विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Mar 28, 2023

सरकार ने बिना मांगे एसबीआई में 8,800 करोड़ रुपये की पूंजी डाली : कैग रिपोर्ट

रिपोर्ट के अनुसार, विभाग ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक में पूंजी डालते समय भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के निर्धारित मानदंडों से भी आगे बढ़कर राशि जारी की.

Read Time: 2 mins
सरकार ने बिना मांगे एसबीआई में 8,800 करोड़ रुपये की पूंजी डाली : कैग रिपोर्ट
(फाइल फोटो)
नई दिल्ली:

वित्तीय सेवा विभाग (डीएफएस) ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में पूंजी डाले जाने की पहल के तहत वित्त वर्ष 2017-18 में भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) को 8,800 करोड़ रुपये दिये थे. हालांकि देश के सबसे बड़े बैंक ने इस राशि की मांग नहीं की थी. देश के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) ने सोमवार को संसद में पेश रिपोर्ट में यह कहा.

कैग ने मार्च, 2021 को समाप्त वित्त वर्ष के लिये अनुपालन ऑडिट रिपोर्ट में कहा कि वित्त मंत्रालय के अंतर्गत आने वाले विभाग ने पूंजी डाले जाने से पहले अपने मानकों के तहत पूंजी जरूरत का आकलन नहीं किया.

नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक ने केंद्र सरकार (आर्थिक और सेवा मंत्रालयों) पर 2023 की रिपोर्ट में कहा, ‘‘वित्तीय सेवा विभाग (डीएफएस) ने 2017-18 में 8,800 करोड़ रुपये की पूंजी एसबीआई में डाली. यह राशि देश के सबसे बड़े बैंक में कर्ज वृद्धि के मकसद से डाली गयी, हालांकि इसकी कोई मांग नहीं की गयी थी. विभाग ने पूंजी डालने से पहले अपने मानदंडों के तहत पूंजी जरूरतों का आकलन नहीं किया.''

रिपोर्ट के अनुसार, विभाग ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक में पूंजी डालते समय भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के निर्धारित मानदंडों से भी आगे बढ़कर राशि जारी की.

आरबीआई ने पहले ही देश में बैंकों को लेकर अतिरिक्त एक प्रतिशत की अतिरिक्त पूंजी आवश्यकता निर्धारित की थी. इसके परिणामस्वरूप 7,785.81 करोड़ रुपये का अतिरिक्त पूंजी प्रवाह हुआ.

यह भी पढ़ें -

-- "ऐसी स्पीड देखकर तो उसेन बोल्ट भी..."राहुल गांधी की संसद सदस्यता जाने पर NDTV से बोले पी चिदंबरम
-- उत्तराखंड में G-20 की बैठक से ठीक पहले खालिस्तानी संगठन ने दी धमकी, पुलिस ने बताया पब्लिसिटी स्टंट

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
अपने ही दांव में फंसी बीमा भारती? पाला बदलने के बाद भी नहीं बदली किस्मत, पढ़े इनसाइड स्टोरी
सरकार ने बिना मांगे एसबीआई में 8,800 करोड़ रुपये की पूंजी डाली : कैग रिपोर्ट
अन्य सामाजिक समूहों के साथ अन्याय नहीं होने देंगे: मराठा आरक्षण पर एकनाथ शिंदे
Next Article
अन्य सामाजिक समूहों के साथ अन्याय नहीं होने देंगे: मराठा आरक्षण पर एकनाथ शिंदे
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;