दावा करने वाले हमास ने लंबी दूरी के रॉकेट दागे. संघर्ष अन्य जगहों पर भी फैल गया है. वेस्ट बैंक और इजराइल में भी कई जगहों पर यहूदी और अरब नागरिकों के बीच झड़पें हुई हैं.

इस संघर्ष में गाजा में 55 बच्चे और 33 महिलाओं समेत 188 फलस्तीनी मारे गए हैं और 1,230 लोग जख्मी हुए हैं. वहीं, इजराइल में आठ लोगों की मौत हुई है जिनमें पांच साल का एक बच्चा भी शामिल है. इजराइली सेना ने रविवार को कहा कि उसने हमास के सबसे वरिष्ठ नेता याहिया सिनवार के घर को निशाना बनाया जो समूह के बाकी शीर्ष नेताओं के साथ संभवत: वहां छिपा था. इजराइल ने शनिवार को हमास की राजनीतिक शाखा के प्रमुख नेता खलील अल-हायेह के घर पर बम गिराए थे. हमास और इस्लामी जेहाद उग्रवादी समूह ने स्वीकार किया है कि सोमवार को संघर्ष शुरू होने के बाद से उसके 20 लड़ाके मारे गए हैं.

मिस्र के एक राजनयिक ने कहा कि हमास के राजनीतिक नेताओं को निशाना बनाने से संघर्षविराम के प्रयासों पर असर पड़ेगा. हमास और अन्य उग्रवादी समूहों ने इजराइल पर करीब 2,900 रॉकेट दागे हैं. वहीं, इजराइली सेना का कहना है कि 450 रॉकेट थोड़ी दूर जाकर ही गिर गए जबकि वायुसेना की प्रतिरक्षा प्रणाली ने 1,150 रॉकेटों को मार गिराया.
इजराइल ने गाजा की तरफ सैकड़ों हवाई हमले किए हैं जहां करीब 20 लाख फलस्तीनी रहते हैं. इसने गाजा सिटी की सबसे ऊंची इमारत को गिरा दिया और कहा कि इसमें हमास की सेना से जुड़े दफ्तर थे. वहीं, शनिवार को एक बहुमंजिला इमारत को ध्वस्त कर दिया जिसमें ‘द असोसिएटेड प्रेस' और अन्य मीडिया संस्थानों के कार्यालय थे.

‘एपी' का कार्यालय इस इमारत में पिछले 15 वर्षों से था यानी कि इजराइल और हमास के बीच पहले के तीन युद्धों के दौरान भी उसने इसी इमारत से काम किया लेकिन कभी उसे सीधे निशाना नहीं बनाया गया. मीडिया संस्थानों के कार्यालय जिस इमारत में थे, उस पर दोपहर को हुए हमले से पहले इजराइली सेना ने इमारत के मालिक को फोन कर इसे निशाना बनाए जाने की चेतावनी दी थी. इसके बाद ‘एपी' के कर्मचारी एवं अन्य लोगों ने तत्काल इमारत को खाली कर दिया था.

‘एपी' के अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी गैरी प्रुइट ने एक बयान में कहा, ‘‘आज जो भी हुआ, उसके कारण गाजा में जो भी हो रहा है उसके बारे में दुनिया ज्यादा नहीं जान पाएगी.'' उन्होंने कहा कि अमेरिकी समाचार एजेंसी इजराइल सरकार से जानकारी ले रही है तथा इसके बारे में और अधिक जानने के लिए अमेरिका के विदेश विभाग के साथ बातचीत कर रही है. नेतन्याहू ने दोहराया कि समाचार संगठनों के कार्यालयों वाली जिस इमारत को इजराइल ने निशाना बनाया, उसमें हमास का कार्यालय था. हालांकि उन्होंने अपने दावे के पक्ष में कोई सबूत नहीं दिया.
उन्होंने सीबीएस के ‘फेस द नेशन' कार्यक्रम में कहा कि संबंधित इमारत में हमास का कार्यालय था और इसे निशाना बनाना सही है.

यह पूछे जाने पर कि क्या उन्होंने अमेरिकी राष्ट्रपति जो. बाइडन के साथ हुई अपनी बातचीत में इस बारे में कोई सबूत दिया, उन्होंने कहा कि ‘‘हम इसे अपने गुप्तचरों के माध्यम से देते हैं.'' उन्होंने इजराइल की ओर से युद्ध रोकने की कोई समयसीमा नहीं दी और कहा, ‘‘हम उम्मीद करते हैं कि यह ज्यादा लंबा न चले, लेकिन हमपर हमास ने हमला किया था.'' यह पूछे जाने पर कि हमास ने मिस्र की मध्यस्थता में संघर्षविराम पर सहमति जताई है, लेकिन इजराइल ने नहीं, नेतन्याहू ने कहा, ‘‘मैं इस बारे में नहीं जानता.'' 


भारत ने इजराइल-गाजा हिंसा में तत्काल कमी लाने की जरूरत पर बल दिया

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इस बीच, वेस्ट बैंक में एक यहूदी उपासना गृह में एक अस्थायी ढांचा ढहने से लगभग 60 लोग घायल हो गए जिनमें से 10 की हालत गंभीर बताई जाती है. हादसा शाम की प्रार्थना के समय हुआ जिसमें सैकड़ों लोग मौजूद थे. इस घटना से कुछ सप्ताह पहले इजराइल में एक धार्मिक उत्सव के दौरान भगदड़ की एक घटना में 45 लोगों की मौत हो गई थी.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)