चुनाव से पहले कांवड़ियों को नाराज नहीं करना चाहती UP सरकार? गढ़मुक्तेश्वर में तैयारियां शुरू, लाखों के जुटने की संभावना

गढ़मुक्तेश्वर में कांवड़ के मद्देनजर तैयारियां शुरु हो गई हैं. गढ़मुक्तेश्वर में तैयारियों के नाम पर सिर्फ घाट पर बांस बल्लियां ही लगाई गई है.

चुनाव से पहले कांवड़ियों को नाराज नहीं करना चाहती UP सरकार? गढ़मुक्तेश्वर में तैयारियां शुरू, लाखों के जुटने की संभावना

प्रतीकात्मक तस्वीर.

लखनऊ:

उत्तराखंड सरकार के कांवड़ यात्रा पर रोक लगाने के बाद यूपी के गढ़मुक्तेश्वर में कांवड़ यात्रा के लिए लाखों लोगों के जुटने की संभावना है. हालांकि, मामला सुप्रीम कोर्ट में है लेकिन गढ़मुक्तेश्वर में कांवड़ के मद्देनजर तैयारियां शुरु हो गई हैं. गढ़मुक्तेश्वर में तैयारियों के नाम पर सिर्फ घाट पर बांस बल्लियां ही लगाई गई है. इस बीच गढ़मुक्तेश्वर में गंगा समिति के संचालकों ने उप्र सरकार से कांवड़ यात्रा करवाने के लिए अनलॉक करने की एक नई मांग रख दी है.

गंगा आरती समिति गढ़मुक्तेश्वर के संचालक कपिल नागर ने कहा, हमने उप्र सरकार कों पत्र लिखकर कहा है कि शनिवार और रविवार को जो कोविड का लॉकडाउन होता है उसमें भी छूट दी जाए ताकि कांवरियों को दिक्कत न हो. 

Uttarakhand में कांवड़ियों को रोकने के लिए पुलिस के अलावा तैनात होंगी विशेष टीमें

उधर मामला सुप्रीम कोर्ट में होने के चलते प्रशासन असमंजस में है. कांवड़ यात्रा को लेकर दिन में अधिकारियों की इस तरह की बैठक हो रही है तो रात को पुलिस आसपास के इलाकों में गश्त कर रही है. कोविड की दूसरी लहर में हरिद्वार के कुंभ स्नान में काफी लोग संक्रमित हुए थे लेकिन गढ़मुक्तेश्वर में घाटों के संचालक कोविड की तीसरी लहर की संभावना के बीच कावड़ यात्रा में कोरोना प्रोटोकॉल को लेकर आश्वस्त हैं.

लोगों की जान सर्वोपरि, कांवड़ यात्रा पर करें पुनर्विचार : UP सरकार से सुप्रीम कोर्ट


उप्र में अगले साल चुनाव है लिहाजा कांवड़ यात्रा पर रोक लगाकर श्रद्धालुओं की नाराजगी का जोखिम सरकार नहीं लेना चाहती है इसलिए सबकी निगाहें सुप्रीम कोर्ट पर टिकी है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


कांवड़ के लिए वीकेंड को अनलॉक करने की क्यों मांग कर रहे हैं गढ़मुक्तेश्वर के लोग