मां ने शराब के पैसे नहीं दिए तो हत्या कर दिल, किडनी और आंतें निकालीं, कलयुगी बेटे को मौत की सजा

जो मां एक बच्चे को जन्म देकर इस दुनिया में लाती है, वही बच्चा खूंखार जानवर बन जाए तो क्या ही कहा जाएगा. एक कलयुगी बेटे ने मां की हत्या कर शव के टुकड़े किए और तेल नमक मिर्च लगाकर खाया. इस बेटे को कोर्ट ने मौत की सजा सुनाई है.

मां ने शराब के पैसे नहीं दिए तो हत्या कर दिल, किडनी और आंतें निकालीं, कलयुगी बेटे को मौत की सजा

बेटे ने मां की हत्या कर शव के टुकड़े-टुकड़े किए...

मुंबई:

महाराष्ट्र में मां की हत्या कर शव के टुकड़े-टुकड़े कर खाने वाले को कोर्ट ने मौत की सजा सुनाई है. दोषी को शराब के लिए मां से पैसे चाहिए थे, न देने पर उसने मां की हत्या कर दी. इस कलयुगी बेटे ने हत्या के बाद शव के टुकड़े कर नमक- मिर्च लगाकर उन्हें खाया भी. दिल दहलाने वाली इस वारदात के बारे में सुनकर हर कोई हैरान था.महाराष्ट्र के कोल्हापुर की एक अदालत ने मां की बर्बरतापूर्वक हत्या के मामले में बृहस्पतिवार को 35 वर्षीय व्यक्ति को मौत की सजा सुनाई है. जिला एवं सत्र न्यायाधीश महेश जाधव ने इसे दुर्लभतम मामला बताया और सुनील कुचिकोरवी को मृत्युदंड सुनाया.

अभियोजन पक्ष के अनुसार उसने अपनी 62 वर्षीय मां की हत्या की और उनके शव को चीरकर सारे अंग निकाल लिए. इसके नरभक्षण कृत्य होने का संदेह था, क्योंकि जब आरोपी पकड़ा गया था तो उसकी मां के अंग रसोई में नमक, तेल और मिर्च पाउडर लगे हुए पाए गए थे और उसके मुंह में खून था. रिपोर्ट्स के मुताबिक- उसके हाथों में खून देखकर पड़ोसियों ने पुलिस को सूचना दी थी.


दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने बदमाश जावेद पेजर को किया अरेस्ट, 17 मामलों में है आरोपी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


ये घटना 28 अगस्त 2017 को कोल्हापुर शहर के मकड़वाला वसाहाट में हुई थी. उस समय इस बारे में सुनकर ही लोग दहल गए थे.  दरअसल, 'कुचिकोरवी शराब का आदी था. घटना वाले दिन उसने अपनी मां से शराब खरीदने के लिए कुछ पैसे मांगे थे और जब मां ने मना किया तो उसने धारदार हथियार से उसकी हत्या कर दी. इसके बाद आरोपी ने उसके शरीर के दाहिने हिस्से को चीर दिया और दिल, किडनी, आंतों और अन्य अंगों को निकाल कर किचन के प्लेटफॉर्म पर रख दिया. 
उन्होंने कहा कि कम से कम 12 गवाहों से पूछताछ की गई और चूंकि कोई चश्मदीद गवाह नहीं था, इसलिए अदालत ने परिस्थितिजन्य साक्ष्य के आधार पर कुचिकोरवी को दोषी करार दिया. अदालत ने मामले को दुर्लभतम मानते हुए उसे मौत की सजा सुनाई.
 



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)