Uttarakhand में कांवड़ियों को रोकने के लिए पुलिस के अलावा तैनात होंगी विशेष टीमें

Uttarakhand: कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए उत्तराखंड सरकार ने कांवड़ यात्रा को स्थगित कर दिया है. कांवड़ियों को रोकने के लिए पुलिस फोर्स के साथ क्यूआरटी की तैनाती की जाएगी.

Uttarakhand में कांवड़ियों को रोकने के लिए पुलिस के अलावा तैनात होंगी विशेष टीमें

Kanwar Yatra: कांवड़ियों को रोकने के लिए उत्तराखंड सरकार उठाएगी कदम (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली:

कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी के मद्देनजर उत्तराखंड (Uttarakhand) सरकार ने कांवड़ यात्रा को स्थगित कर दिया है. कांवड़ियों को राज्य में प्रवेश करने से रोकने के लिए कई कदम उठाए जा रहे हैं. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, कांवड़ियों की उत्तराखंड में एंट्री रोकने के लिए राज्य की सीमाओं पर पुलिस के साथ क्विक रिएक्शन टीमें (QRT) तैनात की जाएंगी. कोविड-19 की वजह से राज्य सरकार ने कांवड़ यात्रा 2021 (Kanwar Yatra 2021) को स्थगित करने का फैसला किया है. 

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव ने कहा कि कांवड़ मेले के दौरान अगर राज्यों से गंगाजल लाने की मांग होगी तो हम पूरा सहयोग करेंगे. पानी के टैंकरों के माध्यम से हरिद्वार से गंगाजल ले जाने की अनुमति मिलेगी. 

कांवड़ यात्रा का मामला शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में भी उठा. सुप्रीम कोर्ट में यूपी सरकार ने कहा कि हम केवल प्रतीक के तौर पर कांवड़ यात्रा चाहते हैं . इस पर सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार को विचार करने का एक मौका दिया. कोर्ट ने कहा कि हम यूपी को अपने फैसलों पर पुनर्विचार करने का एक और मौका दे रहे हैं. अनुच्छेद-21, जीने का अधिकार हम सभी पर लागू होता है. यूपी यात्रा पूरी तरह रद्द करने पर विचार करें.

READ ALSO: जब PM के कार्यक्रम में बिना मास्क, बिना सोशल डिस्टेंसिंग के भीड़ लाई जा सकती है, तो कांवड़ यात्रा पर नौटंकी क्यों...? रवीश का तंज


सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि भारत के नागरिकों का स्वास्थ्य और जीवन का अधिकार सर्वोपरि है. अन्य सभी भावनाएं चाहे धार्मिक हों, इस मौलिक अधिकार के अधीन हैं. यूपी सरकार फिर से विचार करे. मामले की अगली सुनवाई सोमवार को होगी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वीडियो: कांवड़ यात्रा को लेकर सुप्रीम कोर्ट सख्त, यूपी सरकार को सीधे चेतावनी