UP: PM नरेंद्र मोदी पहुंचे वाराणसी, 'भगवान शिव की नगरी' को देंगे कई सौगात

पीएम यहां पर 744 करोड़ रुपये की 68 से अधिक परियोजनाओं का लोकार्पण और 839 करोड़ रुपये की 160 से अधिक परियोजनाओं का शिलान्यास करेंगे.

UP: PM नरेंद्र मोदी पहुंचे वाराणसी, 'भगवान शिव की नगरी' को देंगे कई सौगात

एयरपोर्ट पर यूपी के राज्‍यपाल और सीएम ने प्रधानमंत्री मोदी की अगवानी की

नई दिल्ली:

UP: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) अब से कुछ देर पहले अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी पहुंच गए हैं. वह यहां पर 744 करोड़ रुपये की 68 से अधिक परियोजनाओं का लोकार्पण और 839 करोड़ रुपये की 160 से अधिक परियोजनाओं का शिलान्यास करेंगे. यूपी के शहर वाराणसी के एयरपोर्ट पर राज्‍यपाल आनंदी बेन पटेल और यूपी के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने उनका स्‍वागत किया. पीएम मोदी इन सभी योजनाओं की सौगात आईआईटी बीएचयू (IIT BHU) के ग्राउंड में जनसभा के दौरान देंगे. इस जनसभा में 5000 लोगों के बैठने की व्यवस्था कोविड प्रोटोकॉल के तहत की गई है.


पीएम मोदी जिन प्रमुख योजनाओं का लोकार्पण करेंगे, उसमें वाराणसी को जापान के सहयोग से बने हाईटेक कन्वेंशन सेंटर 'रुद्राक्ष', गोदौलिया पर बनी मल्टीस्टोरी पार्किंग, स्मार्ट स्कूल, गौरव पथ, रो-रो क्रूज, अस्सी से राजघाट के बीच पर्यटन क्रूज, बीएचयू में 100 बेड का मातृ शिशु विंग, ड्राइवर प्रशिक्षण के केंद्र, वाराणसी-गाजीपुर मार्ग पर बने आरओबी सहित अन्य योजनाएं शामिल हैं. प्रधानमंत्री मोदी तकरीबन यहां 5 घंटे तक रहेंगे और उसके बाद फिर वह दिल्ली रवाना हो जाएंगे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


जानकारी के अनुसार, सम्मेलन केंद्र ‘रुद्राक्ष' में 108 रुद्राक्ष लगाए गए हैं और इसकी छत शिवलिंग के आकार में बनाई गई है. यह पूरी इमारत रात में एलईडी लाइट से जगमगाएगी. यह दो मंजिला केंद्र सिगरा क्षेत्र में 2.87 हेक्टेयर भूमि पर बनाया गया है और इसमें 1,200 लोगों के बैठने की क्षमता है.अधिकारियों ने बताया कि इस परियोजना का उद्देश्य वाराणसी में अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन केंद्र में लोगों को सामाजिक और सांस्कृतिक संवाद के अवसर प्रदान करना है. यह अंतरराष्ट्रीय सम्मेलनों, प्रदर्शनियों, संगीत समारोहों और अन्य कार्यक्रमों के आयोजन के लिए उचित जगह है तथा इसके गलियारे को भित्ति चित्रों से सजाया गया है.‘जापान इंटरनेशनल कोऑपरेशन एजेंसी' से सहायता प्राप्त ‘वाराणसी इंटरनेशनल कोऑपरेशन एंड कन्वेंशन सेंटर' (वीसीसी) के मुख्य हॉल को जरूरत पड़ने पर छोटे स्थानों में विभाजित किया जा सकता है.