नीतीश सरकार ने विश्वास मत हासिल किया, RJD के तीन विधायकों ने की क्रॉस वोटिंग

बिहार विधानसभा में विपक्ष के बहिर्गमन के बीच नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली राजग सरकार के पक्ष में 129 वोट पड़े.

पटना:

बिहार में नीतीश कुमार सरकार ने विश्वास मत हासिल कर लिया है. नीतीश सरकार के पक्ष में 129 वोट पड़े, आरजेडी के तीन विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की. वहीं कांग्रेस, लेफ्ट और आरजेडी के सदस्यों ने सदन से वॉकआउट किया. 

बिहार में सत्ता खो चुके राष्ट्रीय जनता दल (राजद) को सोमवार को उस समय झटका लगा जब उसके तीन सदस्य बिहार विधानसभा में सत्ता पक्ष के विधायकों के पास जाकर बैठ गए. राजद नेता तेजस्वी यादव ने विधानसभा अध्यक्ष अवध बिहारी चौधरी के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान से पहले पार्टी विधायकों चेतन आनंद, नीलम देवी और प्रह्लाद यादव के सत्तारूढ़ राजग के सदस्यों के बीच बैठने पर आपत्ति जताते हुए व्यवस्था का प्रश्न उठाया. हालांकि, आसन पर मौजूद उपाध्यक्ष महेश्वर हजारी ने व्यवस्था के प्रश्न पर कोई फैसला नहीं दिया.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्य विधानसभा के समक्ष पेश किया गया विश्वासमत प्रस्ताव जीत लिया और विपक्ष के बहिर्गमन के बीच उनके नेतृत्व वाली राजग सरकार के पक्ष में 129 वोट पड़े.

जानिए क्या बोले नीतीश
सीएम नीतीश कुमार ने कहा, अब हम अपनी पुरानी जगह आ गए हैं. अब चिंता मत कीजिए, अबकी बार सब दिन के लिए आए हैं. हम किसी का नुकसान नहीं करेंगे. आप सबके हित के लिए काम करेंगे. आप जिस कम्यूनिटी की बात करते हैं उनके लिए भी काम करते हैं करते रहेंगे. 

'कांग्रेस पार्टी को डर लग रहा था'
NDA के फ्लोर टेस्ट पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा, "जब ये लोग(कांग्रेस और RJD) साथ थे तो हमने बाकि सब लोगों को एकजुट करने के लिए यहां पर बैठक भी की... मैंने इतने दिन मेहनत की और मैं सबको एकजुट कर रहा था लेकिन कुछ हुआ?... कांग्रेस पार्टी को डर लग रहा था. हम बार-बार कह रहे थे कि बाकि पार्टियों को एकजुट कीजिए... हमें बाद में पता चला कि इनके(तेजस्वी यादव) पिता भी उनके(कांग्रेस) साथ हैं तब मुझे पता चला कि कुछ होने वाला नहीं है और फिर मैं अपनी पुरानी जगह(NDA) पर आ गया जहां मैं बहुत पहले था..."

बिहार में अपने शासनकाल के दौरान राजद भ्रष्ट आचरण में लिप्त रहा : नीतीश कुमार

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को आरोप लगाया कि बिहार में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के शासन के दौरान पार्टी भ्रष्ट आचरण में लिप्त थी और राजग के नेतृत्व वाली नई राज्य सरकार इसकी जांच कराएगी. कुमार ने राज्य विधानसभा में अपनी पार्टी जनता दल (यूनाइटेड) द्वारा लाए गए विश्वास प्रस्ताव पर चर्चा में भाग लेते हुए यह भी दावा किया कि राजद के कार्यकाल के दौरान बिहार में कई सांप्रदायिक दंगे हुए. उन्होंने कहा, ‘‘(राजद शासनकाल में) कोई कानून-व्यवस्था नहीं थी. (2005 से पहले) राजद अपने शासनकाल के दौरान भ्रष्ट आचरण में लिप्त था...मैं इसकी जांच कराऊंगा.'' 

NDA के फ्लोर टेस्ट पर बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और राजद नेता तेजस्वी यादव ने कहा, "कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न मिला, बहुत खुशी की बात है. कर्पूरी ठाकुर और मेरे पिता(लालू यादव) के साथ आप(नीतीश कुमार) काम कर चुके हैं... आपको तो ये पता था कि जब कर्पूरी ठाकुर ने आरक्षण बढ़ा दिया तो जनसंघ वालों ने ही कर्पूरी ठाकुर को मुख्यमंत्री पद से हटाया... आप कर्पूरी ठाकुर का नाम लेते हैं, फिर भी आप कहां बैठ गए... वही भाजपा और जनसंघ वाले कहते थे कि आरक्षण कहां से आएगा?..."

ये भी पढ़ें- नीतीश को 'दशरथ' समान मानते, उन्होंने भी 'राम' को मजबूरी में ही वनवास भेजा था : तेजस्वी यादव

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

ये भी पढ़ें- "हमने इज्जत दी थी, वो कमा रहे थे" : विश्वास प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान नीतीश का तेजस्वी पर आरोप