VIDEO: टिकट को लेकर पटना में रविशंकर प्रसाद और बीजेपी के राज्यसभा सांसद के समर्थकों के बीच जमकर मारपीट

पटना में आज भारतीय जनता पार्टी के ही दो दिग्गज नेताओं के समर्थकों के बीच जमकर मारपीट हुई.

VIDEO: टिकट को लेकर पटना में रविशंकर प्रसाद और बीजेपी के राज्यसभा सांसद के समर्थकों के बीच जमकर मारपीट

रविशंकर प्रसाद (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

लोकसभा चुनाव 2019 के मद्देनजर बीजेपी ने भले ही बिहार में सीटों का बंटवारा कर लिया हो, मगर अब पार्टी के भीतर से ही असंतोष की लहर सामने आने लगी है. पटना में आज भारतीय जनता पार्टी के ही दो दिग्गज नेताओं के समर्थकों के बीच जमकर मारपीट हुई. पटना एयरपोर्ट के बाहर बीजेपी कार्यकर्ताओं के समूह ने केंद्रीय मंत्री और पटना साहिब से उम्मीदवार रविशंकर प्रसाद के खिलाफ प्रदर्शन किया. इतना ही नहीं, बीजेपी कार्यकर्ताओं ने रविशंकर प्रसाद गो बैक और आरके सिन्हा जिंदाबाद (बीजेपी के राज्यसभा सांसद) के नारे लगाए. 

दरअसल, मंगलवार को दोपहर में पटना एयरपोर्ट पर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद और बीजेपी के ही सांसद आरके सिन्हा के समर्थकों के बीच जमकर मारपीट हुई है. बताया जा  रहा है कि राज्यसभा सांसद आर के सिन्हा भी टिकट चाहते थे, मगर उन्हें बीजेपी ने टिकट नहीं दिया. यही वजह है कि आरके सिन्हा के समर्थकों (बीजेपी कार्यकर्ता) ने रविशंकर प्रसाद के खिलाफ हल्ला बोल दिया. बता दें कि आरके सिन्हा प्राइवेट सुरक्षा एजेंसी चलाते हैं और पास पटना शहर में भी चौकीदारों की एक बड़ी फ़ौज है. 


समाचार एजेंसी एएनआई ने एक वीडियो जारी किया है, जिसमें पटना एयर पोर्ट के बाहर बड़ी संख्या में आरके सिन्हा के समर्थक दिख रहे हैं. इनके हाथों में काले रंग का कपड़ा है, जिससे रविशंकर प्रसाद का विरोध कर रहे हैं. बता दें कि बीजेपी ने इस बार शत्रुघ्न सिन्हा का टिकट काटकर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद को अपना उम्मीदवार बनाया है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बीजेपी के कार्यकर्ता रविशंकर प्रसाद की उम्मीदवारी पर भी सवाल उठा रहे हैं और कह रहे हैं कि बीजेपी ने कार्यकर्ताओं का अपनान किया है और ऐसे लोगों को टिकट दिया है, जो समाज में कभी नहीं आते. पटना एयरपोर्ट पर बीजेपी कार्यकर्ताओं का बड़ा हुजूम देखने को मिला और सभी जमकर नारेबाजी करते दिखे. दोनों नेताओं के समर्थकों में मारपीट के वीडियो में अमर्यादित और अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया गया है, जिसकी वजह से उसे सार्वजनिक नहीं किया जा सकता.