विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Nov 27, 2022

चीन में उठी शी चिनफिंग को हटाने की मांग, आग से 10 लोगों की मौत के बाद Covid-19 नियमों के खिलाफ प्रदर्शन

मौके पर काफी संख्या में पुलिस भी मौजूद है और उसके सामने ही लोग नारे लगा रहे हैं. चीन की सोशल मीडिया पर भी लोग इस विरोध प्रदर्शन को सपोर्ट कर रहे हैं.

चीन के नागरिकों का रविवार सुबह से शंघाई में विरोध प्रदर्शन शुरू है.

शंघाई:

चीन के लोग आजादी की मांग कर रहे हैं. हैरान मत हों, यह सच है. चीन के नागरिकों का रविवार सुबह से शंघाई में विरोध प्रदर्शन शुरू है. चीन के कई शहरों के यहां आए लोग शी चिनफिंग को हटाओ, चीनी कम्युनिस्ट पार्टी को हटाओ, हमें आजादी चाहिए जैसे नारे लगा रहे हैं. मौके पर काफी संख्या में पुलिस भी मौजूद है और उसके सामने ही लोग नारे लगा रहे हैं. चीन की सोशल मीडिया पर भी लोग इस विरोध प्रदर्शन को सपोर्ट कर रहे हैं. साथ ही पुलिस के प्रदर्शन रोकने पर या गिरफ्तारी से बचने के लिए कई तरह के सुझाव भी दे रहे हैं. 

दरअसल, शिंजियांग क्षेत्र की राजधानी उरुमकी में गुरुवार को एक ऊंची इमारत में आग लगने से 10 लोगों की मौत हो गई. इससे पूरे चीन में गुस्सा फैल गया है. इसका कारण यह है कि लोगों काअनुमान है कि इमारत में आग लगने पर लोग इसलिए समय से नहीं बच सके क्योंकि कोरोना के चीनी नियमों के तहत इमारत आंशिक रूप से बंद थी. हालांकि, शहर के अधिकारियों ने इसे इनकार किया है.

शंघाई चीन का सबसे अधिक आबादी वाला शहर और वित्तीय केंद्र है. यहां निवासी शनिवार की रात शहर के वुलुमुकी रोड पर एकत्र हुए और रविवार सुहब होते-होते यह एक विरोध प्रदर्शन में बदल गया. सोशल मीडिया पर प्रसारित एक वीडियो के अनुसार, शंघाई में भीड़ चिल्ला रही थी "उरुमकी से लॉकडाउन हटाएं, शिंजियांग से लॉकडाउन हटाएं, पूरे चीन से लॉकडाउन हटाएं!" गवाहों और वीडियो के अनुसार, चीनी नेतृत्व के खिलाफ एक दुर्लभ सार्वजनिक विरोध में, एक बड़े समूह ने चिल्लाना शुरू कर दिया, "चीनी कम्युनिस्ट पार्टी को हटाओ, शी चिनफिंग को हटाओ, उरुमकी को मुक्त करें!"

पुलिस यहां काफी संख्या में मौजूद है और कभी-कभी भीड़ को हटाने की कोशिश कर रही है. चीन कोरोना से अब भी जूझ रहा है. इसके कारण देश भर के शहरों में लॉकडाउन और अन्य प्रतिबंध लगे हुए हैं. कोरोना आने के बाद से ही बीजिंग जीरो कोविड ​​​​नीति का पालन कर रहा है. हालांकि, दुनिया के अधिकांश देश कोरोना को काबू कर चुके हैं और मामले आने पर भी अब लॉकडाउन से बच रहे हैं.

राष्ट्रपति शी चिनफिंग की जीरो कोविड नीति को चीन जीवन रक्षक और स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली के ध्वस्त होने से रोकने वाला आवश्यक कदम बताता है. चीनी अधिकारियों ने बढ़ते सार्वजनिक विरोध और अपनी अर्थव्यवस्था पर पड़ते असर के बावजूद इसे जारी रखने का इरादा जताया है. चीनी सोशल मीडिया पर व्यापक रूप से साझा किए गए शंघाई के वीडियो में भीड़ पुलिस का सामना कर रही है और नारे लगा रही है: "लोगों की सेवा करो", "हमें स्वास्थ्य कोड नहीं चाहिए" और "हमें आजादी चाहिए".

कुछ सोशल मीडिया उपयोगकर्ताओं ने सेंसर से बचने और शंघाई में प्रदर्शनकारियों से समर्थन दिखाने के लिए वुलुमुकी रोड के लिए सड़क के संकेतों के स्क्रीनशॉट पोस्ट किए. अन्य लोगों ने "आप बहादुर युवा लोगों" नाम से पोस्ट को साझा किया. कई लोगों ने सलाह दी कि अगर पुलिस आती है या विरोध या सतर्कता के दौरान लोगों को गिरफ्तार करना शुरू कर देती है तो क्या करना चाहिए.

देशभर में गुस्सा

शंघाई के 25 मिलियन लोगों को इस साल की शुरुआत में दो महीने के लिए लॉकडाउन में रखा गया था. इसने लोगों के गुस्से और विरोध को भड़का दिया है. चीनी अधिकारियों ने COVID प्रतिबंधों में छूट देने की कोशिश की थी, लेकिन इससे कोरोना संक्रमण में वृद्धि देखी गई. चीन अपनी पहली सर्दी का सामना अत्यधिक संक्रामक ओमिक्रॉन संस्करण के साथ कर रहा है. चीन में कोरोना के मामलों की संख्या उच्च स्तर पर पहुंच गई है.

चीन के स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि रविवार को लगभग 40,000 नए संक्रमणों की सूचना है. उरुमकी के 4 मिलियन निवासियों को 100 दिनों तक अपने घरों से बाहर निकलने पर रोक लगा दी गई थी. रॉयटर्स के साथ साझा किए गए एक वीडियो में बीजिंग के निवासियों को राजधानी के एक अज्ञात हिस्से में शनिवार को एक ओपन-एयर कारपार्क के आसपास मार्च करते हुए दिखाया गया है. इसमें वह चिल्ला रहे थे "लॉकडाउन समाप्त करें!" बीजिंग सरकार ने शनिवार को टिप्पणी के अनुरोध का तुरंत जवाब नहीं दिया.

यह भी पढ़ें-

चीन का पीछा नहीं छोड़ रहा कोरोना, एक दिन में आए करीब 40 हजार केस
UP के कानपुर में शिक्षक का कारनामा : 2 का टेबल नहीं सुनाया तो स्टूडेंट के हाथ पर ड्रिल मशीन चला दी
"गालियों की राजनीति..." : योगी आदित्यनाथ के प्रहार का अरविंद केजरीवाल ने दिया जवाब


 

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
एक फोन पर युद्ध रोक सकता हूं... जब अपनी पार्टी के अधिवेश में कुछ ज्यादा ही बोल गए डोनाल्ड ट्रंप
चीन में उठी शी चिनफिंग को हटाने की मांग, आग से 10 लोगों की मौत के बाद Covid-19 नियमों के खिलाफ प्रदर्शन
अब तक 1300 मौतें: मक्का में गर्मी से सबसे ज्यादा मिस्र के हाजी ही क्यों मर रहे? जानिए
Next Article
अब तक 1300 मौतें: मक्का में गर्मी से सबसे ज्यादा मिस्र के हाजी ही क्यों मर रहे? जानिए
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;