मुंबई में दिखा दलित समुदाय के बंद का असर, कई बसें तोड़ीं, रेल सेवा की बाधित

मुंबई में दलितों के प्रदर्शन के कारण यातायात में होने वाली दिक्कतों को देखते हुए डब्बावालों ने आज सेवा रोकने का फैसला किया है.

मुंबई में दिखा दलित समुदाय के बंद का असर, कई बसें तोड़ीं, रेल सेवा की बाधित

बीआर अंबेडकर के पोते ने किया महाराष्ट्र बंद का आह्वान.

खास बातें

  • बीआर अंबेडकर के पोते ने किया महाराष्ट्र बंद का आह्वान
  • हिंसा की आग मुंबई तक पहुंची
  • कई इलाक़ों में एहतियातन धारा 144 लगा दी गई है
मुंबई:

मुंबई में दलितों के प्रदर्शन के कारण आज मुुंबई में लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा. बंद के दौरान सरकारी परिवहन की बसों पर पथराव की छिटपुट घटनाओं को छोड़ दें तो स्थिति सामान्य है. बंद की वजह से कई स्कूलों तथा बाजारों को आज बंद रखा गया है. राज्य में दलित नेताओं के बंद के आह्वान के बीच आज मुंबई में एक बार फिर बसों को निशाना बनाया गया. दलित नेता भीमा-कोरेगांव लड़ाई की 200वीं सालगिरह के दौरान भड़की हिंसा का विरोध कर रहे हैं. प्रदर्शनकारियों ने इस दौरान रेल सेवा को भी बाधित किया.

प्रदर्शन के मद्देनजर जगह-जगह रोड ब्लॉक किए गए थे. लेकिन अब खबर आ रही है कि पश्चिमी एक्सप्रेसवे को अब खोल दिया गया है. वहीं, रमाबाई अंबेडकर नगर के निकट यातायात नाकाबंदी के कारण पूर्वी एक्सप्रेसवे पर यातायात प्रभावित है. असुविधा से बचने के लिए आवागमन को बदल दिया गया है मुंबई के चेम्बूर जोन 6 के डीसीपी शहाजी उमाप ने कहा कि मंगलवार की हिंसा पर अभी तक कुल 8 मामले दर्ज किए गये हैं और 15 लोग गिरफ्तार भी किये जा चुके हैं. बुधवार सुबह से कड़ा बंदोबस्त रखा गया है और स्थिति बिगड़ने नहीं दी जाएगी. मुंबई के एनएम जोशी मार्ग पर प्रदर्शनकारियों ने जबरन कई दुकानें बंद कराई.

 


मुंबई में दलितों के प्रदर्शन के कारण यातायात में होने वाली दिक्कतों को देखते हुए डब्बावालों ने आज सेवा रोकने का फैसला किया है. वहीं, सेंट्रल रेलवे के सीपीआरओ का इस संबंध में बयान आया है. उन्होंने बताया कि कुछ प्रदर्शनकारियों ने ठाणे में रेल सेवा बाधित करने की कोशिश की, लेकिन सीआरपीएफ और अधिकारियों ने स्थिति को संभाल लिया. ये मामला आज संसद में भी उठेगा. राज्‍यसभा में समाजवादी पार्टी के सांसद नरेश अग्रवाल और कांग्रेस सांसद रजनी पटेल ने दिया स्‍थगन प्रस्‍ताव दिया. वहीं लोकसभा में नेता विपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने स्‍थगन प्रस्‍ताव दिया है. औरंगाबाद में रोकी गई इंटरनेट सेवा और बस सर्विस भी प्रभावित है.अब अगले आदेश तक पुणे के बारामती से सतारा तक की रेल सेवा रोक दी गई है. वहीं हड़ताल को देखते हुए ठाणे के कई स्कूलों को बंद कर दिया गया है.
महाराष्ट्र बंद के बाद लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है.आलम यह है कि लोग ऑटो रिक्शा के लिए लंबी लाइनों में लगे हैं
 
एक जनवरी को पुणे के भीमा कोरेगांव में दलित समाज के शौर्य दिवस पर भड़की हिंसा के विरोध में दलित संगठनों ने आज महाराष्ट्र बंद का एलान किया है. खबर आ रही है कि प्रदर्शनकारियों ने महाराष्ट्र के ठाणे रेलवे स्टेशन पर ट्रेन रोक दी है. कोरेगांव हिंसा को देखते हुए ठाणे में अब 4 जनवरी तक धारा 144 लगा दी गई है.मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आज पूरे महाराष्ट्र में लोकल ट्रेन से लेकर स्कूल और हाइवे बंद रहेंगे. मराहाष्ट्र बंद होने से राज्य की 40 हजार बसें नहीं चलेंगी और पुणे हाईवे भी बंद रहेगा.


इस संबंध में बीआर अंबेडकर के पोते प्रकाश अंबेडकर ने हिंसा रोकने में सरकार की विफलता के खिलाफ प्रदर्शन करने के लिए आज महाराष्ट्र बंद का आह्वान किया है. 63 साल के प्रकाश अंबेडकर ने कहा कि 250 से अधिक दलित संगठनों का इस बंद को समर्थन है. बंद को देखते हुए सुरक्षा के पुख़्ता इंतज़ाम किए गए हैं. कई इलाक़ों में एहतियातन धारा 144 लगा दी गई है. 

यह भी पढ़ें: दलितों के प्रदर्शन की आंच मुंबई तक पहुंची, कई इलाकों में तनाव, 10 खास बातें

प्रकाश अंबेडकर ने सोमवार की हिंसा को उकसाने के लिए स्थानीय तीन नेताओं पर आरोप लगाया है. इस हिंसा में एक आदमी की मृत्यु हो गई थी. उन्होंने पत्रकारों से कहा कि इसके लिए तीन व्यक्तियों को दोषी ठहरा रहा हूं. जिनमें सम्बाजी भिडे, मिलिंद एकगोटे और तीसरा घुघेश है. इससे पहले मंगलवार को महाराष्ट्र में कई जगह हिंसा हुई. मुंबई में जगह-जगह रास्ता रोका गया, ट्रेनें रोकने की कोशिश की गई. जिसकी वजह से बड़ी तादाद में लोग पूर्वी एक्सप्रेस हाइवे पर जाम में भी फंस गए.आगजनी और पत्थरबाज़ी की भी घटनाएं हुईं. पुणे में दो गुटों में हुई टकराव में एक शख़्स की मौत हो गई थी.

यह भी पढ़ें: बाबासाहब भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा अदालत परिसर से हटाए जाने से हड़ताल पर बैठे वकील

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा है कि कोरेगांव हिंसा की न्यायिक जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट में अर्ज़ी देंगे..वहीं, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस मामले में ट्वीट कर बीजेपी और आरएसएस पर फासिस्ट सोच होने का आरोप लगाया है. बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने कहा है कि ये जो घटना घटी है ये रोकी जा सकती थी. सरकार को वहां सुरक्षा का उचित प्रबंध करना चाहिए था.

VIDEO: पुणे हिंसा की आग महाराष्ट्र के कई शहरों में फैली
मायावती ने कहा है कि वहां बीजेपी की सरकार है और सरकार ने हिंसा कराई है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com