'WARNING! माचिस न जलाएं' : जहरीली गैस से भरे कमरे में मिली मां और दो बेटियों की लाश, हादसा न हो इसके लिए छोड़ा नोट

पुलिस ने दरवाजा खोला तो और पाया कि गैस सिलेंडर आंशिक रूप से खुला था. मौके से एक सुसाइड नोट भी मिला है.  

नई दिल्ली:

दिल्ली के वसंत विहार इलाके में शनिवार देर शाम एक फ्लैट में एक ही परिवार के तीन सदस्य मृत पाए गए. मृतकों की पहचान मंजू और उसकी बेटियों अंशिका और अंकु के रूप में हुई है. बताया जा रहा है कि घर के मुखिया यानि पति की साल 2021 में अप्रैल में कोरोना के कारण मौत हो गई थी. इसके बाद से परिवार काफी अवसाद में था. मंजू बीमारी के कारण बिस्तर पर थी. 

पुलिस को सूचना मिली थी कि वसंत अपार्टमेंट के हाउस नंबर 207 अंदर से बंद है और घर के अंदर के लोग दरवाजा नहीं खोल रहे हैं. इसके बाद एसएचओ स्टाफ के साथ मौके पर पहुंचे तो देखा कि दरवाजे और खिड़कियां चारों तरफ से बंद हैं. फ्लैट अंदर से बंद था. पुलिस ने दरवाजा खोला तो पाया कि गैस सिलिंडर आंशिक रूप से खुला था.

mp6spjao

कमरे की खिड़कियों को प्लास्टिक से कवर किया गया

पुलिस के मुताबिक शनिवार रात करीब 8 बजे पुलिस को सूचना मिली की वसंत अपार्टमेंट में एक फ्लैट का गेट अंदर से बंद है. अंदर रहने वाले गेट नही खोल रहे हैं. जिसके बाद एसएचओ केपी शाह अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंचे, जहां पुलिस टीम ने पाया कि घर का गेट और सभी खिड़की अंदर से बंद थी.

vajf2gqg

प्लास्टिक और टेप की मदद से घर को कुछ इस तरीके से कवर किया गया

पुलिस ने गेट तोड़े और अंदर प्रवेश किया, जहां घर के अंदर तीन अंगीठी जली हुई थी और गैस सिलेंडर खुला हुआ था. वही चेतावनी भरा नोट दीवार पर चिपका हुआ था, पुलिस टीम में घर अंदर के कमरों की जांच की तो वहां तीन शव मौजूद थे. तीनों शव एक ही कमरे में थे. मृतकों की पहचान मां मंजू और बेटी अंशिका और अंकू के रूप के हुई.  पुलिस ने तीनो शव कब्जे में लेकर अस्पताल भेज दिए हैं.  पुलिस की जांच में सामने आया है की मंजू के पति की कोरोना के चलते 2021 में मौत हो गई थी. इसके बाद से पूरा परिवार डिप्रेशन में था.

ei9innn8

घर में जलाई गई अंगीठी से बिखरे पड़े राख

बताया जा रहा है कि घर के अंदर के सारे रोशनदान को पॉलीथिन से पैक किया गया था. घर में अंगीठी जलाई गई. घर का गैस सिलेंडर खोल दिया गया. इसके बाद मां और बेटियों ने दम तोड़ दिया. पुलिस जब घर के अंदर दाखिल हुई तो एक नोट मिला, जिसमें लिखा था, Too much deadly gas. दरवाजा खोलने के बाद माचिस या लाइटर न जलाएं, घर में काफी खतरनाक जहरीली गैस भरी हुई है. दरअसल, ये नोट इसलिए लिखा गया था कि मौत के बाद जब पुलिस अंदर दाखिल हो तब कोई हादसा न हो. बेटियों की उम्र 21 से 25 साल के बीच थी. इन लोगों ने पॉलीथीन और टेप ऑनलाइन मंगाई थी. फिलहाल फोरेंसिक टीम घर का मुआयना कर रही है और मामले की तफ्तीश जारी है. 

हेल्‍पलाइन :
1) वंद्रेवाला फाउंडेशन फॉर मेंटल हेल्‍थ - 9999666555 अथवा help@vandrevalafoundation.com
2) TISS iCall - 022-25521111 (सोमवार से शनिवार तक उपलब्‍ध - सुबह 8:00 बजे से रात 10:00 बजे तक)

(अगर आपको सहायता की ज़रूरत है या आप किसी ऐसे शख्‍स को जानते हैं, जिसे मदद की दरकार है, तो कृपया अपने नज़दीकी मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य विशेषज्ञ के पास जाएं)

ये भी पढ़ें-

MP : मानसिक रूप से बीमार बुजुर्ग की मारपीट के बाद मौत के मामले में आरोपी BJP कार्यकर्ता गिरफ्तार

नवाब मलिक PMLA केस : ED की चार्जशीट पर कोर्ट ने लिया संज्ञान,  D गैंग के साथ साजिश रचने के आरोप

ये भी देखें-असम में बाढ़ क कारण आठ लाख से ज्यादा लोग प्रभावित, चार और लोगों की मौत

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com