विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Feb 23, 2023

भारत मुझे भविष्य की आशा देता है : बिल गेट्स  

बिल गेट्स ने कहा कि भारत ने टीकों को वितरित करने के लिए कारखाने बनाने और बड़े पैमाने पर वितरण चैनल बनाने के लिए विशेषज्ञों और फंडर्स (गेट्स फाउंडेशन सहित) के साथ काम किया. 2021 तक, 83 प्रतिशत 1 वर्ष के बच्चों को रोटावायरस के खिलाफ टीका लगाया गया था. 

भारत मुझे भविष्य की आशा देता है : बिल गेट्स  
बिल गेट्स ने अपने ब्लॉग में यह भी बताया कि वे अगले सप्ताह भारत आ रहे हैं.
कैलिफोर्निया:

माइक्रोसॉफ्ट के सह-संस्थापक और बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के सह-अध्यक्ष बिल गेट्स ने अपने ब्लॉग "गेट्स नोट्स" में कहा कि भारत भविष्य के लिए आशा देता है और साबित करता है कि यह देश अपनी बड़ी समस्याओं को हल कर सकता है, भले ही दुनिया कई संकटों का सामना कर रही हो. .अपने ब्लॉग में, बिल गेट्स ने कहा कि उनका मानना ​​है कि सही नवाचारों (Right innovations)और वितरण चैनलों (Delivery Channels)के साथ दुनिया एक साथ कई बड़ी समस्याओं पर प्रगति करने में सक्षम है. ऐसे समय में जब दुनिया कई संकटों का सामना कर रही है तो आमतौर पर उन्हें इसका जवाब मिलता है कि एक ही समय में दोनों के लिए पर्याप्त समय या पैसा नहीं है. लेकिन भारत ने सभी जवाबों को गलत साबित कर दिया. गेट्स ने अपने ब्लॉग में कहा, "भारत ने जो उल्लेखनीय प्रगति हासिल की है, उससे बेहतर कोई सबूत नहीं है."

बड़ी चुनौतियों से निपट सकता है भारत
बिल गेट्स ने कहा, "भारत मुझे भविष्य के लिए आशा देता है. यह दुनिया का सबसे अधिक आबादी वाला देश बनने वाला है, जिसका अर्थ है कि आप वहां बड़े पैमाने परिवर्तन किए बिना अधिकांश समस्याओं को हल नहीं कर सकते, और फिर भी, भारत ने साबित कर दिया है कि यह बड़ी चुनौतियों से निपट सकता है." इस देश ने पोलियो का उन्मूलन किया, एचआईवी संचरण को कम किया, गरीबी को कम किया, शिशु मृत्यु दर में कमी आई और स्वच्छता और वित्तीय सेवाओं तक पहुंच में वृद्धि हुई." माइक्रोसॉफ्ट के सह-संस्थापक ने यह भी कहा कि भारत ने नवाचार के लिए एक विश्व-अग्रणी दृष्टिकोण विकसित किया है, जो यह सुनिश्चित करता है कि समाधान उन लोगों तक पहुंचे, जिन्हें उनकी आवश्यकता है. जब रोटावायरस वैक्सीन, जो डायरिया के कई घातक मामलों का कारण बनने वाले वायरस को रोकता है, हर बच्चे तक पहुंचने के लिए बहुत महंगा था, तो भारत ने खुद ही वैक्सीन बनाने का फैसला किया.भारत ने टीकों को वितरित करने के लिए कारखाने बनाने और बड़े पैमाने पर वितरण चैनल बनाने के लिए विशेषज्ञों और फंडर्स (गेट्स फाउंडेशन सहित) के साथ काम किया. 2021 तक, 83 प्रतिशत 1 वर्ष के बच्चों को रोटावायरस के खिलाफ टीका लगाया गया था, और ये कम लागत वाले टीके अब दुनिया भर के अन्य देशों में उपयोग किए जा रहे हैं. 

भारत का कृषि भविष्य अभी पूसा के खेत में बढ़ रहा
पूसा में भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (IARI) में वित्त पोषण (funding)के बारे में बात करते हुए, बिल गेट्स ने कहा, "गेट्स फाउंडेशन ने IARI में शोधकर्ताओं के काम का समर्थन करने के लिए भारत के सार्वजनिक क्षेत्र और CGIAR संस्थानों से हाथ मिलाया. उन्हें एक नया समाधान मिला : काबुली चना की उपज 10 प्रतिशत से अधिक है और अधिक सूखा प्रतिरोधी हैं. किसानों के लिए एक किस्म पहले से ही उपलब्ध है, और अन्य वर्तमान में संस्थान में विकसित हो रही हैं. परिणामस्वरूप, भारत अपने लोगों को खिलाने और किसानों को मदद करने के लिए बेहतर तरीके से तैयार है. यह कहना अतिश्योक्ति नहीं होगी कि भारत का कृषि भविष्य अभी पूसा के खेत में बढ़ रहा है. जलवायु, भुखमरी, और स्वास्थ्य जैसी चुनौतियां दुर्गम लगने के कारणों में से एक यह है कि हमारे पास अभी तक उन्हें हल करने के लिए सभी उपकरण नहीं हैं. लेकिन मैं आशावादी हूं कि जल्द ही एक दिन हम आईएआरआई के शोधकर्ताओं जैसे नवप्रवर्तकों (innovators) को धन्यवाद देंगे." इस बीच, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी मीडिया प्रकाशनों में से एक में गेट्स के प्रकाशित ब्लॉग को साझा किया है.

अगले सप्ताह भारत आ रहे हैं  बिल गेट्स
गेट्स ने अपने ब्लॉग में यह भी बताया कि वे अगले सप्ताह भारत आ रहे हैं, ताकि नवप्रवर्तकों और उद्यमियों द्वारा किए जा रहे कार्यों को देख सकें. कुछ सफलता पाने के नजदीक हैं, जो दुनिया को जलवायु परिवर्तन के प्रभावों को कम करने में मदद करेंगे, जैसे विद्युत मोहन और उनकी टीम द्वारा दूरस्थ कृषि समुदायों में अपशिष्ट को जैव ईंधन और उर्वरक में बदलने के लिए किया जा रहा काम. अन्य लोग एक गर्म दुनिया को अनुकूल बनाने में मदद करने के लिए नए तरीके खोज रहे हैं, जैसे कि IARI के अधिक सूखा-सहिष्णु फसलों को बनाने के प्रयास. मैं उस प्रगति को देखने के लिए उत्सुक हूं, जो गेट्स फाउंडेशन और ब्रेकथ्रू एनर्जी के अद्भुत भागीदारों द्वारा पहले से ही चल रही हैं. ग्रह पर हर दूसरे देश की तरह, भारत के पास सीमित संसाधन हैं, लेकिन इसने हमें दिखाया है कि कैसे दुनिया उस बाधा के बावजूद अभी भी प्रगति कर सकती है. सहयोग और नए दृष्टिकोणों को आजमाकर सार्वजनिक, निजी और परोपकारी क्षेत्र धन और ज्ञान के जरिए प्रगति कर सकते हैं. अगर हम एक साथ काम करते हैं, तो मेरा मानना ​​है कि हम एक ही समय में जलवायु परिवर्तन से लड़ सकते हैं और वैश्विक स्वास्थ्य में सुधार कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें-
शहबाज शरीफ ने पाकिस्तान को आर्थिक चुनौतियों से बचाने के लिए कम खर्च के दिए टिप्स
फ्रांस की कंपनी Hermes ने अपने हर कर्मचारी को दिया ₹ 3,50,000 से अधिक का बोनस

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
'मैं एक कॉल के साथ युद्ध रोक सकता हूं..." : रिपब्लिकन नेशनल कन्वेंशन में ट्रंप का दावा
भारत मुझे भविष्य की आशा देता है : बिल गेट्स  
अब तक 1300 मौतें: मक्का में गर्मी से सबसे ज्यादा मिस्र के हाजी ही क्यों मर रहे? जानिए
Next Article
अब तक 1300 मौतें: मक्का में गर्मी से सबसे ज्यादा मिस्र के हाजी ही क्यों मर रहे? जानिए
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;