"अभी बीजेपी में नहीं हूं " : कांग्रेस छोड़ने के एक दिन बाद बोले हार्दिक पटेल

कांग्रेस की आलोचना करते हुए हार्दिक ने कहा कि पार्टी कभी हिंदुओं के मुद्दों, जैसे कि सीएए या वाराणसी की मस्जिद में मिले शिवलिंग आदि पर कुछ नहीं बोलती.

हार्दिक पटेल ने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए बुधवार को कांग्रेस से इस्‍तीफा दे दिया था

बुधवार को कांग्रेस छोड़ने वाले गुजरात के नेता हार्दिक पटेल (Hardik Patel) ने कहा है कि वे अभी भाजपा में नहीं हैं. भाजपा या आम आदमी पार्टी ज्‍वॉइन करने के बाद में उन्‍होंने अभी कोई निर्णय नहीं लिया है. कांग्रेस पार्टी पर फिर निशाना साधते हुए हार्दिक ने कहा कि उन्‍होंने अपने तीन साल इस पार्टी में बरबाद कर दिए. अहमदाबाद में संवाददाताओं से बात करते हुए हार्दिक ने कहा, 'मैं अभी बीजेपी में नहीं हूं और इस बारे में अभी कोई फैसला नहीं लिया है.' लेकिन उन्‍होंने अयोध्‍या फैसले और जम्‍मू-कश्‍मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्‍छेद 370 को हटाने के लिए बीजेपी की तारीफ कर इस बारे में अटकलों को बरकरार रखा.

इस पाटीदार नेता ने इस्‍तीफे के लेटर में राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए बुधवार को कांग्रेस छोड़ दी थी. हार्दिक ने कहा था कि पार्टी के शीर्ष नेताओं का ध्यान अपने मोबाइल फोन में लगा रहता है और गुजरात कांग्रेस के नेता उनके लिए चिकन सैंडविच का प्रबंध करने में लगे रहते हैं. इस बीच, बीजेपी सूत्रों ने एक सप्‍ताह में 28 वर्षीय हार्दिक के सत्‍तारूढ़ दल में शामिल होने के संकेत दिए हैं. सूत्रों का यह भी दावा है कि वे पिछले दो माह से बीजेपी के साथ बातचीत कर रहे हैं.  यह पूछे जाने पर कि क्या वह भारतीय जनता पार्टी या आप में शामिल हो सकते हैं, पटेल ने बृहस्पतिवार को कहा, “मैंने अभी तक किसी राजनीतिक दल में शामिल होने के बारे में कोई निर्णय नहीं लिया है चाहे वह भाजपा हो या आप. मैं जो भी फैसला लूंगा, वह लोगों के हित में होगा.”

कांग्रेस की आलोचना करते हुए उन्होंने कहा कि पार्टी कभी हिंदुओं के मुद्दों, जैसे कि सीएए या वाराणसी की मस्जिद में मिले शिवलिंग आदि पर कुछ नहीं बोलती. पटेल ने कहा, “इसके अलावा गुजरात कांग्रेस में जातीय राजनीति बहुत ज्यादा होती है. मैंने पार्टी में तीन साल बर्बाद किये.” पटेल को जुलाई 2020 में गुजरात प्रदेश कांग्रेस का कार्यवाहक अध्यक्ष बनाया गया था. हार्दिक ने कहा, 'यह सच्‍चाई है कि कांग्रेस को 2017 के विधानसभा चुनाव में पाटीदार कोटा आंदोलन से फायदा हुआ लेकिन कार्यकारी अध्‍यक्ष बनाने के बावजूद मुझे कोई जिम्‍मेदारी नहीं दी गई. यहां तक कि मुझे पार्टी की अहम बैठकों में भी नहीं बुलाया गया. पिछले तीन वर्ष में मेरी प्रेस कॉन्‍फ्रेंस की भी व्‍यवस्‍था नहीं की गई. ' उन्‍होंने दावा किया कि कांग्रेस की कोई दूरदृष्टि नहीं है और पार्टी के नेता अंबानी और अडानी जैसे गुजरात लोगों के प्रति पक्षपाती हैं. हार्दिक ने कहा, '33 वर्षों से सात-आठ लोग कांग्रेस को चला रहे हैं. मेरे जैसे कार्यकर्ता रोज 500-600 किमी की यात्रा करते हैं. यदि मैं लोगों के बीच जाकर जमीनी हालात का पता लगाने की कोशिश करता हूं तो एसी कमरों में बैठे बड़े नेता, इस प्रयास को बाधित करने का प्रयास करते हैं.'

- ये भी पढ़ें -

* SP नेता आज़म खां को SC से बड़ी राहत, ज़मीन पर कब्ज़े और ठगी मामले में मिली अंतरिम ज़मानत
* पोर्नोग्राफी फिल्म मामला : ED ने राज कुंद्रा के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया
* उत्तराखंड: AAP के CM पद के उम्मीदवार रहे कर्नल कोठियाल ने छोड़ दी पार्टी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पनडुब्‍बी रोधी पी-8 आई विमान में भरी उड़ान