कर्नाटक की 4 सीटों के लिए राज्यसभा चुनाव : क्रॉसवोटिंग के आरोप, चौथी सीट की लड़ाई पर बना हुआ है रहस्य

जद (एस) प्रमुख एचडी कुमारस्वामी ने एनडीटीवी को दिए एक साक्षात्कार में कांग्रेस पर भाजपा उम्मीदवार को हराने में कोई दिलचस्पी नहीं होने का आरोप लगाया. 

नई दिल्ली:

कर्नाटक की चार सीटों के लिए राज्यसभा चुनाव के लिए मतदान जारी है.  चौथी सीट पर सस्पेंस के बीच दो प्रमुख विपक्षी दलों कांग्रेस और जनता दल (सेक्युलर) के बीच गर्मागर्म मुकाबला हुआ है. जेडीएस के दो विधायकों ने क्रॉस वोट किया. कांग्रेस के पक्ष में जेडीएस नेता कुमारस्वामी ने माना कि 32 में से 30 विधायकों ने पार्टी का साथ दिया. कुमारस्वामी ने आरोप लगाए के कांग्रेस आलाकमान ने जेडीएस जैसी सेक्युलर पार्टी के उम्मीदवार का साथ ना देकर बीजेपी को मजबूत किया है. जद (एस) प्रमुख एचडी कुमारस्वामी ने एनडीटीवी को दिए एक साक्षात्कार में कांग्रेस पर भाजपा उम्मीदवार को हराने में कोई दिलचस्पी नहीं होने का आरोप लगाया. 

कर्नाटक की चार सीटों के लिए छह उम्मीदवारों ने नामांकन दाखिल किया है, जिससे चौथी सीट के लिए कड़ा मुकाबला हुआ है. जद (एस) ने कथित तौर पर कांग्रेस की हरकत को रोकने के लिए अपने विधायकों को एक होटल में स्थानांतरित कर दिया था, जिस पर उन्होंने चुनाव जीतने के लिए "गंदी राजनीति" करने का आरोप लगाया है.

पूर्व मुख्यमंत्री और विपक्ष के नेता सिद्धारमैया पर सीधे निशाना साधते हुए कुमारस्वामी ने एनडीटीवी से कहा कि कांग्रेस नेता को हमें हारता देखने के पूर्वाग्रह से ग्रस्त हैं. भाजपा ने तीन उम्मीदवार, कांग्रेस ने दो उम्मीदवार और जनता दल (सेक्युलर) ने एक उम्मीदवार उतारा है. पार्टियों के बीच चल रही खींचतान चौथी सीट को लेकर है.

इस चुनौतीपूर्ण चुनाव में संभावनाओं को लेकर बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने कहा कि हम अपने उम्मीदवार हम अपने उम्मीदवार लहर सिंह द्वारा लड़ी गई एक सहित सभी तीन सीटें जीतेंगे. राज्यसभा चुनाव में एक उम्मीदवार को जीतने के लिए 45 वोटों की जरूरत होती है. भाजपा आराम से दो सीटें जीत सकती है और कांग्रेस अपनी मौजूदा ताकत के आधार पर एक सीट जीत सकती है. हालांकि बीजेपी के पास 32 और कांग्रेस के पास 24 सीटें हैं. जद (एस) के पास भी 32 हैं. चौथी सीट जीतने के लिए पर्याप्त संख्या में वोट नहीं होने के बावजूद तीनों पार्टियों ने अपने उम्मीदवार उतारे हैं. 

कुमारस्वामी ने कहा कि उनकी पार्टी ने कांग्रेस से उनके उम्मीदवार के लिए दूसरे तरजीही वोट के लिए अनुरोध किया था. उन्होंने दावा किया कि पुरानी पार्टी के विधायकों के इन वोटों में से 22 वोट भी उनके उम्मीदवार को एलिमिनेशन राउंड के लिए अग्रणी स्थिति में लाएंगे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


जद (एस) प्रमुख ने आरोप लगाया कि मैंने कांग्रेस से अनुरोध किया था कि यदि आप भाजपा को हराना चाहते हैं तो हमें समर्थन दें और हमारे उम्मीदवार का समर्थन करें, लेकिन सिद्धारमैया चाहते थे कि हम अपना उम्मीदवार वापस ले लें. दोनों पार्टियों ने बीजेपी को हराने की कसम खाई है, लेकिन कोई भी रेस से हटने को तैयार नहीं है.