विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Nov 09, 2022

लोन एप के जरिए जबरन वसूली करने वाले गैंग का भंडाफोड़, चीनी महिला समेत 2 गिरफ्तार

एक सामान्य नागरिक जिसे 5000 रुपये से 10000 रुपये तक के छोटे लोन की सख्त जरूरत थी, उसे लाखों में भी भुगतान करने के लिए मजबूर किया जा रहा है. इसके चलते देश में कई नागरिकों के आत्महत्या करने की कई घटनाएं भी सामने आई हैं.

Read Time: 4 mins
लोन एप के जरिए जबरन वसूली करने वाले गैंग का भंडाफोड़, चीनी महिला समेत 2 गिरफ्तार
गिरफ्तार सभी आरोपी चीनी नागरिकों के इशारे पर काम कर रहे थे.
नई दिल्ली:

दिल्ली पुलिस ने लोन एप के जरिए जबरन वसूली करने वाले गैंग को पकड़ा है. इसमें चीनी महिला समेत 2 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. बताया जाता है कि इस लोन एप के माध्यम से इन लोगों ने 150 करोड़ से ज्यादा की जबरन वसूली की है. दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल की इंटेलिजेंस फ्यूजन एंड स्ट्रैटेजिक ऑपरेशंस (आईएफएसओ) यूनिट ने लोन देने के नाम पर जबरन वसूली और ठगी करने वाले इस गैंग का भंडाफोड़ किया है.

आईएफएसओ (IFSO) के डीसीपी प्रशांत गौतम के मुताबिक एनसीआरपी पोर्टल पर दिल्ली पुलिस को कई शिकायतें मिल रही थीं कि लोन एप के जरिये लोन देने के बहाने लोगों से जबरन वसूली और ठगी की जा रही है और पैसे नहीं देने पर आरोपी, पीड़ितों की तस्वीरें मॉर्फ्ड कर उन्हें वायरल करने के नाम पर जबरन उगाही कर रहे हैं. आईएफएसओ ने इसका संज्ञान लिया और एनसीआरपी में शिकायतों का विश्लेषण शुरू किया.

शिकायतों के विश्लेषण के दौरान पता चला कि 100 से ज्यादा ऐसे एप कर्ज और रंगदारी रैकेट में शामिल हैं. यह पाया गया कि सभी ऐप उपयोगकर्ता के निजी डेटा में सेंध लगा रहे हैं. उपयोगकर्ता की कॉन्टेक्ट लिस्ट, चैट, मैसेज और तस्वीरों जैसे व्यक्तिगत डेटा हासिल कर उन्हें भारत और विदेशों में सर्वर पर अपलोड किया जा रहा था.

यह देखा गया कि एक सामान्य नागरिक जिसे 5000 रुपये से 10000 रुपये तक के छोटे लोन की सख्त जरूरत थी, उसे लाखों में भी भुगतान करने के लिए मजबूर किया जा रहा है. इसके चलते देश में कई नागरिकों के आत्महत्या करने की कई घटनाएं भी सामने आई हैं. मामले की संवेदनशीलता को ध्यान में रखते हुए आईएफएसओ ने ऐसे एप के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है.

आईएफएसओ ने इन ऐप्स पर मामले दर्ज किए थे और इससे पहले इसमें शामिल 22 लोगों को गिरफ्तार किया था. इसके बाद एसआई मंजीत, एसआई मनोज द्वारा एसीपी सुनील पांचाल की देखरेख में छापेमारी की, यह पाया गया कि नेटवर्क दिल्ली, कर्नाटक, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, गुजरात और देश के अन्य हिस्सों में फैला हुआ है. छापेमारी में एक चीनी महिला नागरिक यू झांग और हरियाणा निवासी विनीत झावेर को गिरफ्तार किया है. इनके पास से 3 लैपटॉप, 13 मोबाइल फोन,  7 क्रेडिट/डेबिट कार्ड, 2 हार्ड डिस्क, 4 सिम कार्ड और 3 चेक बुक बरामद हुए हैं.

गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ में पता चला है कि ये अन्य चीनी नागरिकों के इशारे पर काम कर रहे हैं. एप्स की जांच से ये भी पता चला है कि कुछ एप्लिकेशन चीन से अपलोड किए गए थे. इन मामलों में अन्य चीनी नागरिकों की पहचान की जा रही है और उनका पता लगाने और उन्हें गिरफ्तार करने के प्रयास किए जा रहे हैं. अब तक, विनीत झावर और चीनी नागरिक यू झांग द्वारा उपलब्ध कराए खातों के माध्यम से 150 करोड़ रुपये ज्यादा रुपये का लेनदेन हुआ है.

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
स्मृति ईरानी के खिलाफ ना करें अभद्र भाषा का इस्तेमाल : राहुल गांधी की कार्यकर्ताओं से खास अपील
लोन एप के जरिए जबरन वसूली करने वाले गैंग का भंडाफोड़, चीनी महिला समेत 2 गिरफ्तार
मनी लॉन्ड्रिंग केस में सत्येंद्र जैन की याचिका खारिज, स्वास्थ्य के आधार पर मांगी थी अंतरिम जमानत
Next Article
मनी लॉन्ड्रिंग केस में सत्येंद्र जैन की याचिका खारिज, स्वास्थ्य के आधार पर मांगी थी अंतरिम जमानत
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;