Paytm पर बिना झंझट आसानी से बुक कर सकते हैं वैक्सीनेशन स्लॉट, जानें तरीका

पेटीएम के इस फीचर का इस्तेमाल करने के लिए भी आपको रजिस्ट्रेशन करना पड़ेगा. कोविन (COWIN) पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन के बाद आप पेटीएम पर स्लॉट बुक कर सकते हैं. तो आइए जानते हैं कि आप कैसे पेटीएम ऐप के जरिए वैक्सीनेशन स्लॉट बुक कर सकते हैं. 

Paytm पर बिना झंझट आसानी से बुक कर सकते हैं वैक्सीनेशन स्लॉट, जानें तरीका

Paytm पर भी आप कोविड-19 के लिए वैक्सीनेशन स्लॉट बुक कर सकते हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली:

पॉपुलर पेमेंट गेटवे पेटीएम (Paytm) ने कुछ समय पहले ही यह घोषणा की थी कि अब पेटीएम यूजर कोविड 19 वैक्सीनेशन अपॉइंटमेंट (Covid 19 Vaccination Appointment) पेटीएम ऐप के जरिए कर पाएंगे. इस ऐप के जरिए आप  वैक्सीनेशन स्लॉट्स बुक कर सकेंगे. पेटीएम का यह फीचर वैक्सीन लोकेटर बॉट से अलग है जो यूजर को किसी क्षेत्र या एज ग्रुप के लिए खाली वैक्सीनेशन स्लॉट की जानकारी देता है.   

रजिस्ट्रेशन की पड़ेगी जरूरत 

पेटीएम के इस फीचर का इस्तेमाल करने के लिए भी आपको रजिस्ट्रेशन करना पड़ेगा. कोविन (COWIN) पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन के बाद आप पेटीएम पर स्लॉट बुक कर सकते हैं.

Paytm पर बुक करें LPG सिलेंडर, 900 रुपये के कैशबैक सहित मिलेंगे कई फायदे, देखें डिटेल्स

तो आइए जानते हैं कि आप कैसे पेटीएम ऐप के जरिए वैक्सीनेशन स्लॉट बुक कर सकते हैं. 

स्टेप 1- सबसे पहले फोन में पेटीएम ऐप को ओपन करें और स्क्रॉल डाउन करें. 
स्टेप 2- इसके बाद 'Featured' सेक्शन में जाएं .
स्टेप 3- इसके बाद 'वैक्सीन फाइंडर' ऑप्शन पर क्लिक करें.
स्टेप 4- पिन कोड और डिस्ट्रिक्ट के आधार पर स्लॉट सर्च करें .
स्टेप 5- एज ग्रुप, डोज और सेंटर सिलेक्ट करें. 
स्टेप 6- कोविन के साथ रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर एंटर करें.
स्टेप 7- ओटीपी एंटर करने के बाद 'बुक नाउ' ऑप्शन पर क्लिक करें. 

इस पूरी प्रक्रिया के बाद पेटीएम पर आपको अपॉइंटमेंट स्लिप मिलेगी जिसे आपको वैक्सीनेशन से पहले सेंटर पर दिखाना होगा. यह स्लिप दिखाकर आप वैक्सीन की पहली डोज ले सकते हैं.


Aarogya Setu ऐप पर खुद अपडेट कर सकते हैं अपना 'वैक्सीनेशन स्टेटस' अपडेट, ये है तरीका

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


भारत में मौजूदा समय में तेजी से वैक्सीनेशन किया जा रहा है. मौजूदा समय में करीब 20 फीसदी लोग वैक्सीन की पहली डोज ले चुके हैं. वहीं 4 फीसदी से ज्यादा लोगों को दोनों डोज लग चुकी हैं. वर्तमान में भारत में 5 लाख से ज्यादा एक्टिव केस हैं. भारत में दूसरी लहर अब धीमी पड़ चुकी है और संक्रमण के मामलों में लगातार गिरावट देखी जा रही है.