हमले की नई चेतावनी के बीच काबुल हवाई अड्डे के पास रॉकेट से घर पर हुआ हमला: रिपोर्ट

अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद से आतंकी हमलों का खतरा बढ़ गया है. आज काबुल एयरपोर्ट के समीप आतंकियों ने रॉकेट से हमला किया है. हमले में एक घर क्षतिग्रस्त हो गया है.

काबुल:

अफगानिस्तान (Afghanistan) की राजधानी काबुल (Kabul) में रविवार को एएफपी के पत्रकारों ने एक जोरदार धमाका सुना. इसके कुछ घंटे पहले ही अमेरिकी अधिकारियों ने आतंकवादी हमले की संभावना की चेतावनी दी थी. हाल ही में अपदस्थ सरकार के एक सुरक्षा अधिकारी ने एएफपी को बताया कि यह एक रॉकेट से किया गया हमला था. शुरुआती सूचना से पता चलता है कि हमले में एक घर क्षतिग्रस्त हुआ है.

काबुल में रविवार को संदिग्ध रॉकेट विस्फोट से अफगानिस्तान में अब और भी ज्यादा भय का माहौल है. इस हमले से कुछ देर पहले ही अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने काबुल में एक और आतंकी हमले के संभावनाओं की चेतावनी दी थी. अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद हजारों अफगानों को एयरलिफ्ट किया गया है. तालिबान के दो हफ्ते पहले सत्ता में वापस आने के बाद से अमेरिका के नेतृत्व वाली निकासी के माध्यम से लगभग 114,000 लोग देश छोड़ चुके हैं.

अमेरिका ने अपने नागरिकों को तुरंत काबुल एयरपोर्ट के गेट छोड़ने को कहा, आतंकी हमले की आशंका

पहले से ही एक अराजक और हताश करने वाला ऑपरेशन गुरुवार को खूनी हो गया जब इस्लामिक स्टेट समूह के स्थानीय आत्मघाती हमलावर ने अमेरिकी सैनिकों को निशाना बनाया और लोगों की भारी भीड़ को हवाई अड्डे में प्रवेश करने से रोक दिया.

हमले में 100 से अधिक लोगों की मौत हो गई, जिसमें 13 अमेरिकी सेवा कर्मी भी शामिल थे. पेंटागन ने शनिवार को कहा कि जवाबी ड्रोन हमलों में पूर्वी अफगानिस्तान में दो "उच्च-स्तरीय" आईएस जिहादी मारे गए. अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन आतंकी समूह द्वारा और हमले किए जाने की संभावनाओं की चेतावनी दी है.

बाइडेन ने कहा, "जमीन पर स्थिति बेहद खतरनाक बनी हुई है और हवाईअड्डे पर आतंकवादी हमलों का खतरा बना हुआ है." "हमारे कमांडरों ने मुझे सूचित किया कि अगले 24-36 घंटों में हमले की अत्यधिक संभावना है."

काबुल में अमेरिकी दूतावास ने बाद में प्रवेश द्वार सहित हवाई अड्डे के विशिष्ट क्षेत्रों में बड़े खतरों की चेतावनी जारी की.

रविवार की देर दोपहर, शहर के उत्तरी क्षेत्र में एक जोरदार धमाका सुना गया. अफगान के पूर्व सुरक्षा अधिकारी ने कहा कि यह एक रॉकेट हमला था और इसमें एक घर क्षतिग्रस्त हो गया. अधिक विवरण तुरंत उपलब्ध नहीं थे.

हाल के वर्षों में, इस्लामिक स्टेट का अफगानिस्तान-पाकिस्तान अध्याय उन देशों में कुछ सबसे घातक हमलों के लिए जिम्मेदार रहा है. उन्होंने मस्जिदों, सार्वजनिक चौकों, स्कूलों और यहां तक ​​कि अस्पतालों में नागरिकों का नरसंहार किया है.


भारत समेत सभी देशों के साथ अच्छे संबंध चाहते हैं: तालिबान के प्रवक्ता

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


जबकि आईएस और तालिबान दोनों कट्टर सुन्नी इस्लामवादी हैं, वे एक दूसरे के दुश्मन हैं. दोनों ही जिहाद के सच्चे ध्वजवाहक होने का दावा करते रहे हैं.