विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Feb 06, 2023

राजस्‍थान : निर्दलीय विधायक का केंद्र और राज्‍य सरकार के खिलाफ 'मैराथन प्रदर्शन'

विधायक बलजीत यादव ने NDTV से कहा, "देखिए मैं किसी सरकार का हिस्सा नहीं हूं. मैं किसी सरकार का समर्थन नहीं कर रहा हूं. मैं राजस्थान के लोगों, समुदाय और बेरोजगारों का समर्थन करता हूं."

Read Time: 3 mins
राजस्‍थान : निर्दलीय विधायक का केंद्र और राज्‍य सरकार के खिलाफ 'मैराथन प्रदर्शन'
विधायक बलजीत यादव ने सुबह 7.15 बजे दौड़ना शुरू किया जो शाम 6.15 बजे समाप्त हुआ.
जयपुर:

राजस्थान (Rajasthan) में अशोक गहलोत सरकार का समर्थन कर रहे एक निर्दलीय विधायक ने युवाओं और किसानों को लेकर राज्य और केंद्र सरकार की नीतियों के विरोध में मैराथन दौड़ लगाई. बहरोड़ के विधायक बलजीत यादव (MLA Baljeet Yadav) ने उम्मीद जताई कि 10 फरवरी को पेश होने वाले राज्य के बजट से पहले उनकी दौड़ किसानों और युवाओं पर ध्यान केंद्रित करेगी. यादव उन 12 निर्दलीय विधायकों में शामिल हैं जो राजस्थान में कांग्रेस सरकार को बाहर से समर्थन दे रहे हैं. 

यह पूछे जाने पर कि क्या वह राज्य में अपनी ही सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं, यादव ने NDTV से कहा, "देखिए मैं किसी सरकार का हिस्सा नहीं हूं. मैं किसी सरकार का समर्थन नहीं कर रहा हूं. मैं राजस्थान के लोगों, समुदाय और बेरोजगारों का समर्थन करता हूं."

उन्‍होंने कहा, "मैंने सरकार से लोगों की मांगों को पूरा करने के लिए कहा है. बेरोजगारों को नौकरी दें, किसानों के खेतों में पानी पहुंचाएं.  यदि आप ऐसा करते हैं तो मैं सक्रिय रूप से आपके साथ खड़ा रहूंगा. यदि नहीं तो मैं लोगों के साथ खड़ा रहूंगा और आपका विरोध करूंगा." 

यादव चाहते हैं कि राज्य के युवाओं को सरकारी नौकरी दी जाए. साथ ही वे सरकारी परीक्षा में पेपर लीक का मुद्दा भी उठा रहे हैं. उनकी मांग कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और मुख्यमंत्री गहलोत के राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी सचिन पायलट की तर्ज पर है कि सरकार को पेपर लीक के लिए जिम्मेदार "बड़ी मछली" के पीछे जाने की जरूरत है. 

दो पेपर लीक मामलों के बाद राज्य में हड़कंप मच गया. राज्य में शिक्षक भर्ती के लिए रीट परीक्षा का पेपर 2021 में लीक हो गया था. वहीं पिछले साल दिसंबर में सीनियर टीचर एग्‍जाम का सामान्य ज्ञान का पेपर भी लीक हो गया था. 

यादव ने कहा कि केंद्र सरकार के खिलाफ उनकी शिकायत में सशस्त्र बलों की भर्ती शामिल है. उन्‍होंने कहा, "हर साल, 80,000 से 1 लाख लोग सेना में शामिल होते हैं. वे ज्यादातर गांवों के युवा होते हैं, जो शारीरिक रूप से फिट होते हैं, सहनशक्ति रखते हैं और बहादुर होते हैं. कुछ सालों से उन्होंने भर्ती बंद कर दी थी. उन्होंने अग्निवीर योजना के तहत भर्ती शुरू कर दी है. अब वे चार साल बाद सेवानिवृत्त होंगे." 

सुबह 7.15 बजे शुरू हुई मैराथन शाम 6.15 बजे समाप्त हुई. इस दौरान उनके साथ दर्जनों समर्थक थे, जिन्होंने बारी-बारी से उनके साथ दौड़ लगाई. 

ये भी पढ़ें :

* राजस्‍थान के MLA की अनूठी पहल, केंद्र-राज्‍य की नीतियों के खिलाफ लगा रहे दौड़
* दिल्ली से जयपुर सिर्फ दो घंटे में : PM मोदी 12 फरवरी को दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे के सोहना-दौसा खंड का करेंगे उद्घाटन
* राजस्थान: तीन राज्यों में वांटेड और ₹ 1.5 लाख का इनामी डकैत केशव गुर्जर मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
तीन साल में 47 प्रतिशत भारतीयों से हो चुकी है वित्तीय धोखाधड़ी: सर्वेक्षण
राजस्‍थान : निर्दलीय विधायक का केंद्र और राज्‍य सरकार के खिलाफ 'मैराथन प्रदर्शन'
'पवन नहीं, आंधी है...' कौन हैं पवन कल्याण, क्या करती हैं पत्नी और बच्चे, जानिए सबकुछ
Next Article
'पवन नहीं, आंधी है...' कौन हैं पवन कल्याण, क्या करती हैं पत्नी और बच्चे, जानिए सबकुछ
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;